भारत

आईएमए ने प्रधानमंत्री को लिखा, टीकाकरण में 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को शामिल किया जाए

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कहा है कि संक्रमण की दूसरी लहर में तेज़ी से हो रहे प्रसार के मद्देनज़र टीकाकरण अभियान की रणनीति को तत्काल प्रभाव से युद्ध स्तर पर बढ़ाया जाए. देश में पिछले तीन दिन से प्रत्येक दिन कोरोना वायरस संक्रमण के 90 हज़ार से अधिक नए मामले सामने आए हैं.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: देश भर में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर देश भर के उन सभी लोगों को टीकाकरण में शामिल करने का सुझाव दिया है जिनकी उम्र 18 वर्ष से अधिक है.

देश में पिछले तीन दिन से प्रत्येक दिन कोरोना वायरस संक्रमण के 90 हजार से अधिक नये मामले सामने आए हैं. देश में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 1,26,86,049 पर पहुंच गयी है. रविवार को चौबीस घंटे में देश में संक्रमण के 1,03,558 नये मामले सामने आए.

आईएमए ने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कहा, ‘मौजूदा समय में हम 45 साल से अधिक उम्र के लोगों का टीकाकरण कर रहे हैं. संक्रमण की दूसरी लहर में तेजी से हो रहे प्रसार को देखते हुए हमारा सुझाव है कि टीकाकरण अभियान की रणनीति को तत्काल प्रभाव से युद्ध स्तर पर बढ़ाया जाए.’

चिकित्सकों के संगठन ने कहा, ‘कोविड-19 टीकाकरण अभियान के संबंध में हमारा सुझाव है कि 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों को टीकाकारण की अनुमति दी जाए और कोविड टीकाकरण की सुविधा हर व्यक्ति के लिए मुफ्त एवं निकटतम संभावित स्थान पर उपलब्ध होना चाहिये.’

आईएमए ने यह भी सुझाव दिया है कि निजी क्षेत्र के क्लीनिकों को निजी अस्पतालों के साथ सक्रिय रूप से टीकाकरण अभियान में शामिल किया जाना चाहिये.

संगठन के सुझाव में कहा गया है कि सार्वजनिक स्थानों पर प्रवेश एवं जन वितरण प्रणाली के तहत सामान प्राप्त करने के लिए टीकाकरण प्रमाण पत्र अनिवार्य किया जाना चाहिये.

आईएमए ने कहा है कि महामारी की दूसरी लहर रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गयी है. उसने कहा कि सभी चिकित्सकों के पास टीके की उपलब्धता का टीकाकरण अभियान पर सकारात्मक प्रभाव होगा.

संगठन ने बड़े पैमाने पर टीकाकरण को लागू करने तथा विश्वास बहाली के लिए सार्वजनिक एवं निजी भागीदारी के साथ जिला स्तर पर टीकाकरण कार्यबल के गठन का सुझाव दिया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, आईएमए ने कहा कि बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए और संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने के लिए सीमित अवधि निरंतर लॉकडाउन को लागू किए जाने की आवश्यकता है, खासतौर पर सिनेमा, सांस्कृतिक एवं धार्मिक कार्यक्रमों, खेल आदि सभी गैर-आवश्यक इलाकों में.

उसने कहा, ‘भारतीय मेडिकल एसोसिएशन तेज टीकाकरण के लिए अपनी पूरे कार्यबल और इंफ्रास्ट्रक्चर सुविधाओं को उपलब्ध कराने का आश्वासन देता और संकट के इस समय में सरकार के साथ खड़ा है.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)