दुनिया

अमेरिका: जो बाइडन ने राष्ट्रपति और कमला हैरिस ने उपराष्ट्रपति पद की शपथ ली

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने देश की 152 साल पुरानी परंपरा को नज़रअंदाज़ करते हुए जो बाइडन के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा नहीं लिया और ह्वाइट हाउस से निकल कर सीधे फ्लोरिडा चले गए. राष्ट्रपति बाइडेन ने कहा कि हम अपने साझेदारों के साथ संबंधों को दुरुस्त करेंगे. वहीं उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने कहा कि वह सेवा करने के लिए तैयार हैं.

President-elect Joe Biden, his wife Jill Biden, Vice President-elect Kamala Harris and her husband Doug Emhoff salute as they arrive ahead of the inauguration of Biden, in Washington, January 20, 2021. Photo: Reuters/Mike Segar

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन, उनकी पत्नी जिल बाइडेन, उपराष्ट्रपति कमला हैरिस और उनके पति डग एमहॉफ (दाएं से बाएं). (फोटो: रॉयटर्स)

वॉशिंगटन: जो बाइडन ने बुधवार देर रात आयोजित ऐतिहासिक शपथ ग्रहण समारोह में अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली और देश को एकजुट करने का वादा करते हुए नागरिकों से देश को बांटने वाले ‘अशिष्ट युद्ध’ को समाप्त करने का आह्वान किया.

कमला हैरिस ने देश की पहली महिला, पहली अश्वेत और पहली भारतीय अमेरिकी उपराष्ट्रपति के रूप में शपथ ली.

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों द्वारा संसद भवन पर छह जनवरी को हुए हमले के मद्देनजर बुधवार को सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे और पूरा समारोह बिना किसी रुकावट के संपन्न हुआ.

चेन्नई मूल की भारतीय प्रवासी माता और जमैका से ताल्लुक रखने वाले अफ्रीकी पिता की बेटी 56 वर्षीय हैरिस ने देश की पहली महिला उपराष्ट्रपति बनकर इतिहास में नाम दर्ज कराया है.

राष्ट्रपति के रूप में अपने पहले भाषण में बाइडन ने देशवासियों से अपील करते हुए कहा, ‘हमें इस असभ्य युद्ध को समाप्त करना ही होगा जो लाल को नीले के खिलाफ (अमेरिकी झंडे के रंग), गांवों को शहरों के खिलाफ और कट्टरपंथियों को उदारवादियों के खिलाफ खड़ा करता है.’

उन्होंने कहा, ‘हम यह कर सकते हैं, अगर हम अपने दिल के दरवाजे बंद करने की जगह उन्हें खोल दें. अगर हम थोड़ा धैर्य और मानवता दिखाएं, और अगर हम दूसरों के नजरिये से सोचने का प्रयास करें (हम ऐसा कर सकते हैं.)’

बाइडन ने अमेरिका के साझेदारों के साथ संबंधों को दुरुस्त करने और दुनिया के साथ एक बार फिर साझेदारी बढ़ाने का वादा किया.

उन्होंने कहा, ‘देखिए, मेरे सभी सहकर्मियों और मैंने पहले भी ह्वाइट हाउस और सीनेट में काम किया है, हम सभी समझते हैं कि दुनिया की नजर हम पर है, आज सभी हमें देख रहे हैं, ऐसे में हमारी सीमा से बाहर (अंतरराष्ट्रीय समुदाय) वालों के लिए संदेश है.’

उन्होंने कहा, ‘अमेरिका ने परीक्षा दी है और मजबूत होकर उभरा है. हम अपने साझेदारों के साथ संबंधों को दुरुस्त करेंगे और एक बार फिर दुनिया के साथ अपना मेल-जोल बढ़ाएंगे.’

बाइडन ने कहा, ‘हम सिर्फ अपनी शक्ति के आधार पर नेतृत्व नहीं करेंगे, बल्कि उदाहरण पेश करेंगे और उसके आधार पर आगे चलेंगे. हम शांति, प्रगति और सुरक्षा के लिए मजबूत तथा विश्वस्त साझेदार साबित होंगे.’

उन्होंने कहा, ‘आज अमेरिका का दिन है. आज लोकतंत्र का दिन है. इतिहास और आशा का दिन है.’

राष्ट्रपति ने कहा, ‘आज हम एक उम्मीदवार की जीत का नहीं, बल्कि एक मकसद की जीत का जश्न मना रहे हैं. लोगों, लोगों की इच्छाओं को सुना गया है और उनकी आकांक्षाएं समझी गई हैं.’

नवंबर में चुनाव में मिली जीत को अस्वीकार करने के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रयासों का परोक्ष संदर्भ देते हुए बाइडन ने कहा, ‘हमने फिर से सीखा है कि लोकतंत्र मूल्यवान है. लोकतंत्र नाजुक है. मेरे दोस्तो, मौजूदा स्थिति में लोकतंत्र की जीत हुई है.’

गौरतलब है कि ट्रंप ने देश की 152 साल पुरानी परंपरा को नजरअंदाज करते हुए बाइडन के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा नहीं लिया और ह्वाइट हाउस से निकल कर सीधे फ्लोरिडा चले गए.

अपने 21 मिनट लंबे भाषण में बाइडन ने चुनौती स्वीकार करने और लोकतंत्र को पुन: बहाल करने के लिए अमेरिकी नागरिकों की प्रशंसा की.

कोरोना वायरस संक्रमण और नस्लीय अन्याय के खिलाफ लड़ाई जैसी चुनौतियों का संदर्भ देते हुए बाइडन ने कहा, ‘एकजुट होकर हम बहुत कुछ कर सकते हैं.’

Joe Biden is sworn in as the 46th President of the United States as his wife Jill Biden holds a bible on the West Front of the US Capitol in Washington., January 20, 2021. Photo: Reuters/Kevin Lamarque

अमेरिका के राष्ट्रपति पद की शपथ लेते जो बाइडेन. (फोटो: रॉयटर्स)

महामारी को हराने, हालात सुधारने, देश को एकजुट करने के अपने दृष्टिकोण से सभी को अवगत कराते हुए उन्होंने कहा, ‘एकजुटता ही आगे का रास्ता है.’

बाइडन ने इस बात पर जोर दिया कि वह सभी अमेरिकी नागरिकों के राष्ट्रपति हैं, उन्हें वोट देने वालों के भी और नहीं देने वालों के भी.

उन्होंने यह भी कहा कि देश को श्वेत नस्ल की श्रेष्ठता की मानसिकता के खिलाफ लड़ना होगा. उन्होंने रेखांकित किया कि उपराष्ट्रपति के रूप में हैरिस का शपथ ग्रहण दिखाता है कि देश में कितने सकारात्मक बदलाव आ सकते हैं. उन्होंने कहा, ‘मुझे यह मत कहिए कि चीजें बदल नहीं सकती हैं.’

उन्होंने क्रोध और विभाजन को शह देने वालों की आलोचना की और उनका विरोध करने वालों से कहा, ‘एक बार मेरी बात सुनें.’

बाइडन ने राजनीतिक सत्ता और लाभ के लिए झूठ बोलने वालों की आलोचना की और कहा, ‘सच और झूठ सब सामने आते हैं.’

अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए अपने संदेश में बाइडन ने अमेरिका के साझेदारों के साथ संबंधों को दुरुस्त करने और दुनिया के साथ एक बार फिर साझेदारी बढ़ाने का वादा किया. उन्होंने कहा कि देश ने परीक्षा की घड़ी पार की है और मजबूत बनकर उभरा है.

इस बीच राष्ट्रपति बाइडन ने अनुभवी राजनयिक डैनियल स्मिथ को अपनी सरकार में कार्यवाहक विदेश मंत्री पद के लिए चुना है. बाइडन एंथनी ब्लिंकन को विदेशी मंत्री का पद सौंपना चाहते हैं और उन्हें इसके लिए सीनेट से मंजूरी का इंतजार है.

डेमोक्रेटिक पार्टी के 78 वर्षीय अनुभवी नेता ने अपने भाषण में कहा, ‘हम शांति, प्रगति और सुरक्षा के क्षेत्र में मजबूत और विश्वस्त साझेदारी होंगे.’

बाइडन के शपथ ग्रहण समारोह में तीन पूर्व राष्ट्रपतियों बराक ओबामा (डेमोक्रेटिक पार्टी से), जॉर्ज डब्ल्यू बुश (रिपब्लिकन पार्टी से) और बिल क्लिंटन (डेमोक्रेटिक पार्टी से) ने भाग लिया.

ट्विटर हैंडल्स में बदलाव

शपथ ग्रहण के बाद बाइडन ने आधिकारिक रूप से अमेरिकी राष्ट्रपति के ट्विटर हैंडल @POTUS को स्वीकार कर लिया है. अमेरिका में @POTUS राष्ट्रपति का, जबकि @FLOTUS देश की प्रथम महिला का आधिकारिक ट्विटर हैंडल है.

ट्विटर ने शपथ ग्रहण समारोह के बाद हैंडल @POTUS, @FLOTUS , @VP (उपराष्ट्रपति) और @WhiteHouse को आधिकारिक रूप से बाइडन प्रशासन को सौंप दिया. ये सभी ट्विटर हैंडल अमेरिकी सरकार में शीर्ष पदों से जुड़े हुए हैं और किसी के निजी हैंडल नहीं हैं.

ट्रंप के हैंडल @POTUS को अब @POTUS45 के नाम से आर्काइव कर दिया जाएगा, बिल्कुल वैसे ही जैसे ओबामा के हैंडल को @POTUS44 के नाम से किया गया था.

शपथ ग्रहण के बाद राष्ट्रपति बाइडन और उपराष्ट्रपति हैरिस ने पारंपरिक सैन्य परंपरा के तहत ‘पास इन रिव्यू’ किया.

शपथ लेने के बाद कमला हैरिस ने कहा, सेवा के लिए तैयार हूं

भारतीय मूल की कमला हैरिस ने बुधवार को अमेरिका की पहली महिला उपराष्ट्रपति के रूप में शपथ लेने के बाद कहा कि वह जनता की सेवा करने के लिए तैयार हैं.

Kamala Harris is sworn in as U.S. Vice President as her spouse Doug Emhoff holds a bible during the inauguration of Joe Biden as the 46th President of the United States on the West Front of the U.S. Capitol in Washington, U.S., January 20, 2021 Photograph:( Reuters )

उपराष्ट्रपति पद की शपथ ग्रहण करतीं कमला हैरिस. (फोटो: रॉयटर्स)

चेन्नई निवासी प्रवासी भारतीय मां की 56 वर्षीय बेटी हैरिस ने अमेरिका की पहली महिला उपराष्ट्रपति बनकर इतिहास रच दिया है. वह इस पद पर पहुंचने वाली पहली अश्वेत एवं पहली एशियाई अमेरिकी भी हैं.

हैरिस अमेरिका की 49वीं उपराष्ट्रपति हैं. वह राष्ट्रपति जो बाइडन (78) के साथ काम करेंगी. हैरिस ने 61 वर्षीय माइक पेंस की जगह ली है, जबकि बाइडन ने डोनाल्ड ट्रंप की जगह ली है.

शपथ लेने के बाद हैरिस ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर कहा, ‘सेवा करने के लिए तैयार हूं.’

शपथ लेने के पहले ट्विटर पर अपने निजी अकाउंट से उन्होंने ट्वीट किया, ‘हमेशा लोगों के लिए काम करूंगी.’ एक ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘आपकी उपराष्ट्रपति बनना सम्मान की बात है.’

अपनी मां समेत कुछ अन्य महिलाओं की तस्वीरों वाले एक वीडियो के साथ एक अन्य ट्वीट में हैरिस ने कहा, ‘मैं आज उन महिलाओं के कारण यहां हूं, जो मुझसे पहले आई थीं.’

कैलिफोर्निया के ऑकलैंड में 1964 में जन्मीं हैरिस के माता-पिता ने उनकी परवरिश नागरिक अधिकारों की लड़ाई लड़ने वाले माहौल में की.

उनकी मां श्यामला गोपालन ने स्तन कैंसर पर अनुसंधान किया था, जिनकी 2009 में कैंसर से मृत्यु हो गई. उनके पिता डोनाल्ड अर्थशास्त्र के प्रोफेसर हैं.

कमला हैरिस ने कैपिटल की सीढ़ियों पर खड़े होकर पेंस को दी विदाई

कमला हैरिस ने अमेरिका की उपराष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण करने के बाद ऐसी भूमिका निभाई जिसका निर्वहन सामान्य तौर पर निवर्तमान राष्ट्रपति करते हैं.

हैरिस और उनके पति डग. एमहॉफ ने बुधवार को अमेरिकी कैपिटल (संसद) की सीढ़ियों पर खड़े होकर पूर्व उपराष्ट्रपति माइक पेंस और उनकी पत्नी केरेन को विदाई दी.

दोनों दंपतियों ने सीढ़ी पर कुछ देर तक खड़े होकर बातचीत की और उसके बाद पेंस कार में सवार होकर रवाना हो गए. यह परिपाटी सामान्य रूप से पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप को निभानी थी, लेकिन वह शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हुए.

डोनाल्ड ट्रंप फ्लोरिडा पहुंचे, बाइडन के शपथ ग्रहण समारोह में नहीं हुए शामिल

तलाहस्सी (अमेरिका): अपने कार्यकाल के समापन पर व्हाइट हाउस से विदा हुए डोनाल्ड ट्रंप फ्लोरिडा पहुंच गए हैं.

ट्रंप, जो बाइडन के शपथ ग्रहण समारोह से पहले वॉशिंगटन से रवाना हो गए थे. ट्रंप के साथ विमान में उनके परिवार के लोग भी थे. उन्होंने कुछ देर विमान के कर्मचारियों से भी बातचीत की.

President Donald Trump departs next to first lady Melania Trump from Joint Base Andrews to fly to Florida. REUTERS/Carlos Barria

फ्लोरिडा के लिए रवाना होते पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनकी पत्नी मेलिनिया ट्रंप. (फोटो: रॉयटर्स)

ट्रंप ने मैरीलैंड में जॉइंट बेस एंड्यूज में अपने समर्थकों से बात की और उसके बाद एयर फोर्स वन विमान से फ्लोरिडा के लिए रवाना हुए.

उन्होंने अपने समर्थकों से कहा, ‘अलविदा. हमें आपसे लगाव है.’ साथ ही कहा, ‘किसी न किसी रूप में हम वापसी करेंगे.’

ट्रंप को अपने कार्यकाल के दौरान दो बार महाभियोग की कार्यवाही का सामान करना पड़ा. राष्ट्रपति के तौर पर उनके कार्यकाल के दौरान देश में लाखों लोग बेरोजगार हुए और कोविड-19 महामारी के कारण चार लाख से ज्यादा लोगों की मौत हुई.

अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने हाल ही में कैपिटल बिल्डिंग (संसद परिसर) में हुई हिंसा के मद्देनज़र निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के ख़िलाफ़ दूसरा महाभियोग प्रस्ताव पारित किया है. ट्रंप अमेरिका के इतिहास में पहले ऐसे राष्ट्रपति बन गए हैं, जिनके ख़िलाफ़ दो बार महाभियोग प्रस्ताव लाया गया है.

प्रस्ताव में कहा गया था कि ट्रंप ने अपने समर्थकों को कैपिटल बिल्डिंग की घेराबंदी के लिए तब उकसाया, जब वहां इलेक्टोरल कॉलेज के मतों की गिनती चल रही थी और लोगों के धावा बोलने की वजह से यह प्रक्रिया बाधित हुई थी. इस घटना में एक पुलिस अधिकारी समेत पांच लोगों की मौत हो गई थी.

इससे पहले 18 दिसंबर, 2019 को भी प्रतिनिधि सभा ने ट्रंप के खिलाफ महाभियोग के आरोप को पारित किया था, लेकिन फरवरी 2020 में रिपब्लिकन पार्टी के नियंत्रण वाले सीनेट ने उन्हें आरोपों से बरी कर दिया था.

उस दौरान आरोप लगाए गए थे कि ट्रंप ने यूक्रेन के राष्ट्रपति पर दबाव डाला कि वे बाइडन और उनके बेटे के खिलाफ भ्रष्टाचार के दावों की जांच करवाए.

दरअसल अमेरिका में तीन नवंबर 2020 को हुए राष्ट्रपति चुनाव को लेकर पिछले कई महीनों से ट्रंप द्वारा कथित तौर पर लगातार दिए जा रहे विभाजनकारी और भड़काऊ बयानों के कारण कैपिटल पर बुधवार को यह हमला हुआ.

रिपब्लिक पार्टी के प्रत्याशी रहे ट्रंप ने अब तक चुनाव नतीजों को स्वीकार नहीं किया है और अपने गैर प्रमाणित दावे को दोहराया है कि राष्ट्रपति चुनाव में धांधली की गई है.

नरेंद्र मोदी सहित तमाम नेताओं ने दी बधाई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित दुनिया के तमाम नेताओं ने ट्वीट करके अमेरिका के नए प्रशासन को बधाई दी है और साथ मिलकर काम करने की आशा जताई है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को जो बाइडन को अमेरिका के राष्ट्रपति और कमला हैरिस को उपराष्ट्रपति के रूप में शपथ लेने पर बधाई दी और कहा कि वह भारत-अमेरिका संबंधों को नई ऊंचाई प्रदान करने के लिए बाइडन के साथ काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

मोदी ने कहा, ‘अमेरिका के राष्ट्रपति के रूप में पदभार संभालने पर जो बाइडन को मेरी शुभकामनाएं. मैं उनके साथ मिलकर काम करने और भारत-अमेरिका साझेदारी को मजबूत करने के लिए आशान्वित हूं.’

प्रधानमंत्री ने सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा, ‘अमेरिका का नेतृत्व करने के लिए सफल कार्यकाल की शुभकामनाएं. साझा चुनौतियों का सामना करने और वैश्विक शांति तथा सुरक्षा के लिए हम साथ खड़े हैं.’

मोदी ने कहा कि भारत-अमेरिका संबंध साझा मूल्यों पर आधारित हैं. उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बहुआयामी द्विपक्षीय एजेंडे, बढ़ते आर्थिक संबंध और उनके लोगों के बीच दोस्ताना रिश्ते हैं.

बाइडन प्रशासन के अंतर्गत संबंधों के भविष्य पर विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत-अमेरिका के संबंध का आधार बहुत मजबूत है और दोनों देशों के बीच समग्र वैश्विक साझेदारी को अमेरिका में सभी पक्षों का समर्थन हासिल है.

उपराष्ट्रपति कमला हैरिस का बधाई देते मोदी ने कहा, ‘कमला हैरिस का उपराष्ट्रपति बनने की बधाई. यह एक ऐतिहासिक क्षण है. भारत और अमेरिका के संबंधों को और अधिक मजबूत बनाने के लिए उसके साथ बातचीत होने की आशा करता हूं. भारत-अमेरिकी साझेदारी दुनिया के लिए फायदेमंद है.’

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी बाइडन को राष्ट्रपति बनने पर बधाई दी है. उन्होंने ट्वीट किया है, ‘मैं शपथ ग्रहण पर राष्ट्रपति जो बाइडन को बधाई देता हूं. राष्ट्रपति के साथ काम करने और व्यापार, आर्थिक सहयोग, जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई, जन स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतरी, भ्रष्टाचार नियंत्रण और क्षेत्र में शांति को प्रोत्साहित करने के माध्यम से पाकिस्तान-अमेरिका के बीच संबंधों को मजबूत बनाने को लेकर आशान्वित हूं.’

लेडी गागा ने समारोह में गाया राष्ट्रगान, जेनिफर लोपेज ने किया परफॉर्म

अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह में बुधवार को लेडी गागा ने राष्ट्रगान गाया.

सामान्य तौर पर अनोखे कपड़ों में नजर आने वाली ग्रैमी विजेता लेडी गागा ने अपनी शर्ट पर बड़े आकार का सफेद कबूतर का पिन लगाया हुआ था और बेहद भारी-भरकम लाल रंग का स्कर्ट पहने हुए थीं. कार्यक्रम में सुनहरे रंग के माइक पर उन्होंने पूरे जोश के साथ राष्ट्रगान ‘द स्टार स्पैंगल्ड बैनर’ गाया.

उनके बाद सफेद लिबास में आईं प्रख्यात गायिका जेनिफर लोपेज ने दो लोकप्रिय गीत ‘दिस लैंड इज योर लैंड’ और ‘अमेरिका द ब्यूटीफुट’ गाए.

गार्थ ब्रुक्स ने ‘अमेजिंग ग्रेस’ गाते हुए सबका न सिर्फ मन मोहा बल्कि लोगों को अपने साथ गीत का अंतिम अंतरा गाने पर मजबूर कर दिया. काउबॉव हैट पहने मंच से उतरते हुए गायक ने राष्ट्रपति जो बाइडन, पूर्व उपराष्ट्रपति माइक पेंस से हाथ मिलाया, वहीं पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा से गले भी मिले.

करीब 90 मिनट तक चले ‘सेलिब्रेटिंग अमेरिका’ कार्यक्रम की मेजबानी अभिनेता टॉम हैंक्स ने की.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)