भारत

उत्तर प्रदेश: सेप्टिक टैंक के लिए खोदे गड्ढे में गिरे किशोर को बचाने की कोशिश में पांच की मौत

घटना आगरा ज़िले के फतेहाबाद में हुई, जहां एक किशोर सेप्टिक टैंक के लिए बनाए गए गड्ढे में गिर गया था, जिसे बचाने के लिए उसके तीन भाइयों समेत चार लोग गड्ढे में उतरे और बेहोश हो गए. जिला प्रशासन के अनुसार मौत की वजह टैंक से निकलने वाली ज़हरीली गैस हो सकती है.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

आगरा/लखनऊ: आगरा में शौचालय के गड्ढे में गिरे एक किशोर को बचाने की कोशिश में संबंधित किशोर समेत पांच लोगों की मौत हो गई. घटना आगरा के फतेहाबाद थाना क्षेत्र में हुई.

आगरा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बबलू कुमार ने बताया कि एक किशोर शौचालय के गड्ढे में गिर गया था जिसे बचाने के लिए एक के बाद एक चार लोग गड्ढे में उतर गए और बेहोश हो गए.

उन्होंने बताया कि सभी को गड्ढे से बाहर निकालकर फतेहाबाद के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां एक की मौत हो गई. बाकी के चार लोगों को गंभीर अवस्था में आगरा रेफर कर दिया गया जहां इन सभी की मौत हो गई.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, जिला प्रशासन ने मौत के पीछे टैंक से निकलने वाली जहरीली गैस होने का संदेह जताया है.

उप-मंडल मजिस्ट्रेट, फतेहाबाद (आगरा), सुमित सिंह ने कहा कि शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है और रिपोर्ट की प्रतीक्षा की जा रही है.

मृतकों की पहचान- अविनाश (13), हरि मोहन (17), आदित्य (15), सोनू शर्मा (30) और योगेश बघेल (18) के रूप में हुई है. हरिमोहन, अविनाश और आदित्य तीनों भाई थे. सोनू शर्मा उनके चचेरे भाई थे.

रिपोर्ट के मुताबिक एक किसान और अविनाश, हरि और आदित्य के पिता सुरेंद्र शर्मा के घर के पास गड्ढा खोदा था.

पुलिस ने कहा कि तीन दिन पहले सुरेंद्र के घर के बाहर सेप्टिक टैंक बनाने के लिए 10 फुट का गड्ढा खोदा गया था. नया गड्डा पुराने सेप्टिक टैंक से लगभग दो फीट की दूरी पर है, जो हाल ही में भर गया था.

एसडीएम सुमित सिंह ने मंगलवार को कहा कि अविनाश गलती से नए गड्ढे में गिर गया. उसे बचाने के लिए आदित्य और हरि अंदर घुसे और बेहोश हो गए. उसके बाद सुरेंद्र की पत्नी राधा देवी ने शोर मचाया, इसके बाद सोनू शर्मा और योगेश पहुंचे और वे भी गड्ढे में उतर गए और बेहोश हो गए.

इसी बीच अन्य ग्रामीण मौके पर पहुंचे और सभी पांच लोगों को गड्ढे से बाहर निकाला. उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने घटना पर गहरा दुख प्रकट करते हुए मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने के निर्देश दिए हैं.

सरकारी बयान के अनुसार मुख्यमंत्री ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने के निर्देश दिए हैं और दिवंगत लोगों की आत्मा की शांति की कामना करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)