भारत

यूपी: संदिग्‍ध परिस्थिति में झुलसे पत्रकार और उनके साथी की मौत, परिजनों ने जताई हत्‍या की आशंका

मामला उत्तर प्रदेश के बलरामपुर ज़िले का है. मौत से पहले पत्रकार के बयान के आधार पर पुलिस गांव के पूर्व प्रधान सहित तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है.

Balrampur UP Google Map

बलरामपुर: पूर्वी उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले के कोतवाली देहात क्षेत्र के कलवारी गांव में रहने वाले एक पत्रकार के घर में संदिग्ध परिस्थितियों में आग लगने से उनकी और उनके एक साथी की झुलसकर मौत हो गई.

मृतकों की पहचान 35 वर्षीय पत्रकार राकेश सिंह और उनके 32 वर्षीय साथी पिंटू साहू के रूप में हुई है. पत्रकार के परिजनों ने हत्या की आशंका जताते हुए जांच की मांग की है.

घटना की सूचना मिलते ही पुलिस व एंबुलेंसकर्मियों ने पत्रकार और उसके साथी को संयुक्त अस्‍पताल पहुंचाया, जहां पत्रकार के साथी को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया, जबकि 90 प्रतिशत झुलस चुके पत्रकार को लखनऊ रेफर कर दिया, जहां सिविल अस्‍पताल में उनकी भी मौत हो गई.

बलरामपुर जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक ने मामले की गंभीरता देखते हुए खुद मौके पर जाकर जांच पड़ताल की.

पुलिस अधीक्षक (एसपी) देव रंजन वर्मा ने शनिवार को बताया, ‘पत्रकार राकेश सिंह एक दैनिक अखबार में काम करते थे और यूट्यूब पर स्वतंत्र पत्रकारिता भी करते थे. उनके घर में अज्ञात कारणों से आग लग गई थी, जिससे उनके मित्र पिंटू साहू की मृत्यु हो गई, जबकि 90 प्रतिशत जलने के साथ राकेश सिंह ने लखनऊ के एक अस्पताल में दम तोड़ दिया.’

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, मौत से पहले राकेश के बयान के आधार पर पुलिस ने गांव के पूर्व प्रधान रामसूरत और दो अन्य- रवि चौधरी व बाबू मिश्रा को हिरासत में ले लिया है. पुलिस ने कहा है कि वह तीनों से पूछताछ कर रही है.

एसपी ने कहा कि किसी तरह के विस्फोट के कोई सबूत नहीं हैं. एक कंप्यूटर डेस्कटॉप का कीबोर्ड गर्मी की वजह से खराब हो गया, लेकिन बेडरूम के ठीक बगल में किचन में सिलिंडर जैसे ज्वलनशील सामानों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा.

एसपी ने कहा, ‘एफएसएल टीम को रूम से कोई बारूद नहीं मिला है. दोनों के शरीर पर चोटों से लग रहा है कि शायद कोई आग लगाकर भाग गया.’

उन्होंने कहा कि ऐसी संभावना हो सकती है कि कुछ दोस्तों में बहस हो गई हो और घर में आग लगा दी हो.

एसपी ने कहा, ‘उनका शराब की दुकान पर भी कुछ लोगों से झगड़ा हो गया था. हम पूछताछ के लिए उनकी तलाश कर रहे हैं.’

वहीं, पत्रकार के पिता मुन्ना सिंह ने हत्या की आशंका जताते हुए कार्रवाई की मांग की है.

इमलिया गांव में रहने वाले मुन्ना सिंह ने कहा कि गमछे से चेहरे से ढके हुए कुछ चार-पांच लोग घर की दीवार फांदकर आए थे और कुछ विस्फोटक फेंककर फरार हो गए. शिकायत के आधार पर अज्ञात लोगों के लिए हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है.

राकेश सिंह की पत्नी विभा सिंह ने कहा कि घटना के समय वह अपनी दो बेटियों के साथ अपनी भाभी के घर गई हुई थीं. हालांकि उन्होंने आरोप लगाया कि राकेश को ट्रामा सेंटर (लखनऊ) ले जाने के दौरान उन्हें सूचना नहीं दी. उन्हें निधन के बाद रात के दो बजे सूचना दी गई.

पुलिस सूत्रों ने शनिवार को बताया कि कोतवाली देहात क्षेत्र के ग्राम कलवारी में रहने वाले पत्रकार राकेश सिंह व उसके एक साथी पिंटू साहू घर में मौजूद थे, जबकि राकेश की पत्नी व बच्चे दो दिन पहले हुए घरेलू झगड़े के चलते किसी रिश्तेदार के यहां चले गए थे.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)