कोविड-19

असम में दूसरे राज्यों की कोरोना निगेटिव रिपोर्ट प्रवेश के लिए मान्य नहीं: स्वास्थ्य मंत्री

असम के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री हिमंता बिस्वा शर्मा का कहना है कि पिछले आदेश में यात्रियों को अन्य राज्यों से आने पर 72 घंटों के भीतर कोविड-19 जांच की निगेटिव रिपोर्ट दिखाने की मंज़ूरी थी, लेकिन अब उन्हें अनिवार्य रूप से कोरोना टेस्ट कराना होगा.

असम के मंत्री हिमंता बिस्वा शर्मा (फोटो साभार: फेसबुक/@himantabiswasarma)

असम के मंत्री हिमंता बिस्वा शर्मा (फोटो साभार: फेसबुक/@himantabiswasarma)

गुवाहाटीः असम के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री हिमंता बिस्वा शर्मा का कहना है कि अन्य राज्यों से कोरोना जांच की निगेटिव रिपोर्ट असम में प्रवेश के लिए मान्य नहीं होगे.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, शर्मा ने शनिवार को गुवाहाटी में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि हवाई यातायात और रेलगाड़ी से असम पहुंचने पर सभी यात्रियों को रैपिड एंटीजन और आरटी-पीसीआर दोनों जांचों से गुजरना होगा.

शर्मा ने कहा कि पिछले आदेश में यात्रियों को अन्य राज्यों से आने पर 72 घंटों के भीतर कोविड की निगेटिव रिपोर्ट दिखाने की मंजूरी थी, लेकिन अब उन्हें अनिवार्य रूप से कोरोना टेस्ट कराना होगा.

स्वास्थ्य सचिव समीर सिन्हा ने कहा कि अब तक हवाई या रेल से यात्रा करने वालों के लिए अनिवार्य रूप से कोरोना टेस्ट कराना जरूरी था, लेकिन अब जल्द ही सड़क मार्ग से राज्य में प्रवेश करने वालों के लिए भी यह जरूरी होगा.

असम पहुंचने पर हुए कोरोना जांच में अगर यात्री संक्रमित मिलता हैं तो उन्हें मेडिकल शर्त के आधार पर होम आइसोलेशन में या फिर कोविड-19 इकाई में भर्ती होना होगा.

वहीं, अगर रिपोर्ट निगेटिव आती है तो उन्हें आरटी-पीसीआर टेस्ट कराना होगा, जिसकी लागत 500 रुपये है. इसके साथ ही आरटी-पीसीआर के नतीजे आने तक उन्हें होम क्वारंटीन रहना होगा.

शर्मा ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान असम में दर्ज कोरोना के नए मामले अधिकतर उन लोगों में सामने आए हैं, जो राज्य के बाहर से हैं.

उन्होंने कहा, ‘ये लोग हवाईअड्डों या रेलवे स्टेशन से आए हैं और इनसे अधिकतर का यात्रा करते रहते हैं. वे कोरोना संक्रमित पाए गए हैं.’

हालांकि, उन्होंने कोरोना प्रसार को रोकने के लिए लॉकडाउन या किसी तरह के अन्य कदम की संभावना से इनकार करते हुए कहा, ‘सिर्फ तभी जब यह फैलना शुरू होगा, सरकार इससे निपटने के लिए अन्य आवश्यक कदम उठाएगी.’

बता दें कि असम में छह अप्रैल को तीन चरणों में विधानसभा के लिए चुनाव समाप्त हुए थे.

शर्मा ने बताया कि नए कोविड मामले शहरी केंद्रों से सामने आए हैं न कि उन जगहों से जहां उन्होंने बड़ी चुनावी रैलियां की थीं.

उन्होंने कहा, ‘हमने अध्ययन किया कि क्या कोविड मामले चुनाव से जुड़े हैं और हमने पाया कि राज्य में 126 निर्वाचन क्षेत्रों में से लगभग 100 में कोरोना का कोई मामला सामने नहीं आया है.’