भारत

बिहार विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा समर्थकों ने विजय जुलूस के दौरान मस्जिद में तोड़फोड़ की

बिहार में पूर्वी चंपारण ज़िले के जमुआ गांव का मामला. आरोप है कि समर्थकों ने इस दौरान कई वाहनों में तोड़फोड़ की और जय श्री राम का नारा लगाते हुए मस्जिद का माइक और इसके गेट तोड़ दिए गए. पुलिस ने इस संबंध में दो लोगों को गिरफ्तार किया है.

मस्जिद पर हुए हमले में घायल लोग (फोटोः स्पेशल अरेंजमेंट)

मस्जिद पर हुए हमले में घायल लोग (फोटोः स्पेशल अरेंजमेंट)

नई दिल्लीः बिहार विधानसभा चुनाव में राजग को मिली सफलता के बाद पूर्वी चंपारण के जमुआ गांव में 11 नवंबर को भाजपा समर्थकों ने विजय जुलूस निकाले जाने के दौरान कथित तौर पर एक मस्जिद में तोड़फोड़ की. इस दौरान मस्जिद में नमाज पढ़ रहे पांच लोग घायल हो गए.

इनमें से पीठ पर चोटें लगने के अलावा तीन लोगों के सिर पर चोट लगी है, उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया. वहीं, एक शख्स की नाक पर चोट लगी है.

आरोप है कि इस दौरान कई वाहनों में तोड़फोड़ भी की गई. तोड़फोड़ के दौरान मस्जिद का माइक और इसके गेट तोड़ दिए गए.

जमुआ में मुस्लिमों की छोटी आबादी रहती है. यहां इनके 20 से 25 परिवार हैं और तकरीबन 500 से हिंदू परिवार है. जमुआ ढाका विधानसभा के तहत आता है, जहां भाजपा नेता पवन कुमार जायसवाल ने बीते 10 नवंबर को मतगणना के बाद जीत दर्ज की है.

मस्जिद के केयरटेकर मजहर आलम ने कहा कि मगरिब की नमाज के दौरान मस्जिद पर पथराव किया गया.

उन्होंने द वायर  को बताया, ‘जुलूस में लगभग 500 लोग थे, जो विधानसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार पवन जायसवाल की जीत का जश्न मना रहे थे. जब वे मस्जिद के पास आए तो उन्होंने पथराव करना शुरू कर दिया. उन्होंने जयश्री राम का नारा लगाते हुए गेट, मस्जिद का माइक तोड़ दिया.’

उन्होंने कहा कि यह मस्जिद इलाके की सबसे पुरानी मस्जिदों में से एक है. उन्होंने आरोप लगाया, ‘वो हमको कह रहे थे, तुम लोग यहां से चले जाओ. तुम्हारा देश नहीं है.’

उन्होंने कहा, ‘मुस्लिम परिवार अब डरे हुए हैं लेकिन प्रशासन ने हमें आश्वासन दिया है कि वे हमारे साथ हैं और वे किसी को हमें नुकसान नहीं पहुंचाने देंगे.’

ढाका पुलिस थाने के एसएचओ अभय कुमार ने द वायर  को बताया, ‘यह घटना बुधवार शाम को हुई. भाजपा के समर्थकों ने इलाके में विजय जुलूस निकाला था. जब वे मस्जिद के पास पहुंचे तो उन्होंने माइक के जरिये नारेबाजी की. मस्जिद के बाहर एक दुकानदार ने उन्हें माइक बंद करने को कहा, क्योंकि मस्जिद के अंदर मगरीब की नमाज हो रही थी, लेकिन उन्होंने किसी की नहीं सुनी और इस दौरान दोनों पक्षों के बीच कहासुनी हुई, जिसकी वजह से जुलूस में शामिल लोगों ने मस्जिद पर पथराव करना शुरू कर दिया.’

उन्होंने कहा कि मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है और अब तक मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस ने आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है.

(इस रिपोर्ट को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)