दुनिया

यात्रियों के संक्रमित मिलने के बाद हांगकांग ने एयर इंडिया की उड़ानों पर पांचवीं बार रोक लगाई

कोरोना वायरस को लेकर लॉकडाउन के कारण अंतरराष्ट्रीय उड़ानें बंद हैं. भारतीय एयरलाइनों को इस साल मई से वंदे भारत मिशन और जुलाई से द्विपक्षीय एयर बबल पैक्ट के तहत विशेष अंतरराष्ट्रीय उड़ानें संचालित करने की अनुमति दी गई है.

(फोटो साभार: ट्विटर/@airindiain)

(फोटो साभार: ट्विटर/@airindiain)

नई दिल्ली: इस सप्ताह एयर इंडिया की एक उड़ान से कुछ यात्रियों के हांगकांग पहुंचने पर उन्हें कोरोना वायरस संक्रमित पाए जाने के बाद हांगकांग की सरकार ने दिल्ली से एयर इंडिया की उड़ानों पर तीन दिसंबर तक रोक लगा दी है. एक अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी.

हांगकांग सरकार ने संक्रमित यात्रियों के पहुंचने को लेकर पांचवीं बार भारत से एयर इंडिया की उड़ानों पर रोक लगाई है.

भारत के यात्री यात्रा से 72 घंटे पहले कराई गई कोविड-19 जांच की निगेटिव रिपोर्ट के साथ ही हांगकांग पहुंच सकते हैं. इस संबंध में वहां की सरकार ने जुलाई में नियम जारी किए थे.

इसके अलावा सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को हांगकांग हवाईअड्डे पर उतरने के बाद कोविड-19 की जांच करानी होती है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक यह नियम भारत के अलावा बांग्लादेश, इथियोपिया, फ्रांस, इंडोनेशिया, कजाकिस्तान, नेपाल, पाकिस्तान, फिलीपींस, रूस, दक्षिण अफ्रीका, यूके और यूएस के सभी यात्रियों के लिए भी अनिवार्य है.

इन देशों से हांगकांग के लिए उड़ान भरने वाली एयरलाइन को रवाना होने से पहले एक फॉर्म जमा करना होता है, जिसमें बताया जाता है कि सभी यात्रियों के पास कोविड-19 जांच के प्रमाण-पत्र हैं.

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने बताया, ‘इस सप्ताह की शुरुआत में एयर इंडिया की दिल्ली-हांगकांग उड़ान के कुछ यात्री कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए थे. नतीजतन एयरलाइन को 20 नवंबर से तीन दिसंबर के बीच दिल्ली से हांगकांग की किसी भी उड़ान के परिचालन से प्रतिबंधित किया गया है.’

हालांकि उन्होंने कहा कि इस अवधि में हांगकांग के लिए कोई उड़ान निर्धारित नहीं थी.

इससे पहले एयरलाइंस की दिल्ली-हांगकांग उड़ान पर 18 अगस्त से 31 अगस्त, 20 सितंबर से तीन अक्टूबर और 17 अक्टूबर से 30 अक्टूबर, वहीं मुंबई-हांगकांग की उड़ानों पर 28 अक्टूबर से 10 नवंबर तक प्रतिबंध रहा था.

बता दें कि कोरोना महामारी के कारण 23 मार्च से भारत में अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानें निलंबित हैं.

हालांकि, भारतीय एयरलाइनों को इस साल मई से वंदे भारत मिशन और जुलाई से द्विपक्षीय एयर बबल पैक्ट के तहत विशेष अंतरराष्ट्रीय उड़ानें संचालित करने की अनुमति दी गई है.

एक द्विपक्षीय एयर बबल पैक्ट के तहत दोनों देशों की एयरलाइंस कुछ प्रतिबंधों के साथ अंतरराष्ट्रीय उड़ानें संचालित कर सकती हैं. भारत ने लगभग 20 देशों के साथ इस तरह के समझौते किए हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)