भारत

तेलंगाना: टीकाकरण के बाद स्वास्थ्यकर्मी की मौत, अधिकारी ने कहा- मृत्यु का कारण टीका नहीं

तेलंगाना में अभी तक 69,625 लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है. सार्वजनिक स्वास्थ्य के निदेशक के अनुसार, अभी तक राज्य के 77 लोगों में टीकाकरण के बाद प्रतिकूल प्रभाव के मामले सामने आए हैं, जिसमें से तीन को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा था और उनकी हालत स्थिर है.

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

हैदराबाद: तेलंगाना के निर्मल जिले में कोविड.19 का टीका लगवाने वाले एक 42 वर्षीय स्वास्थ्यकर्मी की मौत होने का मामला सामने आया है. हालांकि स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि उनकी मौत टीके के कारण नहीं हुई है.

स्वास्थ्यकर्मी ने जिले के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) में 19 जनवरी को दिन में 11:30 बजे कोविशील्ड टीके की खुराक ली थी और उन्हें 20 जनवरी को तड़के 2:30 बजे सीने में दर्द हुआ.

राज्य के लोक स्वास्थ्य निदेशक जी. श्रीनिवास राव ने एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि स्वास्थ्यकर्मी को करीब 5:30 बजे सुबह अस्पताल लाया गया.

विज्ञप्ति में कहा गया, ‘आरंभिक तथ्यों से पता चला है कि टीकाकरण के कारण उनकी मौत नहीं हुई.’

तय दिशानिर्देशों के तहत डॉक्टरों की एक टीम शव का पोस्टमॉर्टम करेगी. टीकाकरण के बाद प्रतिकूल प्रभाव (एईएफआई) पर गौर करने के लिए बनाई गई जिला समिति मामले की जांच कर रही है और वह राज्य एईएफआई समिति को रिपोर्ट सौंपेगी.

इसके बाद राज्य एईएफआई समिति केंद्रीय एईएफआई समिति को यह रिपोर्ट देगी.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, इसके बाद शाम में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि पोस्टमॉर्टम किया जा रहा है. मंत्रालय ने बताया कि देशभर में जारी टीकाकरण के पांचवें दिन शाम 6:00 बजे तक 82 प्रतिकूल मामले सामने आए.

हालांकि, स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि अभी तक टीकाकरण के कारण कोई भी गंभीर या गंभीर एईएफआई का मामला सामने नहीं आया है.

बता दें कि देश के अन्य हिस्सों के साथ ही राज्य में 16 जनवरी को टीकाकरण शुरू हुआ था.

तेलंगाना में अभी तक 69,625 लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है. सार्वजनिक स्वास्थ्य के निदेशक के अनुसार, अभी तक 77 लोगों में एईएफआई के मामले सामने आए हैं, जिसमें से तीन को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा था और उनकी हालत स्थिर है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)