भारत

केंद्र सरकार ने 43 और मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगाया

सरकार का कहना है कि ये मोबाइल ऐप भारत की संप्रभुता, अखंडता, सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के प्रति पूर्वाग्रह वाली गतिविधियों में शामिल थे. इससे पहले सरकार चीन से संबंधित 100 से अधिक मोबाइल ऐप प्रतिबंधित कर चुकी है.

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

नई दिल्लीः केंद्र सरकार ने अलीबाबा वर्कबेंच, अली एक्सप्रेस (शॉपिंग ऐप), अलीपे कैशियर, कैमकार्ड और वीडेट सहित 43 मोबाइल ऐप्स पर मंगलवार को प्रतिबंध लगा दिया. इनमें से अधिकांश चीन से संबंधित हैं. इनमें तमाम डेटिंग ऐप भी शामिल हैं.

इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने देश की संप्रभुता, अखंडता और सुरक्षा के लिए खतरा बताते हुए इन पर प्रतिबंध लगाने का आदेश जारी किया.

सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार, केंद्रीय गृह मंत्रालय के भारतीय साइबर अपराध (रोधी) समन्वय केंद्र से इस संबंध में मिली विस्तृत रिपोर्ट के बाद यह आदेश जारी किया गया है.

विज्ञप्ति के अनुसार, भारत सरकार ने सूचना प्रौद्योगिकी कानून की धारा 69ए के तहत 43 मोबाइल ऐप पर पाबंदी लगायी है.

आधिकारिक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, सरकार का कहना है कि इन ऐप के खिलाफ इसलिए कार्रवाई की गई क्योंकि सरकार को खुफिया रिपोर्ट मिली थी कि ये भारत की संप्रभुता, अखंडता, सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के प्रति पूर्वाग्रह वाली गतिविधियों में शामिल थे.

केंद्रीय गृह मंत्रालय के भारतीय साइबर अपराध समन्वयक केंद्र से मिली व्यापक रिपोर्टों के आधार पर यह आदेश जारी किया है.

सरकार इससे पहले 29 जून 2020 को 59 ऐप्स और जुलाई महीने में 47 ऐप्स पर प्रतिबंध लगाया था.

इससे पहले टिकटॉक, बिगो लाइव, पब्जी मोबाइल पर भी प्रतिबंध लग चुका है. इन ऐप को भी सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69ए के तहत प्रतिबंधित किया गया था.

जून में चीन से संबंधित जिन मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगा था, उनमें टिकटॉक, यूसी ब्राउजर, वीचैट, बीगो लाइव, हैलो, लाइकी, कैम स्कैनर, वीगो वीडियो, एमआई वीडियो कॉल- शाओमी आदि शामिल थे.

जुलाई में जिन मोबाइल ऐप पर पाबंदी लगाई गई थी, उनमें टिकटॉक लाइट, हैलो लाइट, शेयरइट लाइट, वीगो लाइव लाइट और वीएफवाई लाइट जैसे ऐप शामिल थे.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)