भारत

उत्तर प्रदेशः धर्मांतरण कानून के तहत जेल भेजे गए लड़के की पहले की गई थी पिटाई, दो गिरफ़्तार

यूपी के बिजनौर ज़िले की घटना. 14 दिसंबर को नाबालिग दलित लड़की एक दोस्त के साथ रात में अपने एक अन्य दोस्त की जन्मदिन पार्टी से पैदल घर लौट रही थी कि कुछ लोगों ने कथित तौर पर इन दोनों का पीछा किया और इनकी डंडों से पिटाई की.

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश के बिजनौर में जिस युवक के खिलाफ धर्मांतरण विरोधी कानून के तहत मामला दर्ज किया था. गिरफ्तारी से पहले स्थानीय लोगों ने कथित तौर पर उसकी पिटाई की थी.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस का कहना है कि इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

बता दें कि इस घटना का वीडियो सामने आने के बाद एफआईआर दर्ज की गई थी. इस वीडियो में कुछ लोगों को युवक की पिटाई करते देखा जा सकता है.

बिजनौर के एसपी धर्मवीर सिंह का कहना है, ‘यह हमारे संज्ञान में लाया गया कि धर्म परिवर्तन के आरोपी शख्स की स्थानीय लोगों ने पिटाई की थी. इसके लिए एक जांच टीम गठित की गई और इस सिलसिले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया. अन्य लोगों की पहचान की जाएगी और उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.’

पुलिस के मुताबिक, ‘अज्ञात लोगों के खिलाफ उत्पीड़न और आपराधिक धमकी के आरोप में एफआईआर दर्ज की गई. इस मामले में स्थानीय निवासी शकीर और शहजाद को गिरफ्तार किया गया है.’

बता दें कि 14 दिसंबर को नाबालिग दलित लड़की अपने पूर्व सहपाठी के साथ रात लगभग 10:30 बजे अपने एक दोस्त की जन्मदिन पार्टी से पैदल घर लौट रही थी कि कुछ लोगों ने कथित तौर पर इन दोनों का पीछा किया. इनकी डंडों से पिटाई की और ये पता लगने के बाद कि दोनों अलग-अलग धर्मों से हैं, उन्हें स्थानीय पुलिस थाने ले जाया गया.

लड़की का कहना है, ‘उन लोगों ने लाठी से उसकी पिटाई की. जब मैंने उसे आखिरी बार देखा, वह लंगड़ाकर चल रहा था. उन्होंने पहले हमें चोर कहा और फिर हम दोनों की पिटाई की. उन्होंने हमारे वीडियो बनाए और उसे सर्कुलेट कर दिया और इसे लव जिहाद का नाम दे दिया. हम सिर्फ जन्मदिन की पार्टी से घर लौट रहे थे.’

इस मामले में कथित तौर पर लड़की के पिता की शिकायत पर दर्ज एफआईआर में कहा गया है कि आरोपी लड़के ने लड़की से शादी करने और धर्म परिवर्तन करने के इरादे से उसे अपने साथ भागने के लिए राजी किया.

हालांकि लड़की के पिता ने इससे इनकार किया है, उनका कहना है कि पुलिस ने उनसे ऐसा बयान लिखवाया है.

बता दें कि आरोपी लड़के पर धर्मांतरण विरोधी कानून, एसएसी/एसटी कानून की धाराओं, पॉक्सो एक्ट और अगवा करने की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है और वह फिलहाल बिजनौर की जेल में बंद है.

पुलिस का कहना है कि लड़के की उम्र 18 साल है, जबकि उसके परिवार के सदस्यों का कहना है कि वह 17 साल का है.

लड़के की मां का कहना है, ‘14 दिसंबर की शाम को मेरा बेटा यह कहकर निकला था कि वह एक जन्मदिन पार्टी में जा रहा है और खाना वहीं खाएगा. अब वे उस पर एक लड़की का धर्म परिवर्तन कराने का आरोप लगा रहे हैं. यह पूरी तरह झूठ है.’