भारत

उत्तर प्रदेश: खेत में मिला दलित किशोरी का शव, बलात्कार की आशंका

मामला अलीगढ़ ज़िले के अकराबाद का है, जहां रविवार को पशुओं के लिए चारा लेने गई सोलह साल की किशोरी का शव देर शाम एक खेत में अर्द्धनग्नावस्था में पड़ा मिला. अंदेशा है कि उसके साथ दुष्कर्म हुआ है. पुलिस ने परिजनों की शिकायत पर हत्या व बलात्कार का मामला दर्ज किया है.

aligarh-map

अलीगढ़: उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में एक 16 वर्षीय दलित लड़की का शव खेत में मिला. उसके साथ दुष्कर्म की आशंका जताते हुए ग्रामीण आक्रोशित हुए और पुलिस पर पथराव किया.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, पुलिस ने बताया कि दलित लड़की का शव यहां अकराबाद इलाके में एक खेत में मिला, जिसके बाद ग्रामीण पुलिस से भिड़ गए और पथराव किया.

पुलिस के मुताबिक लड़की रविवार दोपहर खेतों में पशुओं के लिए चारा लेने गई थी लेकिन वापस नहीं लौटी. बाद में उसके परिजन उसे ढूंढना शुरू किया. शव खेत में पड़ा मिला.

पुलिस ने कहा कि प्रथम दृष्टया ऐसा प्रतीत होता है कि उसकी गला घोंटकर हत्या की गई है. इसकी खबर फैलते ही गुस्साए ग्रामीणों ने पुलिस टीम पर पथराव करना शुरू कर दिया जो शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाने की कोशिश कर रही थी.

पुलिस ने कहा कि हमले में इंस्पेक्टर प्रणेंद्र कुमार घायल हो गए.

अमर उजाला के मुताबिक, ग्रामीण अपराधियों के नाम उजागर होने तक शव नहीं ले जाने देने की जिद पर अड़ गए थे. इस दौरान पुलिस की गाड़ियों के आगे ग्रामीणों ने प्रदर्शन किया और ईंट-पत्थर भी फेंके.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मुनिराज ने रविवार देर रात पत्रकारों को बताया कि वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने घटनास्थल पर पहुंच कर ग्रामीणों को काफी समझाने के बाद करीब दस बजे शव को पुलिसकर्मियों को सौंपा.

उन्होंने कहा कि आरोप है कि पीड़िता का यौन उत्पीड़न किया गया था. पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने पर सब कुछ स्पष्ट हो जाएगा.

अखबार के मुताबिक अकराबाद क्षेत्र के एक गांव की अनुसूचित जाति की बुजुर्ग विधवा अकेली रहती थी. उसने कुछ दस साल पहले अलीगढ़ शहर में रहने वाली अपनी पांच साल की धेवती को अपने पास रख लिया था. तब से वह यहीं रहती थी.

बुजुर्ग महिला के अनुसार रविवार दोपहर करीब बारह बजे किशोरी अपने खेतों से चारा लेने गई थी. जब वह काफी देर तक नहीं लौटी तो दोपहर करीब ढाई बजे वह उसे देखने पहुंची, लेकिन किशोरी नहीं मिली.

उसके बाद उन्होंने गांव से कुछ लोगों को बुलवा लिया. देर शाम करीब छह बजे किशोरी का अर्द्धनग्न शव अपने खेत से करीब 500 मीटर दूर एक गेहूं के खेत में पड़ा मिला.

आशंका जताया जा रहा है कि पहचाने जाने के डर से दुष्कर्म के बाद आरोपियों ने उसकी हत्या कर दी.

पत्रिका के अनुसार, पुलिस ने सोमवार सुबह परिजनों के शिकायत पर अज्ञात के खिलाफ हत्या व बलात्कार की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है.

पुलिस ने इस मामले में तीन युवकों को हिरासत में लिया है. हालांकि युवकों के परिजन का कहना है कि उनके बच्चे रविवार शाम छह बजे आगरा से लौटे थे, वे वहां सेना में भर्ती के लिए गए थे.

एसएसपी मुनिराज ने बताया कि पुलिस किशोरी की हत्या की जांच कर रही है. ग्रामीणों ने पड़ोस के गांव में रहने वाले दो युवकों पर शक जाहिर किया है.

बता दें कि इससे पहले 17 फरवरी को उन्नाव जिले के बबुरहा गांव में दलित समुदाय की तीन लड़कियां बेसुध अवस्था में मिली थी, जिनमें से दो को अस्पताल ले जाने पर मृत घोषित कर दिया गया था जबकि 17 साल की नाबालिग का कानपुर के अस्पताल में इलाज चल रहा है.

लड़कियों के परिवार के मुताबिक, ये तीनों लड़कियों जानवरों के लिए चारा इकट्टा करने खेत गई थीं लेकिन वापस नहीं लौटी.

17 साल की नाबालिग लड़की ने मजिस्ट्रेट के समक्ष दिए बयान में यौन उत्पीड़न के आरोपों से इनकार करते हुए कहा था कि उसे जहर दिया गया था.

यूपी पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया है. पुलिस के अनुसार मामले में गिरफ़्तार एक युवक ने स्वीकारा है कि उसने उपचाराधीन युवती के फोन नंबर देने से मना करने पर नाराज़ होकर पानी में कीटनाशक मिलाया, जिसे तीनों ने पिया था.