भारत

कोलकाता में भाजपा युवा मोर्चा की नेता को​कीन मिलने के बाद गिरफ़्तार: पुलिस

पुलिस ने बताया कि दक्षिण कोलकाता के न्यू अलीपुर इलाके से भारतीय जनता युवा मोर्चा की राज्य सचिव पामेला गोस्वामी को उनके एक मित्र और एक सुरक्षाकर्मी के साथ पकड़ा गया. भाजपा का कहना है कि मादक पदार्थ बरामद करने के मामले में पुलिस की भूमिका संदिग्ध है. वहीं तृणमूल कांग्रेस ने इस घटना की निंदा की है.

पामेला गोस्वामी. (फोटो साभार: फेसबुक)

पामेला गोस्वामी. (फोटो साभार: फेसबुक)

कोलकाता: दक्षिण कोलकाता के न्यू अलीपुर इलाके से भाजपा की युवा इकाई की नेता पामेला गोस्वामी से शुक्रवार को कोकीन बरामद कर उन्हें गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने यह जानकारी दी.

पुलिस के अनुसार, भारतीय जनता युवा मोर्चा की राज्य सचिव 23 वर्षीय पामेला गोस्वामी को उनके एक मित्र और एक सुरक्षाकर्मी के साथ पकड़ा गया. उनके मित्र की पहचान 38 वर्षीय प्रबीर कुमार डे के रूप में हुई. दोनों एक कार में सवार थे. सुरक्षाकर्मी की पहचान 26 वर्षीय सोमनाथ चटर्जी के रूप में हुई है.

पुलिस ने कहा कि गोस्वामी के बैग और कार के अन्य हिस्सों से करीब 100 ग्राम कोकीन बरामद की गई. इसकी कीमत तकरीबन 10 लाख रुपये बताई जा रही है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, उनके खिलाफ नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रॉपिक सब्सटेंसेस एक्ट 1985 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है.

एक अधिकारी ने कहा कि गुप्त सूचना के आधार पर न्यू अलीपुर थाना पुलिस ने गोस्वामी को उस समय गिरफ्तार किया, जब वह अपनी कार खड़ी करने जा रही थीं.

अधिकारी ने कहा, ‘गोस्वामी कुछ समय से मादक पदार्थ की तस्करी में संलिप्त थीं. आज हमें सूचना मिली कि वह अपने सहयोगी प्रबीर के साथ खरीददार को मादक पदार्थ की आपूर्ति करने आ रही हैं.’

उन्होंने कहा कि आठ वाहनों में सवार पुलिस दल ने गोस्वामी की कार को घेरकर उन्हें गिरफ्तार किया.

अधिकारी ने कहा, ‘इस मामले में जांच जारी है. हम इस बात का पता लगाने में जुटे हैं कि कहीं वह किसी मादक पदार्थ गिरोह का हिस्सा तो नहीं है?’

अप्रैल-मई में होने जा रहे पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पामेला गोस्वामी भाजपा युवा मोर्चा के राजनीतिक कार्यक्रमों में सक्रिय रूप से शामिल हो रही थीं.

इस बीच भाजपा ने कहा है कि मादक पदार्थ बरामद करने के मामले में पुलिस की भूमिका संदिग्ध है. हालांकि, यदि गोस्वामी गलत हैं तो कानून को अपना काम करना चाहिए.

भाजपा सांसद लॉकेट चटर्जी ने कहा, ‘पूर्व में हमने देखा है कि राज्य पुलिस ने शस्त्र मामलों में कई भाजपा कार्यकर्ताओं का नाम शामिल कर दिया. इस मामले के बारे में मुझे बहुत अधिक जानकारी नहीं मिल पाई है, इसलिए मैं अभी ज्यादा कुछ बताने की स्थिति में नहीं हूं.’

भाजपा के राज्य प्रवक्ता शामिक भट्टाचार्य ने कहा, ‘इस बारे में में मैं स्पष्ट तौर पर कुछ नहीं जानता. हालांकि यह चिंता का विषय है कि क्या उनके बैग में ड्रग्स था या फिर इसे किसी ने रख दिया था. आदर्श आचार संहिता लागू है और राज्य पुलिस अब तक राज्य सरकार के तहत काम कर रही है.’

इस बीच राज्य की मंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस की वरिष्ठ नेता चंद्रिमा भट्टाचार्य ने भाजपा पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि यह शर्म की बात है कि पार्टी की महिलाएं तक इस तरह के गैर-कानूनी मामलों में संलिप्त पाई गईं.

तृणमूल कांग्रेस सांसद सौगत रॉय ने कहा, ‘इससे पहले भाजपा की एक महिला नेता जलपाईगुड़ी में बच्चों की तस्करी में शामिल पाई गई थी. अब ड्रग्स के साथ एक अन्य युवा नेता को गिरफ्तार किया गया है.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)