दुनिया

कोरोना वायरस: देश में टीकाकरण का दूसरा चरण शुरू, कुल मामले 1.11 करोड़ के पार

बीते चौबीस घंटों में देश में कोरोना वायरस के 15,510 नए मामले सामने आए हैं. वहीं 106 लोगों की जान जाने के बाद मृतक संख्या बढ़कर 1,57  लाख हो गई. इसके साथ सोमवार से देश में कोविड-19 टीकाकरण का दूसरा चरण शुरू हो गया है, जिसमें 60 साल से ऊपर के बुज़ुर्गों को वैक्सीन दी जाएगी.

(फोटो: पीटीआई)

(फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: सोमवार से देश में कोविड-19 टीकाकरण का दूसरा चरण शुरू हो गया है. इस चरण में 60 साल से ऊपर के बुजुर्गों का टीकाकरण किया जाएगा.

टीकाकरण के लिए लोग कोविन टू-पाइंट जीरो पोर्टल या आरोग्‍य सेतु जैसे अन्‍य आईटी एप्‍लीकेशन पर अपना पंजीकरण करा सकेंगे.

वहीं, भारत में एक दिन में कोविड-19 के 15,510 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमितों की संख्या 1.11 करोड़ से अधिक हो गई. वहीं, लगातार पांचवे दिन उपचाराधीन मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ और यह 1,68,627 पर पहुंच गई.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सोमवार सुबह आठ बजे जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 1,11,12,241 हो गए हैं. वहीं, 106 और मरीजों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 1,57,157 हो गई.

आंकड़ों के अनुसार, कुल 1,07,86,457 लोगों के संक्रमण मुक्त होने के साथ ही देश में मरीजों के ठीक होने की दर 97.07 प्रतिशत हो गई. वहीं कोविड-19 से मृत्यु दर 1.41 प्रतिशत है.

देश में अभी 1,68,627 लोगों का कोरोना वायरस संक्रमण का इलाज चल रहा है, जो कुल मामलों का 1.52 प्रतिशत है.

देश में पिछले साल सात अगस्त में संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितंबर को 40 लाख से अधिक हो गई थी.

वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितंबर को 50 लाख, 28 सितंबर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख और 20 नवंबर को 90 लाख और 19 दिसंबर को एक करोड़ के पार चले गए थे.

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, देश में 28 फरवरी तक 21,68,58,774 नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच की जा चुकी है. इनमें से 6,27,668 नमूनों की जांच रविवार को की गई थी.

आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में जिन 106 लोगों की वायरस से मौत हुई, उनमें से महाराष्ट्र के 62, केरल के 15, पंजाब के सात और कर्नाटक के पांच लोग थे.

मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में वायरस से अभी तक कुल 1,57,157 लोगों की मौत हुई है, जिनमें से महाराष्ट्र के 52,154, तमिलनाडु के 12,496, कर्नाटक के 12,331, दिल्ली के 10,910, पश्चिम बंगाल के 10,268, उत्तर प्रदेश के 8,725 और आंध्र प्रदेश के 7,169 लोग थे.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि अभी तक जिन लोगों की मौत हुई, उनमें से 70 प्रतिशत से ज्यादा मरीजों को अन्य बीमारियां भी थीं.

मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर बताया कि उसके आंकड़ों का आईसीएमआर के आंकड़ों के साथ मिलान किया जा रहा है.

वायरस के मामले और मौतें

24 घंटे में सामने आए नए मामलों की बात करें तो बीते 28 फरवरी को 16,752, 27 फरवरी को 16,488, 26 फरवरी को 16,577, 25 फरवरी को 16,738, 24 फरवरी को 13,742, 23 फरवरी को 10,584, 22 जनवरी को 14,199, 21 फरवरी को 14,264, 20 फरवरी को 13,993, 19 फरवरी को 13,193, 18 फरवरी को 12,881, 17 फरवरी को 11,610, 16 फरवरी को 9,121, 15 फरवरी को 11,649, 14 फरवरी को 12,194, 13 फरवरी को 12,143, 12 फरवरी को 9,309, 11 फरवरी को 12,923, दस फरवरी को 11,067, नौ फरवरी को 9,110, आठ फरवरी को 11,831, सात फरवरी को 12,059, छह फरवरी को 11,713, पांच फरवरी को 12,408, चार फरवरी को 12,899, तीन फरवरी को 11,039, दो फरवरी को 8,635, एक फरवरी को 11,427 नए मामले सामने आए थे.

इसी तरह 24 घंटे में मौत के मामलों की बात करें तो 28 फरवरी को 113, 27 फरवरी को 113, 26 फरवरी को 120, 25 फरवरी को 138, 24 फरवरी को 104, 23 फरवरी को 78, 22 जनवरी को 83, 21 फरवरी को 90, 20 फरवरी को 101, 19 फरवरी को 97, 18 फरवरी को 101, 17 फरवरी को 100, 16 फरवरी को 81, 15 फरवरी को 90, 14 फरवरी को 92, 13 फरवरी को 103, 12 फरवरी को 78, 11 फरवरी को 108, दस फरवरी को 94, नौ फरवरी को 78, आठ फरवरी को 84, सात फरवरी को 78, छह फरवरी को 95, पांच फरवरी को 120, चार फरवरी को 107, तीन फरवरी को 110, दो फरवरी को 94, एक फरवरी को 118 लोग संक्रमण से जान गंवा चुके हैं.

जनवरी में 24 घंटे के दौरान संक्रमण के सर्वाधिक 20,346 मामले बीते सात जनवरी को दर्ज किए गए थे. वहीं इस अवधि में सबसे अधिक 264 लोगों की मौत छह जनवरी को हुई थी.

31 जनवरी को 13,052, 30 जनवरी को 13,083, 29 जनवरी को 18,855, 28 जनवरी को 11,666, 27 जनवरी को 12,689, 26 जनवरी को 9,102, 25 जनवरी को 13,203, 24 जनवरी को 14,849, 23 जनवरी को 14,256, 22 जनवरी को 14,545, 21 जनवरी को 15,223, 20 जनवरी को 13,823 नए मामले सामने आए थे.

31 जनवरी को 127, 30 जनवरी को 137, 29 जनवरी को 163, 28 जनवरी को 123, 27 जनवरी को 137, 26 जनवरी को 117, 25 जनवरी को 131, 24 जनवरी को 155, 23 जनवरी को 152, 22 जनवरी को 163, 21 जनवरी को 151, 20 जनवरी को 162 लोगों ने संक्रमण से जान गंवाई थी.

इससे पहले दिसंबर महीने में 24 घंटे के दौरान पांच दिसंबर को संक्रमण के अधिकतम 36,652 मामले सामने आए थे और चार दिसंबर को संक्रमण से अधिकतम 540 लोगों की मौत हुई थी. नवंबर महीने 24 घंटे के दौरान सात नवंबर को संक्रमण के अधिकतम 50,356 मामले सामने आए थे और पांच नवंबर को संक्रमण से अधिकतम 704 लोगों की मौत हुई थी.

अक्टूबर महीने की बात करें तो एक तारीख को अधिकतम 86,821 और 28 अक्टूबर को न्यूनतम 43,893 मामले 24 घंटे के दौरान सामने आए थे. अक्टूबर में 24 घंटे में मरने वालों की अधिकतम संख्या 1 अक्टूबर को 1,181 थी.

सात सितंबर को 90,802 और 30 सितंबर को 80,472 नए मामले दर्ज किए गए थे. सात से 30 सितंबर के बीच नए मामलों की संख्या घटती बढ़ती रही. इस अवधि में 22 सितंबर को 75,083 (न्यूनतम) और 17 सितंबर को 97,894 (अधिकतम) मामले दर्ज किए गए थे, जो अब तक का सर्वाधिक आंकड़ा भी है.

छह सितंबर को संक्रमण के नए मामले पहली बार 90 हजार (90,632) के पार हो गए थे. 28 अगस्त को पहली बार 70 हजार (75,760) के पार, सात अगस्त को पहली बार 60 हजार (62,538) के पार, 30 जुलाई को पहली बार 50 हजार के पार हो गए थे.

इसी तरह 20 जुलाई को यह पहली बार 40 हजार के पार, 16 जुलाई को पहली बार 30 हजार के पार, 10 जुलाई को पहली बार 25 हजार (26,506) के पार, तीन जुलाई को पहली बार 20 हजार के पार, 21 जून को पहली बार 15 हजार के पार और 20 जून को संक्रमण के नए मामलों की संख्या पहली बार 14 हजार के पार हुई थी.

सितंबर महीने में एक दिन में मरने वालों की बात करें तो एक सितंबर को इनकी संख्या 819 और 29 सितंबर को न्यूनतम 776 थी. इन दो तारीखों के अलावा पूरे महीने हर दिन मरने वालों की संख्या एक हजार से अधिक रही है. 16 सितंबर को 1290 लोगों की जान गई, जो एक दिन में मरने वालों का सर्वाधिक आंकड़ा है.

10 अगस्त से 31 अगस्त तक बीते 24 घंटे या एक दिन में मरने वालों की संख्या 1007 से अधिकतम 1,092 (19 अगस्त का आंकड़ा) के बीच रही. 24 जुलाई से नौ अगस्त के बीच एक दिन या 24 घंटे में मौत का आंकड़ा 700 से लेकर 933 (आठ अगस्त का आंकड़ा) के बीच रहा है. एक जुलाई से 23 जुलाई के बीच यह आंकड़ा 507 से 1,129 के बीच रहा.

11 जून से 30 जून के बीच मरने वालों की संख्या 300 से 500 के अंदर रही है. 22 जून को एक दिन में मरने वालों की संख्या पहली बार 400 से अधिक रही थी. और 11 जून को पहली बार मरने वालों की संख्या 300 के आंकड़े को पार कर गई थी.

टीकाकरण के लिए करवाना होगा पंजीकरण

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और अन्य बीमारियों से पीड़ित 45-59 वर्ष के लोगों के लिए पंजीकरण शुरू होने से पहले राज्यों एवं जिलों को कोविड-19 टीकाकरण केंद्रों (सीवीसी) का पूर्व पंजीकरण को-विन 2.0 पोर्टल पर कराना जरूरी होगा ताकि नागरिकों को सीवीसी की सूची उपलब्ध हो सके.

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार पंजीकरण एक मार्च सुबह 9 बजे से शुरू होगा. पात्र लाभार्थी अपनी पसंद का केंद्र चुन सकते हैं और उपलब्ध स्लॉट के आधार पर अपॉइंटमेंट बुक कर सकते हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा को-विन 2.0 पर जारी दिशानिर्देश नोट के अनुसार राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को एक टीकाकरण चक्र में दी जाने वाली खुराक की संख्या तय करना होगा .

जहां तक टीकाकरण स्लॉट का संबंध है, इन्हें आगे मोबिलाइजेशन स्लॉट और ओपन स्लॉट के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है. मोबिलाइजेशन स्लॉट वे होते हैं जिनके लिए संबंधित राज्य और केंद्रशासित प्रदेश ऑन-साइट पंजीकरण, अपॉइंटमेंट, सत्यापन और टीकाकरण के लिए लाभार्थियों को जुटाएंगे.

इसके लिए ऑनलाइन इंटरफेस के माध्यम से लाभार्थियों के लिए पूर्व-पंजीकरण की कोई आवश्यकता नहीं होगी. ऐसे स्लॉट का अनुपात संबंधित राज्य और केंद्र सरकार द्वारा तय किया जाएगा.

सामान्य नागरिकों के लिए ओपन स्लॉट ऑनलाइन अपॉइंटमेंट के लिए खुले रहेंगे. एक सत्र के लिए ओपन स्लॉट की संख्या सीवीसी सत्र क्षमता से आरक्षित स्लॉट घटाकर तय की जाएगी.

दिशानिर्देश नोट, ‘यह अनुशंसा की जाती है कि शुरूआत में कोई भी विशेष कोविड-19 टीकाकरण केंद्र (सीवीसी) या तो पूरी तरह से आरक्षित हो सकता है या उसकी पूर्ण क्षमता ऑनलाइन सेल्फ-अपॉन्टेंट के लिए खोली जा सकती है, ताकि वहां कतार प्रबंधन में भ्रम और समस्याओं से बचा जा सके.’

दुनियाभर में मामले 11.40 करोड़ से ज़्यादा, 25.30 लाख से अधिक लोगों की मौत

अमेरिका की जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, पूरी दुनिया में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 114,067,962 हो गए हैं और अब तक 2,530,723 लोगों की जान जा चुकी है.

दुनियाभर में कोरोना से अमेरिका सबसे अधिक प्रभावित देश है. यहां संक्रमण के अब तक 28,605,652 मामले सामने आए हैं, जबकि मरने वालों की संख्या 513,091 हो चुकी है.

भारत संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित दूसरा देश है. भारत के बाद तीसरे सर्वाधिक प्रभावित देश ब्राजील में संक्रमण के अब तक 10,551,259 मामले मिले हैं और 254,942 लोग दम तोड़ चुके हैं.

ब्राजील के बाद चौथे सर्वाधिक प्रभावित देश रूस में संक्रमण के 4,198,400 मामले आए हैं, जबकि 84,700 मरीजों की मौत दर्ज की जा चुकी है.

रूस के बाद पांचवें सर्वाधिक प्रभावित देश ब्रिटेन में संक्रमण के 4,188,827 मामले आए हैं, जबकि 123,083 मरीजों की मौत के मामले सामने आए हैं.

ब्रिटेन के बाद छठे सर्वाधिक प्रभावित देश फ्रांस में संक्रमण के 3,747,263 मामले आए हैं और 85,741 (रविवार तक) लोगों ने जान गंवा दी है. फ्रांस के बाद सातवें सर्वाधिक प्रभावित स्पेन में संक्रमण के 3,188,553 मामले (शनिवार तक) सामने आए हैं और 69,142 मौतें हुई हैं.

स्पेन के बाद आठवें सर्वाधिक प्रभावित देश इटली में संक्रमण के 2,925,265 मामले दर्ज हुए हैं, जबकि 97,699  मौतें हुई हैं. इटली के बाद नौवें प्रभावित देश तुर्की में संक्रमण के 2,701,588 मामले सामने आए हैं और 28,569 मौतें हुई हैं.

तुर्की के बाद 10वें सर्वाधिक प्रभावित देश जर्मनी में संक्रमण के 2,450,295 मामले सामने आ चुके हैं, जबकि 70,152 लोगों की यह महामारी जान ले चुकी है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)