भारत

कर्नाटक: कोविड के बढ़ते मामलों के बीच सभी धरना-प्रदर्शनों पर 15 दिनों की रोक

कोविड-19 संक्रमण के मामलों में हो रही वृद्धि के बीच कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने फिलहाल लॉकडाउन लागू करने की संभावना से इनकार किया है. उन्होंने कहा कि झुग्गियों की अपेक्षा अपार्टमेंट्स में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं इसलिए वहां पार्टियों या आयोजनों को नियंत्रित करने के निर्देश दिए जाएंगे.

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा. (फोटो: पीटीआई)

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा. (फोटो: पीटीआई)

बेंगलुरु: कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने सोमवार को कहा कि सरकार ने सोमवार से आगामी 15 दिनों तक राज्य में सभी तरह के धरना-प्रदर्शन को प्रतिबंधित करने का निर्णय लिया है. हालांकि, उन्होंने फिलहाल लॉकडाउन लागू करने की संभावना से इनकार किया.

लोगों से मास्क पहनने और सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करने की अपील करते हुए येदियुरप्पा ने कहा कि अधिकारियों को मास्क नहीं पहनने वालों के खिलाफ मंगलवार से सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं.

मुख्यमंत्री ने सोमवार को बेंगलुरु शहर समेत अन्य महत्वपूर्ण जिलों में कोविड-19 महामारी की स्थिति की समीक्षा की. इस दौरान, राज्य सरकार के वरिष्ठ मंत्री एवं अधिकारी मौजूद रहे.

येदियुरप्पा ने कहा कि बेंगलुरु में कोविड-19 मामलों में वृद्धि परेशान करने वाली है. रोजाना के औसत मामलों की संख्या करीब 1,377 है.

उन्होंने बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा कि लोग अगर कोविड-19 से बचाव के नियमों का पालन नहीं करेंगे तो परिस्थितियों को काबू करना काफी मुश्किल होगा.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, मुख्यमंत्री ने कहा, पड़ोसी महाराष्ट्र में हर दिन 40,000 से अधिक मामले देखे जा रहे थे, जबकि कर्नाटक में अब यह लगभग 3,000 और बेंगलुरु में लगभग 2,000 है.

स्कूल और कॉलेज को फिलहाल बंद किए जाने से मुख्यमंत्री ने इनकार किया और कहा कि आज से अगले 15 दिनों तक राज्य में धरना-प्रदर्शन के नाम पर भीड़ एकत्र करने की अनुमति नहीं दी जाएगी.

उपचुनाव संबंधी रैलियों के बारे में उन्होंने कहा, ‘हम बड़ी सभाओं की अनुमति नहीं देंगे और जल्द ही इस संबंध में सख्त निर्देश दिए जाएंगे.’

यह देखते हुए कि संक्रमण 20-40 के आयु वर्ग में अधिक दर्ज किए गए थे येदियुरप्पा ने कहा कि मृत्यु दर कम है और उन मामलों में से अधिकांश 60 वर्ष और समूह से ऊपर हैं.

उन्होंने कहा कि बेंगलुरु शहर में 60,000 तक परीक्षण किए जा रहे हैं और शहर में 6.61 लाख लोगों को टीका लगाया गया है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि पर्याप्त अस्पताल के बिस्तर उपलब्ध थे. हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड और हज भवन प्रत्येक में 100 बिस्तरों वाले कोविड-19 देखभाल केंद्र स्थापित किए गए हैं और शहर के कोरमंगला इनडोर स्टेडियम में 5 अप्रैल, 2021 से 250 बेड का केंद्र भी शुरू होगा. इसके अलावा, निजी अस्पतालों को कोविड-19 रोगियों के लिए बेड आरक्षित करने के लिए तैयार रहने के लिए कहा गया है.

यह कहते हुए कि कोविड-19 प्रबंधन के लिए धन की कोई कमी नहीं है, येदियुरप्पा ने कहा कि 150 करोड़ रुपये पहले ही जारी किए जा चुके हैं और यदि आवश्यक हो तो अधिक धनराशि जारी की जाएगी.

उन्होंने कहा, यह राहत की बात है कि झुग्गियों में कोविड-19 की संख्या कम है, लेकिन यह अपार्टमेंटों में बढ़ रही है और अपार्टमेंट के लिए विशेष टीकाकरण अभियान की योजना बनाई जा रही है. वहां पार्टियों या आयोजनों को नियंत्रित करने के लिए निर्देश दिए जाएंगे.

उन्होंने कहा कि राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता सिद्धारमैया ने उन्हें वैज्ञानिक तरीके से कोविड-19 की दूसरी लहर रखने और सामान्य जीवन को प्रभावित करने वाले किसी भी लॉकडाउन को लागू नहीं करने पर लिखा है और आज की बैठक में भी इस पर चर्चा हुई.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)