भारत

पुणे के सीरम इंस्टिट्यूट में आग लगने से पांच लोगों की मौत, कोविशील्ड केंद्र सुरक्षित

महाराष्ट्र के पुणे शहर स्थित सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के मंजरी परिसर में एक भवन में बृहस्पतिवार दोपहर बाद आग लग गई थी. इंस्टिट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने आश्वस्त किया है कि आग लगने की वजह से कोरोना वैक्सीन ‘कोविशील्ड’ का उत्पादन प्रभावित नहीं होगा.

Pune: Workers of Serum Institute of India come out of the building after fire broke out in it, in Pune, Thursday, Jan. 21, 2021. (PTI Photo)(PTI01 21 2021 000119B)

पुणे स्थित सीरम इंस्टिट्यूट की फैक्टरी में आग लगने के बाद इमारत से बाहर निकलते कर्मचारी. (फोटोः पीटीआई)

पुणे: पुणे स्थित भारतीय सीरम संस्थान (सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया) के मंजरी परिसर में एक भवन में बृहस्पतिवार को आग लगने से अब तक कम से कम पांच लोगों की मौत हो गई है.

इंस्टिट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने आश्वस्त किया है कि आग लगने की वजह से कोरोना वैक्सीन ‘कोविशील्ड’ का उत्पादन प्रभावित नहीं होगा.

अग्निशमन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि इमारत से अब तक पांच जले हुए शव बरामद किए गए हैं, जहां दोपहर में आग लग गई थी.

पुणे के मेयर मुरलीधर मोहोल ने कहा, ‘इमारत से चार लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है, लेकिन जब स्थिति नियंत्रण में आई तो हमारे जवानों द्वारा अंदर पांच शव बरामद किए गए.’

उन्होंने आगे कहा, ‘जिन पांच लोगों की मौत हुई है, वे संभवतः निर्माणाधीन इमारत के मजदूर थे. आग लगने के कारणों का पता अभी नहीं चल पाया है, लेकिन कहा जा रहा है कि इमारत में वेल्डिंग के कार्य के दौरान आग लगी.’

अदार पूनावाला ने ट्वीट किया, ‘हमें अभी कुछ परेशान करने वाली जानकारी मिली है. आगे की जांच में हमने जाना कि घटना में दुर्भाग्यवश कुछ लोगों की जान चली गई है. हमें गहरा दुख हुआ है. दिवंगतों के परिवार के सदस्यों के प्रति हमारी गहरी संवेदना है.’

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘मैं सभी सरकारों और जनता को आश्वस्त करना चाहूंगा कि कई उत्पादन भवनों के कारण कोविशील्ड उत्पादन को कोई नुकसान नहीं होगा. सीरम इंस्टिट्यूट में इस तरह की आकस्मिक स्थितियों से निपटने के लिए मैंने इन्हें बचा कर रखा था. पुणे शहर की पुलिस और दमकल विभाग का शुक्रिया.’

पुलिस उपायुक्त नम्रता पाटिल ने कहा कि अपराह्न करीब 2:45 बजे सीरम संस्थान के परिसर में स्थित एसईजेड-3 भवन के चौथे और पांचवें तल पर आग लग गई. उन्होंने कहा, ‘चार लोगों को भवन से बाहर निकाल लिया गया है.’

घटना के वायरल हुए वीडियो में भवन से धुआं उठता दिख रहा है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, सीरम इंस्टिट्यूट फैक्टरी के मैनेजर विवेक प्रधान ने बताया, ‘तीसरी मंजिल पर जहां आग लगी वह एक रोटा वायरस लैब था. वहां कोविशील्ड का कोई स्टॉक नहीं रखा गया था. इमारत में बिजली और पाइप फिटिंग का काम चल रहा था. ठेकेदार के तीन से चार लोग आग लगने पर इमारत में फंस गए थे, जिन्हें दमकल विभाग के कर्मचारियों द्वारा बचा लिया गया.’

कोविड-19 के राष्ट्रव्यापी टीकाकरण कार्यक्रम के लिए ‘कोविशील्ड’ टीके का निर्माण सीरम संस्थान के मंजरी केंद्र में ही किया जा रहा है.

सूत्रों ने कहा कि जिस भवन में आग लगी वह सीरम केंद्र की निर्माणाधीन साइट का हिस्सा है और कोविशील्ड निर्माण इकाई से एक किमी दूर है, इसलिए आग लगने से कोविशील्ड के निर्माण पर कोई असर नहीं पड़ा है.

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने कहा कि राज्य सरकार ने आग की जांच के आदेश दिए हैं.

पवार ने कहा, ‘मैंने पुणे नगर निगम से घटना के बारे में जानकारी ली है और इस घटना की विस्तृत जांच करने का निर्देश दिया गया है.’ उन्होंने कहा कि आग लगने के कारण वहां टीके बनाने की प्रक्रिया पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है.

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने स्थानीय प्रशासन से आग को नियंत्रण में लाने को कहा है. उनके कार्यालय द्वारा किए गए ट्वीट में उन्होंने कहा कि वह पुणे नगर आयुक्त के संपर्क में हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)