भारत

देश में एटीएम अब भी खाली, सीमापार से आने लगे नकली नोट

नकली नोटों पर लगाम लगाने के लिए लागू की गई नोटबंदी बेअसर होती दिख रही है. बीएसएफ ने पश्चिम बंगाल के मालदा जिले से 2,000 रुपये के 100 नकली नोट जब्त किए.

new-rs-2000-notes

(फाइल फोटो, पीटीआई)

नोटबंदी लागू हुए तीन महीने से ज़्यादा का वक़्त बीत चुका है. देश में अब तक नोटों की पर्याप्त आपूर्ति भले न हो पाई हो, लेकिन सीमापार से नकली नोटों की तस्करी ज़रूर शुरू हो गई है. बीएसएफ ने पश्चिम बंगाल में मालदा जिले से 2,000 रुपये के 100 नकली नोट ज़ब्त किए हैं. पहले से गिरफ़्तार एक तस्कर से मिली सूचना के आधार पर बीएसएफ ने यह कार्रवाई की.

बीते शुक्रवार शाम से लेकर मंगलवार शाम तक राजधानी दिल्ली के तमाम एटीएम ख़ाली मिले. नोटों की किल्लत के मामले में भले ही पहले से कुछ राहत हो, लेकिन लोगों को राजधानी दिल्ली में भी आसानी से नक़दी उपलब्ध नहीं हो पा रही है.

समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक, नोटबंदी के बाद भारत-बांग्लादेश सीमा क्षेत्र से यह नकली नोट की सबसे बड़ी ज़ब्ती है. अधिकारियों ने कहा कि सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की टीम ने चुरियंतपुर इलाक़े में आम के एक बागान में देर रात को दो-दो रुपये के 100 नकली नोटों का एक पैकेट पाया.

बीएसएफ कर्मियों ने भारत की ओर एक संदिग्ध तस्कर को चुनौती दी जो बांग्लादेश की ओर से इस बंडल को प्राप्त करने वाला था, लेकिन वह बागान में अंधेरे का फायदा उठाकर भागने में सफल रहा. बीएसएफ ने बताया कि यह पैकेट सीमा पार से फेंका गया था जो इस बागान में आकर गिरा और इसे बीएसएफ की टीम द्वारा बरामद किया गया.

इसके दो दिन पहले एबीपी न्यूज़ की एक ख़बर के मुताबिक, नई करेंसी की नक़ल करके बनाए गए जाली नोटों को लेकर बीएसएफ अधिकारियों ने एक रिपोर्ट तैयार की कि बांग्लादेश में नकली इंडियन करंसी छप रही है. बांग्लादेश सीमा पर तैनात बीएसएफ के ख़ुफिया विभाग के अधिकारियों ने यह रिपोर्ट दिल्ली स्थित फोर्स-हेडक्वार्टर भेजी है.

बीएसएफ ने इस तस्करी को लेकर अलर्ट जारी करने के साथ सीमा पर तैनात जवानों की ट्रेनिंग के लिए आरबीआई से संपर्क किया है. दरअसल, बांग्लादेश सीमा पर 2000 के नकली नोटों के साथ कुछ तस्करों की गिरफ़्तारी के बाद यह अलर्ट जारी हुआ है.

आठ फरवरी को एनआईए ने मालदा के अजीजुर रहमान को 2000 रुपये के 40 नोटों के साथ गिरफ़्तार किया था.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आठ नवंबर को नोटबंदी का ऐलान किया था. उन्होंने नोटबंदी की जो वजहें बताई थीं उसमें से एक वजह यह भी थी कि नोटबंदी से नकली नोटों पर रोक लगेगी, फलस्वरूप नकली नोटों के जरिये आतंकी फंडिंग को भी रोका जा सकेगा. लेकिन नोटबंदी के तुरंत बाद नकली नोटों की तस्करी यह साबित करती है कि नोटबंदी नकली नोटों पर लगाम का कारगर तरीक़ा नहीं है.

(एजेंसी से इनपुट के साथ)

Comments