भारत

शिवसेना कार्यकर्ता ने ‘कराची स्वीट्स’ के मालिक को दुकान का नाम बदलने को कहा

मुंबई के बांद्रा पश्चिम स्थित दुकान का मामला. शिवसेना के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कहा कि कराची बेकरी और कराची स्वीट्स मुंबई में 60 सालों से हैं. उनका पाकिस्तान से कोई लेना-देना नहीं है. यह पार्टी का आधिकारिक रुख नहीं है.

बांद्रा स्थित कराची स्वीट्स का दुकान (फोटो: एएनआई)

बांद्रा स्थित कराची स्वीट्स का दुकान (फोटो: एएनआई)

मुंबई: शिवसेना के एक कार्यकर्ता ने उपनगरीय बांद्रा (पश्चिम) स्थित ‘कराची स्वीट्स’ के मालिक से दुकान का नाम बदलकर कुछ और करने के लिए कहा है.

शिवसेना कार्यकर्ता नितिन नंदगांवकर के फेसबुक पेज पर साझा किए गए एक वीडियो क्लिप में वह दुकान मालिक से दुकान का नाम अपने पिता या दादा के नाम पर करने को कहते दिख रहे हैं. उन्होंने दलील दी है कि कराची पाकिस्तान में है, जो ‘आतंकवादियों का देश है.’

नंदगांवकर ने कहा, ‘मुंबई में कराची नाम का इस्तेमाल न करो. हमें कराची नाम से परेशानी है. हमारा जवान भाईदूज पर शहीद हो गया. पाकिस्तान आतंकवादियों का एक देश है.’

नंदगांवकर ने कहा कि वह दुकान मालिक को दुकान का नाम बदलने के लिए समय देंगे. वीडियो के साथ एक पोस्ट में लिखा है कि ‘कराची’ नाम वाले बोर्ड को 15 दिन के भीतर बदल दिया जाए.

इसके बाद कराची स्वीट्स के मालिक ने दुकान के नाम को पेपर से ढक दिया.

वहीं, दूसरी ओर शिवसेना के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने गुरुवार को कराची स्वीट्स के समर्थन में आ गए.

संजय राउत ने ट्वीट कर कहा, ‘कराची बेकरी और कराची स्वीट्स मुंबई में 60 सालों से हैं. उनका पाकिस्तान से कोई लेना-देना नहीं है. उनके नाम बदलने की मांग करना बेमतलब है. दुकान का नाम बदलने की मांग रखना शिवसेना का आधिकारिक रुख नहीं है.’

दुकान के मालिक का कहना है कि उनके पूर्वज कराची से थे. इसका वीडियो वायरल होने के बाद लोगों ने शिवसेना नेता की आलोचना की.

कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने शिवसेना कार्यकर्ता को ‘बेवकूफ’ बताते हुए कहा, ‘भारत के चाइनीज होटलों का चीन से कोई लेना-देना नहीं है, वैसे ही बांद्रा के कराची स्वीट्स का पाकिस्तान से कोई नाता नहीं है.’

उन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मामले में कार्रवाई करने के लिए भी कहा है.

वहीं, आम आदमी पार्टी (आप) ने एक बयान में शिवसेना पर उसके एक कार्यकर्ता द्वारा दुकान मालिक को धमकाने को लेकर निशाना साधा और मुंबई पुलिस से इस पर संज्ञान लेने के लिए कहा.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)