भारत

‘लव जिहाद’ शब्दावली से असहमत, अंतरधार्मिक विवाह से कोई समस्या नहीं: दुष्यंत चौटाला

हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला की यह टिप्पणी 5 मार्च को विधानसभा के बजट सत्र के दौरान राज्य सरकार के ‘लव जिहाद’ पर विधेयक तैयार करने की पृष्ठभूमि में आई है.

हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला. (फोटो: पीटीआई)

हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि वह ‘लव जिहाद’ शब्दावली से सहमत नहीं हैं और किसी व्यक्ति के दूसरे संप्रदाय के व्यक्ति से अपनी इच्छा से शादी करने पर उन्हें कोई समस्या नहीं है.

एनडीटीवी को दिए एक इंटरव्यू में चौटाला ने कहा, ‘मैं इस शब्दावली से सहमत नहीं हूं जिसे ‘लव जिहाद’ कहा जाता है. हमें विशेष रूप से बलपूर्वक धर्म परिवर्तन की जांच के लिए एक कानून मिलेगा और हम इसका समर्थन करेंगे. यदि कोई स्वेच्छा से धर्म बदलता है या किसी अन्य धर्म के व्यक्ति से विवाह करता है, तो कोई रोक नहीं है.’

चौटाला की यह टिप्पणी 5 मार्च को विधानसभा के बजट सत्र के दौरान राज्य सरकार के लव जिहाद पर एक विधेयक को तैयार करने की पृष्ठभूमि में आई है.

इससे पहले किसान आंदोलन के बीच चौटाला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) बरकरार रखने की मांग की. यहां तक की उन्होंने किसान की फसल की खरीद पर एमएसपी सुनिश्चित करवाने में असफल होने पर राज्य में सरकार छोड़ने की भी धमकी दी.

बता दें कि चौटाला जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के नेता हैं जो हरियाणा में भाजपा की सहयोगी है.

जेजेपी के अल्पसंख्यक सेल के प्रमुख मोहसिन चौधरी ने कहा, ‘हमने अपने नेता दुष्यंत चौटाला के साथ मेवात के लोगों की एक बैठक आयोजित की थी. उन्होंने विधानसभा में पेश किए जाने वाले नए कानून के बारे में हमारी चिंता को संबोधित किया.’

हिंदू ने एक आरटीआई सूचना के हवाले से बताया कि पिछले तीन सालों में हरियाणा में लव जिहाद के चार मामले दर्ज किए गए हैं.

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि पुलिस दो मामलों में एफआईआर को रद्द करने के आगे बढ़ी और एक तीसरे को बरी कर दिया गया. चौथा मामला अदालत में है.

‘लव जिहाद’ हिंदूवादी संगठनों द्वारा इस्तेमाल में लाई जाने वाली शब्दावली है, जिसमें कथित तौर पर हिंदू महिलाओं को जबरदस्ती या बहला-फुसलाकर उनका धर्म परिवर्तन कराकर मुस्लिम व्यक्ति से उसका विवाह कराया जाता है.

उल्लेखनीय है कि भाजपा शासित उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश जैसे में ऐसा कानून लाया जा चुका है. उत्तर प्रदेश पहला ऐसा राज्य है, जहां लव जिहाद को लेकर इस तरह का कानून लाया गया.

इसके अलावा गुजरात और कर्नाटक की भाजपा सरकारें में जल्द ही ऐसा कानून लाने जा रही हैं.

कुछ हिंदूवादी संगठन लगातार केंद्र सरकार से कथित लव जिहाद के खिलाफ कानून लाने की मांग करते रहे हैं. हालांकि केंद्र सरकार ने कहा है कि धर्मांतरण के खिलाफ कानून लाने की उसकी फिलहाल कोई योजना नहीं है.