राजनीति

पंजाबः कांग्रेस-अकाली दल कार्यकर्ताओं की झड़प में सुखबीर बादल की कार पर हमला, चार घायल

जलालाबाद के फाजिल्का में यह घटना उस समय हुई, जब सुखबीर बादल अकाली दल के उम्मीदवारों के साथ आगामी निकाय चुनाव का नामांकन पत्र दाखिल करने एसडीएम ऑफिस जा रहे थे. अकाली दल ने सत्तारूढ़ कांग्रेस के एक विधायक के बेटे पर यह हमला करने का आरोप लगाया है.

सुखबीर सिंह बादल. (फोटो: पीटीआई)

सुखबीर सिंह बादल. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्लीः पंजाब के जलालाबाद में मंगलवार को शिरोमणि अकाली दल (एसएडी) और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई, जिसमें एसएडी प्रमुख सुखबीर सिंह बादल की कार क्षतिग्रस्त हो गई.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, अकाली दल और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच हुए झगड़े में पत्थरबाजी हुई और उपद्रवियों की ओर से गोलियां भी चलीं.

हमले में अकाली दल के तीन कार्यकर्ताओं को गोलियां लगी हैं इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, हालांकि बादल सकुशल बचकर निकलने में कामयाब रहे जबकि इस घटना में चार अन्य लोग घायल हो गए.

यह घटना उस समय हुई, जब बादल 14 फरवरी को होने जा रहे निकाय चुनाव के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने के लिए अकाली दल के उम्मीदवारों के साथ एसडीएम ऑफिस जा रहे थे.

बता दें कि पंजाब के आठ नगर निगमों, 109 नगर परिषदों और नगर पंचायतों में चुनाव होंगे.

शिरोमणि अकाली दल ने बयान जारी कर कहा, ‘पुलिस समर्थित कांग्रेस के गुंडों ने आज एसएडी के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल पर हमला किया. उन्हें बचाने के लिए सामने आए पार्टी के तीन कार्यकर्ताओं को गोली लगी है.’

फाजिल्का के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक हरजीत सिंह ने कहा कि चार लोग घायल हुए हैं. एक गंभीर रूप से घायल शख्स को गुरु गोबिंद सिंह मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल ले जाया गया है.

उन्होंने कहा, ‘हमने स्थिति पर नियंत्रण कर लिया है और सभी उम्मीदवारों ने शांतिपूर्ण माहौल में नामांकन पत्र भरा. जांच जारी है और आरोपियों को पकड़ जाएगा.’

इसके बाद कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए बादल ने कांग्रेस के स्थानीय विधायकों और पुलिस पर निशाना साधा. वह दोषियों के खिलाफ मामला दर्ज कराने की मांग के साथ शहीद उधम सिंह चौक पर धरने पर बैठे.

इस बीच एसएडी ने अकाली कार्यकर्ताओं और बादल पर हमले की निंदा की और राज्य में कानून एवं व्यवस्था के कथित तौर पर बाधित होने के लिए मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के इस्तीफे की मांग की.

बादल के मीडिया सलाहकार जंगवीर सिंह ने कहा कि सत्तारूढ़ पार्टी के विधायक रमिंदर सिंह आवला के बेटे की अगुवाई में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने अकाली कार्यकर्ताओं पर हमला किया.

जंगवीर सिंह ने कहा, ‘कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बादल के वाहन पर पथराव किया, गोलियां चलाईं और दो अकाली कार्यकर्ताओं को घायल किया.
उन्होंने कहा कि इस पूरी घटना के दौरान पुलिस मूकदर्शक बनी रही.’

वहीं, एक एन्य अकाली नेता परमबंस सिंह रोमाना ने भी गोलियां चलाने के लिए कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर आरोप लगाया.