भारत

उत्तर प्रदेश: किसान की हिरासत में मौत, परिजन ने पुलिस पर पिटाई का आरोप लगाया

मामला बदायूं ज़िले के मुजरिया थाना क्षेत्र का है. ज़मीन को लेकर हुए विवाद के बाद थाने लाए गए एक 50 वर्षीय किसान की मौत हो गई. परिजनों का यह भी आरोप है कि पुलिस ने एकपक्ष पर ही कार्यवाही की, जबकि दूसरे पक्ष को छोड़ दिया गया.

Badaun

बदायूं: उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में जमीन को लेकर हुए विवाद के बाद थाने लाए गए एक किसान की पुलिस हिरासत में मौत हो गई. परिजनों ने पुलिसकर्मियों पर उसकी पिटाई किए जाने का आरोप लगाया है.

अपर पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) सिद्धार्थ वर्मा ने सोमवार को बताया कि मुजरिया थाना क्षेत्र के दरियापुर गांव के रहने वाले 50 वर्षीय विद्याराम का रविवार की रात अपने पड़ोस के ही लोगों से किसी बात को लेकर विवाद हो गया था, जिसे लेकर पुलिस दोनों पक्षों को पकड़कर थाने ले आई.

अमर उजाला की रिपोर्ट के मुताबिक दरियापुर निवासी विद्याराम यादव और प्रताप सिंह यादव के बीच जमीन को लेकर पहले से विवाद चल रहा था.

प्रताप सिंह ने बीते रविवार को नींव खुदवाने के लिए जेसीबी बुलाई थी. जब विद्याराम के परिवारवालों को पता चला तो उन्होंने नींव खोदे जाने का विरोध किया. विद्याराम ने आरोपी पक्ष से अपने प्लॉट को जाने के लिए रास्ता मांगा था. इसी बात पर आरोपियों ने विद्याराम के साथ मारपीट की.

इसकी सूचना पाकर मुजरिया थाने की पुलिस मौके पर पहुंच गई और विद्याराम और प्रताप सिंह को पकड़कर थाने ले गई.

सिद्धार्थ वर्मा ने बताया कि थाने में विद्याराम को सीने में दर्द की शिकायत होने पर उसे बिल्सी स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया जहां से उसे बदायूं रेफर कर दिया गया, लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई.

हालांकि परिजन का आरोप है कि पुलिसकर्मियों ने विद्याराम को बुरी तरह से पीटा, जिससे उनकी हालत बिगड़ गई और उनकी मौत हो गई. परिजन का यह भी आरोप है कि पुलिस ने एकपक्ष पर ही कार्यवाही की जबकि दूसरे पक्ष को छोड़ दिया गया.

अपर पुलिस अधीक्षक का कहना है कि विद्याराम के परिजन की तहरीर पर दूसरे पक्ष के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और शव का पोस्टमॉर्टम कराया जा रहा है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)