भारत

स्वदेश निर्मित टीका लगने के दो हफ़्ते बाद हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री कोरोना संक्रमित

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कोविड-19 के ख़िलाफ़ संभावित टीके कोवैक्सिन के तीसरे चरण के परीक्षण में पहला स्वयंसेवी बनने की पेशकश की थी. उन्हें 20 नवंबर को इसकी खुराक अम्बाला कैंट के सिविल अस्पताल में दी गई थी.

अनिल विज. (फोटो साभार: फेसबुक)

अनिल विज. (फोटो साभार: फेसबुक)

चंडीगढ़: हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं. उन्होंने पिछले महीने परीक्षण के तौर पर कोरोना वायरस के खिलाफ विकसित किए जा रहे स्वदेशी कोवैक्सिन का टीका लिया था.

विज ने ट्वीट करके शनिवार को संक्रमित होने की जानकारी दी. उन्होंने एक ट्वीट के माध्यम से जानकारी देते हुए अपील की है कि हाल में उनके संपर्क में जो लोग आए हैं, वे जांच करा लें.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘मैं कोरोना वायरस संक्रमित पाया गया हूं और अम्बाला कैंट के सिविल अस्पताल में भर्ती हूं. जो लोग भी मेरे संपर्क में आए हैं, उन्हें जांच कराने की सलाह दी जाती है.’

जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के तीन सदस्यों वाले एक प्रतिनिधि मंडल ने विज से शुक्रवार को मुलाकात की थी और कृषि कानूनों के खिलाफ ‘दिल्ली चलो’ मार्च में शामिल होने वाले किसानों के खिलाफ दर्ज मामलों को वापस लेने की अपील की थी. जेजेपी राज्य में भाजपा की सहयोगी पार्टी है.

इस प्रतिनिधि मंडल का नेतृत्व पार्टी की राज्य इकाई के अध्यक्ष निशान सिंह कर रहे थे और वरिष्ठ पार्टी नेता दिग्विजय सिंह चौटाला इसका हिस्सा थे.

विज ने कोविड-19 के खिलाफ संभावित टीके कोवैक्सिन के तीसरे चरण के परीक्षण में पहला स्वयंसेवी बनने की पेशकश की थी और उन्हें 20 नवंबर को इसकी खुराक अम्बाला कैंट के सिविल अस्पताल में दी गई थी.

विज ने तब एक ट्वीट में बताया था, ‘मुझे भारत बायोटेक उत्पाद का कोरोना वायरस का परीक्षण टीका कोवैक्सिन कल 11 बजे अम्बाला कैंट के सिविल अस्पताल में पीजीआई रोहतक और स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टरों की एक टीम की निगरानी में दिया जाएगा.’

उन्होंने बताया था कि उन्होंने ही ट्रायल में हिस्सा लेने की पेशकश की थी.

कोवैक्सिन स्वदेशी टीका है और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के साथ मिलकर भारत बायोटेक इसे विकसित कर रही है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, 67 वर्षीय भाजपा नेता अनिल विज को डायबिटीज है और हाल ही में जांघ की हड्डी में फ्रैक्चर होने के बाद उनकी सर्जरी भी कराई गई थी.

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि डॉक्टरों की एक टीम विज की देखरेख कर रही है और उनका स्वास्थ्य बिल्कुल ठीक है.

जब उन्होंने कोवैक्सीन के ट्रायल के लिए सहमति जताई थी, तब 25 हजार से भी अधिक लोगों को इसका टीका लगाया गया था. हरियाणा में अनिल विज के अलावा रोहतक के पोस्ट ग्रैजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस (पीजीआईएमएस) के वाइस चांसलर डॉ. ओपी कालरा समेत 400 से अधिक लोगों ने तीसरे चरण के परीक्षण के दौरान कोवैक्सीन का टीका लगवाया था.

रिपोर्ट के अनुसार, अनिल विज 20 नवंबर के बाद से हरियाणा सचिवालय स्थित अपने दफ्तर में नियमित तौर पर जा रहे थे. तीन दिन पहले दो दिसंबर को वह हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, रामदेव समेत तमाम अधिकारियों से मिले थे.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)