दुनिया

कोरोना वायरस: भारत में संक्रमण के नए मामले 45 हज़ार से कम, कुल मामले 80 लाख के क़रीब

मंगलवार को एक दिन में कोविड-19 के 43,893 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 79,90,322 हो गए हैं और मृतक संख्या एक लाख 20 हज़ार से अधिक हो चुकी है.

(फोटो:पीटीआई)

(फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामले 45 हजार से कम रहे, वहीं देश में संक्रमण के कुल मामले 80 लाख के करीब पहुंच गए. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी.

मंत्रालय के सुबह आठ बजे जारी अपडेटेड आंकडों के अनुसार देश में एक दिन में कोविड-19 के 43,893 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 79,90,322 हो गए. वहीं 508 और लोगों की मौत हो जाने से मृतक संख्या बढ़कर 1,20,010 हो गई.

अब तक देश में 72,59,509 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं और इस हिसाब से संक्रमण से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर 90.85 प्रतिशत हो गई है. वहीं संक्रमण से मृत्यु दर 1.50 प्रतिशत है.

इसके अनुसार यह लगातार छठा दिन है, जब उपचाराधीन लोगों की संख्या सात लाख के नीचे बनी हुई है. देश में अभी 6,10,803 लोगों का कोरोना वायरस संक्रमण का इलाज चल रहा है, जो कुल मामलों का 7.64 प्रतिशत है.

भारत में सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख के पार चली गई थी, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितंबर को संक्रमितों की संख्या 40 लाख से ऊपर चली गई थी. मामले 16 सितंबर को 50 लाख के पार, 28 सितंबर को 60 लाख और 11 अक्टूबर को 70 लाख के पार चले गए थे.

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार 27 अक्टूबर तक कुल 10,54,87,680 नमूनों की कोविड-19 की जांच की गई, जिनमें से 10,66,786 नमूनों का परीक्षण मंगलवार को ही किया गया.

देश में संक्रमण से अब तक हुई कुल 1,20,010 मौतों में महाराष्ट्र में 43,463, कर्नाटक में 10,991, तमिलनाडु में 10,983, उत्तर प्रदेश में 6,940, आंध्र प्रदेश में 6,625, पश्चिम बंगाल में 6,604, दिल्ली में 6,356, पंजाब में 4,138 और गुजरात से 3,695 मामले शामिल हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि इनमें से 70 प्रतिशत मरीज अन्य बीमारियों से पीड़ित थे.

वायरस के मामले और मौतें

बीते 24 घंटे या एक दिन में संक्रमण के नए मामलों की बात करें तो बीते 26 अक्टूबर को 45,148, 25 अक्टूबर को 50,129, 24 अक्टूबर को 53,370, 23 अक्टूबर 54,366, 22 अक्टूबर को 55,839, 21 अक्टूबर 54,044, 20 अक्टूबर को 46,790, 19 अक्टूबर को 55,722, 18 अक्टूबर को 61,871, 17 अक्टूबर को 62,212, 16 अक्टूबर को 63,371, 15 अक्टूबर को 67,708, 14 अक्टूबर को 63,509, 13 अक्टूबर को 55,342, 12 अक्टूबर को 66,732, 11 अक्टूबर को 74,383, 10 अक्टूबर को 73,272, नौ अक्टूबर को 70,496, आठ अक्टूबर को 78,524, सात अक्टूबर को 72,049, छह अक्टूबर को 61,267, पांच अक्टूबर को 74,442, चार अक्टूबर को 75,829, तीन अक्टूबर को 79,476, दो अक्टूबर को 81,484, एक अक्टूबर को 86,821 मामले दर्ज किए गए.

सात सितंबर को 90,802 और 30 सितंबर को 80,472 नए मामले दर्ज किए गए थे. सात से 30 सितंबर के बीच नए मामलों की संख्या घटती बढ़ती रही. इस अवधि में 22 सितंबर को 75,083 (न्यूनतम) और 17 सितंबर को 97,894 (अधिकतम) मामले दर्ज किए गए थे, जो अब तक का सर्वाधिक आंकड़ा भी है.

छह सितंबर को संक्रमण के नए मामले पहली बार 90 हजार (90,632) के पार हो गए थे. 28 अगस्त को पहली बार 70 हजार (75,760) के पार, सात अगस्त को पहली बार 60 हजार (62,538) के पार, 30 जुलाई को पहली बार 50 हजार के पार हो गए थे.

इसी तरह 20 जुलाई को यह पहली बार 40 हजार के पार, 16 जुलाई को पहली बार 30 हजार के पार, 10 जुलाई को पहली बार 25 हजार (26,506) के पार, तीन जुलाई को पहली बार 20 हजार के पार, 21 जून को पहली बार 15 हजार के पार और 20 जून को संक्रमण के नए मामलों की संख्या पहली बार 14 हजार के पार हुई थी.

एक दिन या 24 घंटे के दौरान मरने वालों संख्या की बात करें तो बीते 25 अक्टूबर को 578, 24 अक्टूबर को 650, 23 अक्टूबर को 690, 22 अक्टूबर को 702, 21 अक्टूबर को 717, 20 अक्टूबर 587, 19 अक्टूबर को 579, 18 अक्टूबर को 1,033, 17 अक्टूबर को 837, 16 अक्टूबर को 895, 15 अक्टूबर को 680, 14 अक्टूबर को 730, 13 अक्टूबर को 706, 12 अक्टूबर को 816, 11 अक्टूबर को 918, बीते 10 अक्टूबर को 926, नौ अक्टूबर को 964, आठ अक्टूबर को 971, सात अक्टूबर को 986, छह अक्टूबर को 884, पांच अक्टूबर को 903, चार अक्टूबर 940, तीन अक्टूबर को 1,069, दो अक्टूबर को 1,095, एक अक्टूबर को 1,181,

सितंबर महीने में एक दिन में मरने वालों की बात करें, तो एक सितंबर को इनकी संख्या 819 और 29 सितंबर को न्यूनतम 776 थी. इन दो तारीखों के अलाव पूरे महीने हर दिन मरने वालों की संख्या एक हजार से अधिक रही है. 16 सितंबर को 1290 लोगों की जान गई, जो एक दिन में मरने वालों का सर्वाधिक आंकड़ा है.

10 अगस्त से 31 अगस्त तक बीते 24 घंटे या एक दिन में मरने वालों की संख्या 1007 से अधिकतम 1,092 (19 अगस्त का आंकड़ा) के बीच रही. 24 जुलाई से नौ अगस्त के बीच एक दिन या 24 घंटे में मौत का आंकड़ा 700 से लेकर 933 (आठ अगस्त का आंकड़ा) के बीच रहा है. एक जुलाई से 23 जुलाई के बीच यह आंकड़ा 507 से 1,129 के बीच रहा.

11 जून से 30 जून के बीच मरने वालों की संख्या 300 से 500 के अंदर रही है. 22 जून को एक दिन में मरने वालों की संख्या पहली बार 400 से अधिक रही थी. और 11 जून को पहली बार मरने वालों की संख्या 300 के आंकड़े को पार कर गई थी.

दुनियाभर में 4.39 करोड़ से ज़्यादा मामले, 11.66 लाख से अधिक लोगों की मौत

अमेरिका की जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, पूरी दुनिया में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 43,965,951 हो गए हैं और अब तक 1,166,908 लोगों की जान जा चुकी है.

दुनियाभर में कोरोना से अमेरिका सबसे अधिक प्रभावित देश है. यहां संक्रमण के अब तक 8,778,680 मामले सामने आए हैं, जबकि मरने वालों की संख्या 226,711 हो चुकी है.

भारत संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित दूसरा देश है. भारत के बाद तीसरे सर्वाधिक प्रभावित देश ब्राजील में संक्रमण के अब तक 5,439,641 मामले मिले हैं और 157,946 लोग दम तोड़ चुके हैं.

ब्राजील के बाद रूस चौथे स्थान पर है, जहां संक्रमण के 1,537,142 मामले मिले हैं और 26,409 लोगों की जान जा चुकी है.

रूस के बाद पांचवें सर्वाधिक प्रभावित फ्रांस में संक्रमण के 1,244,242 मामले आए हैं, जबकि 35,582 मरीजों की मौत दर्ज की जा चुकी है.

संक्रमण के मामले में अर्जेंटीना को पीछे छोड़ते हुए स्पेन छठवें स्थान पर आ गया है. स्पेन में संक्रमण के 1,116,738 मामले हैं और 35,298 लोगों ने जान गंवा दी है. स्पेन के बाद सातवें सर्वाधिक प्रभावित देश अर्जेंटीना है जहां संक्रमण के 1,116,609  मामले सामने आए हैं और 29,730 मौतें हुई हैं.

अर्जेंटिना के बाद आठवें सर्वाधिक प्रभावित देश कोलंबिया में संक्रमण के 1,033,218 मामले दर्ज हुए हैं, जबकि 30,565 मौतें हुई हैं. कोलंबिया के बाद नौवें प्रभावित देश ब्रिटेन में संक्रमण के 920,664 मामले सामने आए हैं और 45,455 मौतें हुई हैं.

ब्रिटेन के बाद 10वें सर्वाधिक प्रभावित देश मैक्सिको में संक्रमण के 901,268 मामले सामने आ चुके हैं, जबकि 89,814 लोगों की यह महामारी जान ले चुकी है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)