नॉर्थ ईस्ट

उत्तर प्रदेश, बिहार, असम और बंगाल में बाढ़ से तबाही, अब तक 450 से अधिक मौतें

बाढ़ के चलते उत्तर प्रदेश में 69, बिहार में 202, बंगाल में 52 और असम में 147 लोगों की मौत हो चुकी है.

AppleMark

बिहार के मोतिहारी जिले में डूबा एक गांव. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: बिहार, उत्तर प्रदेश, बंगाल और असम जैसे राज्यों में बाढ़ का कहर जारी है. बिहार में आपदा प्रबंधन विभाग के मुताबिक, अब तक 202 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. उत्तर प्रदेश से अब तक 69 लोगों के मरने की सूचना है.

इन राज्यों में बाढ़ की विभीषिका से जनजीवन तबाह हो गया है. बिहार में असम में हालत बहुत भयानक हैं. एनडीटीवी की एक खबर में कहा गया है कि असम में अब तक 147 से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं. बंगाल में भी बाढ़ ने कम से कम 52 लोगों की जान ले ली. इन राज्यों में रेलवे परिचालन बुरी तरह प्रभावित हुआ है, जिसके चलते रेलवे को करीब 150 करोड़ का नुकसान हुआ है.

बिहार में आपदा प्रबंधन विभाग की तरफ से मरने वालों की संख्या 202 बताई जा रही है, जबकि दैनिक जागरण के पटना संस्करण का कहना है कि अब तक 292 लोगों की मौत की सूचना है.

इस खबर के मुताबिक, बिहार के अररिया में 40 शव मिले हैं, 30 लोग लापता हैं. हालांकि, कमला, कोसी, गंडक, बागमती आदि नदियों का जलस्तर घटने लगा है, जबकि पुनपुन नदी अभी तक उफान पर है.

Morigaon: Villagers along with their cattle commute by a boat at a flood-hit village in Morigaon district of Assam on Thursday. PTI Photo (PTI8 17 2017 000157A)

असम के मोरीगांव का एक बाढ़ प्रभावित गांव. (फोटो: पीटीआई)

बीबीसी की खबर के मुताबिक, ‘बिहार में बाढ़ से मरने वालों की संख्या दौ सौ का आंकड़ा पार कर गई है. प्रभावित आबादी का आंकड़ा भी करीब एक करोड़ बीस लाख पहुंच गया है. आपदा प्रबंधन विभाग के मुताबिक, बीते चैबीस घंटों में इस आपदा से 49 और लोगों की मौत हो गई. इसके साथ ही इस साल बाढ़ से मौतों की संख्या बढ़कर 202 हो गई है.’

बिहार के करीब 20 जिले बाढ़ की चपेट में है. एनडीटीवी हिंदी ने खबर दी है कि ‘पिछले 24 घंटे में राज्य में 49 लोगों की मौत की सूचना है. अब तक बाढ़ से मरने वालों की संख्या बढ़कर कुल 202 तक पहुंच गई है. करीब 1.21 करोड़ आबादी बाढ़ से प्रभावित है.’

Chanpatia: Flood-affected people passing through a railway bridge at Chanpatia in West Champaran on Friday. PTI Photo(PTI8 18 2017 000116A)

बिहार के पश्चिमी चंपारण में रेलवे ब्रिज के जरिये बाढ़ प्रभावित इलाके से निकलते लोग. (फोटो: पीटीआई)

इस खबर के मुताबिक, ‘बाढ़ प्रभावित इलाकों से 6.50 लाख से ज्यादा लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है. इन क्षेत्रों में 1,336 राहत शिविर खोले गए हैं, जिसमें करीब 4.22 लाख से ज्यादा लोग शरण लिए हुए हैं. 1,879 सामुदायिक रसोई खोली गई है, जिसमें लोगों को लंगर की तरह खाना खिलाया जा रहा है.’

यूपी में ढाई हजार गांव प्रभावित

उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में बाढ़ के कारण अब तक 69 लोगों की मौत हो चुकी है और दो लाख हेक्टेयर से अधिक के क्षेत्र में लगी फसल बर्बाद हो गई है. गोरखपुर और अन्य कई पूर्वी इलाकों में बाढ़ की स्थिति भयावह बनी हुई है, वहीं राज्य के 24 जिलों की करीब 20 लाख की आबादी सैलाब से प्रभावित है.

राहत आयुक्त कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रदेश के 24 जिलों में 19 लाख 76 हजार 125 लोग बाढ़ से प्रभावित हैं. बाढ़ के कारण अब तक 69 लोगों की मौत हो चुकी है और दो लाख हेक्टेयर से अधिक के क्षेत्र में लगी फसल बर्बाद हो गई है.

यूपी में करीब ढाई हजार गांव बाढ़ से प्रभावित हैं. बाढ़ से करीब छह हजार कच्चे-पक्के मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं. बाढ़ का सबसे अधिक असर पूर्वी जिलों में देखा जा रहा है. प्रभावित इलाकों में राष्ट्रीय आपदा राहत बल की 20 वाहिनियां, बाढ़ पीएसी की 29 कंपनियां तैनात हैं तथा वायुसेना के दो हेलीकाप्टरों की मदद ली जा रही है. अब तक करीब 90 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments