नॉर्थ ईस्ट

त्रिपुराः मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ सोशल मीडिया पोस्ट करने के लिए दो गिरफ़्तार, ज़मानत मिली

आरोप है कि मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब के ख़िलाफ़ सात अप्रैल को फेसबुक पर दो लोगों ने आपत्तिजनक पोस्ट की थी, जिसके बाद उन्हें अगले दिन गिरफ़्तार कर लिया गया था. इससे पहले भी मुख्यमंत्री के खिलाफ पोस्ट करने वाले कई लोगों को गिरफ़्तार किया जा चुका है.

बिप्लब कुमार देब. (फोटो साभार: ट्विटर)

बिप्लब कुमार देब. (फोटो साभार: ट्विटर)

अगरतलाः पुलिस ने त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब के खिलाफ सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक सामग्री पोस्ट करने के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया. हालांकि बाद में इन्हें जमानत दे दी गई.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, आरोपियों की पहचान मंडेला रियांग (25) और रंजीत रियांग (31) के रूप में की गई है. इन्हें गुरुवार शाम को गिरफ्तार किया गया, लेकिन शुक्रवार शाम को इन्हें अंतरिम जमानत मिल गई.

पुलिस का कहना है कि हालांकि इन्हें मामले के संबंध में हफ्ते में दो बार जांचकर्ता अधिकारी के समक्ष पेश होना होगा.

पुलिस ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि दोनों फेसबुक पर मुख्यमंत्री के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्ट करने के आरोपी हैं.

संतीरबाजार पुलिस थाने के प्रभारी सुब्रत चक्रबर्ती ने कहा, ‘हमने दोनों को गुरुवार (आठ अप्रैल) को गिरफ्तार किया था. उन्होंने एक दिन पहले ही मुख्यमंत्री के खिलाफ फेसबुक पर पोस्ट किया था. हमने उन्हें शुक्रवार को अदालत के समक्ष पेश किया जहां से उन्हें अंतरिम जमानत मिल गई. मामले की जांच जारी है.’

पुलिस ने आईपीसी की धारा 120 (बी), 153 (ए), 295 (ए), 504 और 505 (2) के तहत दोनों के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

इससे पहले 2019 में एक कॉलेज छात्र, एक स्वतंत्र पत्रकार और सीपीआई (एम) विधायक के सुरक्षाकर्मी को कथित तौर पर सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री के खिलाफ अफवाह फैलाने और उन्हें कथित तौर पर बदनाम करने के लिए गिरफ्तार किया गया था.

बीते साल जून महीने में मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब के निजी जीवन से जुड़ी ‘फर्जी खबर’ फेसबुक पर पोस्ट करने वाले अनुपम पॉल को गिरफ्तार किया गया था.

आरोप है कि अनुपम पॉल ने सोशल मीडिया पर त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देव के पत्नी के साथ कटुतापूर्ण संबंधों को लेकर फर्जी पोस्ट अपलोड किए थे. अनुपम इस मामले में मुख्य आरोपी हैं.

एक फेसबुक पोस्ट में अनुपम पॉल ने दावा किया था कि मुख्यमंत्री के पत्नी ने उनसे तलाक लेने के लिए नई दिल्ली की एक अदालत में याचिका दायर की है. इस पोस्ट को कई अन्य लोगों ने शेयर भी किया था.