भारत

ओडिशा: राउरकेला स्टील प्लांट में गैस रिसाव से चार श्रमिकों की मौत, जांच के आदेश

स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया द्वारा संचालित राउरकेला के इस प्लांट में यह हादसा बुधवार को हुआ, जिसके बाद दो अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है. अधिकारियों में बताया कि शुरुआती जांच के हिसाब से श्रमिकों की मौत इकाई में कार्बन मोनोक्साइड के रिसाव की वजह से हुई.

(फोटो साभार: एएनआई)

(फोटो साभार: एएनआई)

भुवनेश्वर: ओडिशा में राउरकेला इस्पात संयंत्र (आरएसपी) की एक इकाई में जहरीली गैस रिसाव से बुधवार को कम से कम चार श्रमिकों की मौत हो गई और कई अन्य बीमार हो गए.

आरएसपी का संचालन ‘स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया’ (एसएआईएल) करती है. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि आरएसपी के कोयला रसायन विभाग में हादसा जब सुबह हुआ, तो वहां 10 श्रमिक काम कर रहे थे.

आरएसपी के अधिकारियों ने कहा, ‘निजी कंपनी द्वारा संविदा पर रखे गए चार कर्मचारियों को सुबह नौ बजे कुछ परेशानी होने लगी, इसके बाद उन्हें संयंत्र के स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया और बाद में इस्पात जनरल अस्पताल (आईजीएच) के आईसीयू में भर्ती कराया गया, जहां उन्होंने दम तोड़ दिया.’

उन्होंने बताया कि मृतकों की पहचान गणेश चंद्रा पिल्लै (55), रबिन्द्र साहू (59), अभिमन्यु शाह (33) और ब्रम्हानंदा पांडा (51) के तौर पर हुई है.

अधिकारियों ने बताया कि शुरुआती जांच के अनुसार श्रमिकों की मौत इकाई में ‘कार्बन मोनोक्साइड’ के रिसाव की वजह से हुई. उन्होंने बताया कि कुछ अन्य लोग बीमार भी हुए हैं और ‘आरएसपी डिस्पेंसरी’ में उनका इलाज चल रहा है.

आरएसपी के अधिकारियों ने कहा, ‘घटना के कारण का पता लगाने के लिए एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया गया है. संयंत्र में काम समान्य रूप से चल रहा है.’

आरएसपी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी दीपक चतराराज ने श्रमिकों की मौत पर शोक व्यक्त किया और कहा कि प्राधिकारी उनके परिजन को पूरा सहयोग करेंगे.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक जांच के लिए तीन मुख्य महाप्रबंधकों के साथ एक उच्च स्तरीय समिति बनाई गई है.

आरएसपी के एक अधिकारी ने बताया, ‘कौन-सी गैस का रिसाव हुआ है ये अभी तक पता नहीं चला है. जांच समिति इसकी जांच करेगी. इस मामले में तुरंत कार्रवाई करते हुए सीसीडी और ऊर्जा प्रबंधन विभाग (ईएमडी) के दो उप महाप्रबंधकों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया.’

साथ ही उन्होंने बताया कि पीड़ितों में से प्रत्येक के परिवार के एक सदस्य को संयंत्र द्वारा नौकरी दी जाएगी.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इसके अलावा संयंत्र को मृतक के परिवारों को 2.5 लाख रुपये का मुआवजा देने के लिए कहा गया है.

वहीं, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और केंद्रीय पेट्रोलियम एवं इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने हादसे में जान गंवाने वालों के प्रति दुख व्यक्त किया है.

मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने एक संदेश में कहा, ‘राउरकेला स्टील प्लांट में गैस रिसाव की घटना में जानमाल के दुखद हादसे के बारे में जानकर गहरा दुख हुआ. शोक संतप्त परिवारों के साथ मेरी संवेदनाएं और प्रार्थनाएं  हैं.’

धर्मेंद्र प्रधान ने ट्वीट कर कहा, ‘राउरकेला स्टील प्लांट में एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना में जानमाल की हानि हुई. दुख की इस घड़ी में पीड़ित परिवारों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं.’

आरएसपी सार्वजनिक क्षेत्र में भारत का पहला एकीकृत इस्पात संयंत्र है और वर्तमान में प्रतिवर्ष 4.5 मिलियन टन धातु उत्पादन करता है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)