नॉर्थ ईस्ट

अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल ने सुरक्षा बलों से कहा, लोगों में सुरक्षा की भावना पैदा करें

अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल ब्रिगेडियर (सेवानिवृत्त) डॉ. बीडी मिश्रा ने एक सुरक्षा बैठक के दौरान सुरक्षा बलों से कहा है कि वे राज्य में उग्रवाद की समस्या से निपटने के लिए पुख्ता तंत्र तैयार करें. उन्होंने कहा हर नागरिक की सुरक्षा और राज्य की हर एक इंच जमीन की रक्षा सरकार की शीर्ष प्राथमिकता है.

अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल ब्रिगेडियर (सेवानिवृत्त) डॉ. बीडी मिश्रा. (फोटो: पीटीआई)

अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल ब्रिगेडियर (सेवानिवृत्त) डॉ. बीडी मिश्रा. (फोटो: पीटीआई)

ईटानगर: अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल ब्रिगेडियर (सेवानिवृत्त) डॉ. बीडी मिश्रा ने सुरक्षा बलों से कहा है कि वे राज्य में उग्रवाद की समस्या से निपटने के लिए पुख्ता तंत्र तैयार करें.

राज्यपाल ने मुख्यमंत्री पेमा खांडू के साथ राजधानी ईटानगर स्थित राजभवन में उच्चस्तरीय सुरक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए बुधवार को कहा कि हरेक नागरिक की सुरक्षा और राज्य की हरेक इंच जमीन की रक्षा सरकार की शीर्ष प्राथमिकता है.

उन्होंने कहा, ‘लोगों में सुरक्षा की भावना पैदा करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए और सशस्त्र बलों एवं राज्य पुलिस के बीच अच्छा समन्वय होना चाहिए, ताकि प्रभावी परिणाम हासिल हो सकें.’

एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार, मिश्रा ने सूचना को तत्काल साझा किए जाने और सीमा सुरक्षा का जिम्मा संभाल रहे अधिकारियों की नियमित बैठकों पर जोर दिया.

राज्यपाल ने सुरक्षा बलों के अधिकारियों से लोगों को कोविड-19 के बारे में जागरूक करने और उन्हें मास्क पहनने, बार-बार हाथ धोने और सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करने के लिए प्रोत्साहित करने को कहा.

उन्होंने राज्य सरकार को सलाह दी कि वह स्थानीय युवाओं को आत्मनिर्भर भारत कार्यक्रमों, कौशल विकास एवं उद्यमिता के लिए प्रेरित करने के तरीके खोजे.

मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों और उनकी आजीविका की रक्षा राज्य सरकार की मुख्य चिंता है और वह यह सुनिश्चित करने के लिए हर संभव कदम उठाएगी.

इससे पहले, दीमापुर स्थित 3 कोर जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल आरपी कलीता और राज्य डीजीपी आरपी उपाध्याय ने बैठक में राज्य के तिरप, लोंगदिंग और चांगलांग जिलों के मौजूदा हालात की जानकारी दी.

अधिकारियों ने बैठक में सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम (आफ्सपा), 1958 के तहत जिलों में अपने निगरानी की जानकारी दी.