राजनीति

बंगाल: कोविड-19 के कारण राहुल गांधी के प्रचार रद्द करने को केंद्रीय मंत्री ने हार का बहाना बताया

विधानसभा चुनाव राउंड-अप: निर्वाचन आयोग से एक साथ चुनाव कराने का दोबारा अनुरोध करते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि आप भाजपा के कहने पर फैसला मत लीजिए. कृपया चुनाव का कार्यक्रम कम करके जनता के स्वास्थ्य को बचाइए. अमित शाह ने कहा कि बंगाल की जनता के धन की चोरी करने में शामिल लोगों को जेल में डाला जाएगा. पश्चिम बंगाल के भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि बंगाल की जनता को सफेद दाढ़ी चाहिए, सफेद साड़ी नहीं.

रविशंकर प्रसाद. (फोटो: पीटीआई)

रविशंकर प्रसाद. (फोटो: पीटीआई)

कोलकाता: केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी का पश्चिम बंगाल में चुनावी रैलियां कोविड-19 मामलों में वृद्धि के बीच निलंबित करने के उनके निर्णय को लेकर मखौल उड़ाया और इसे हार को देखते हुए एक ‘बहाना’ करार दिया.

केंद्रीय कानून मंत्री ने ममता बनर्जी सरकार पर भी निशाना साधा और उसे ‘कुशासन, भ्रष्टाचार और (मुस्लिम) तुष्टिकरण’ का प्रतीक बताया.

प्रसाद ने कोविड-19 की दूसरी लहर के कारण पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार से दूर रहने के गांधी के फैसले की ओर इशारा करते हुए एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘यह एक बहाना है, क्योंकि कैप्टन ने पाया कि उसका जवाज डूब रहा है.’

ऐसे में जब इसको लेकर चिंताएं बढ़ रही हैं कि चुनावी रैलियां कोविड-19 संक्रमण फैलाने के कार्यक्रम बन रही हैं, प्रसाद ने कहा कि केंद्र इस बीमारी से निपटने के लिए सब कुछ कर रहा है.

उन्होंने कहा, ‘तृणमूल कांग्रेस कोविड-19 प्रबंधन के बारे में बहुत सी बातें कह रही है. क्या ममता जी ने कोविड-19 को लेकर प्रधानमंत्री के साथ सभी मुख्यमंत्रियों की बैठकों में भाग लिया? जवाब नहीं है.’

उन्होंने कहा, ‘चुनाव एक संवैधानिक दायित्व है जिसे चुनाव आयोग द्वारा निभाया जाता है. हम चुनाव आयोग द्वारा दिए गए सभी दिशानिर्देशों का पालन करेंगे. बिहार में भी, कोविड-19 के बीच चुनाव आगे बढ़े थे. चुनाव की प्रक्रिया तय करने का एकमात्र प्राधिकार चुनाव आयोग है.’

उन्होंने साथ ही इस बात पर भी जोर दिया कि कोविड-19 का मुकाबला करने में राज्यों की जरूरतों को पूरा करने में केंद्र द्वारा कोई भेदभाव नहीं किया जा रहा है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हाल ही में आरोप लगाया था कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली का ऑक्सीजन का कोटा दूसरे राज्यों में भेज दिया गया.

प्रसाद ने राज्य में कथित भ्रष्टाचार को लेकर भी बनर्जी पर भी निशाना साधा.

उन्होंने कहा, ‘पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी सरकार कुशासन, भ्रष्टाचार और तुष्टिकरण की प्रतीक है.’

उन्होंने कहा, ‘ममता जी प्रत्येक बीतते दिन के साथ अधिक हताश हो रही हैं. आदर्श आचार संहिता लागू होने के दिन से, किसी भी मुख्यमंत्री ने केंद्रीय बलों का घेराव करने के लिए नहीं कहा. सुरक्षा बल स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने के लिए चुनाव आयोग के प्राधिकार का प्रतिनिधित्व करते हैं. केंद्रीय बलों के खिलाफ उनका उकसावे वाला बयान उनकी हताशा दर्शाता है.’

उन्होंने दावा किया कि लैंगिक न्याय और महिला सशक्तिकरण सुनिश्चित करने में टीएमसी सरकार का रिकॉर्ड निराशाजनक है.

उन्होंने कहा, ‘शासन और विकास पर ममता बनर्जी सरकार का ध्यान केंद्रित नहीं है. यहां तक कि लैंगिक न्याय के मुद्दों पर भी उनका रिकॉर्ड निराशाजनक है. हमने पश्चिम बंगाल के लिए 123 त्वरित सुनवाई अदालतों को मंजूरी दी थी, लेकिन राज्य सरकार द्वारा अभी मंजूरी देना बाकी है. यह टीएमसी सरकार की मानसिकता को दर्शाता है.’

उन्होंने कहा कि भाजपा पश्चिम बंगाल को सूचना प्रौद्योगिकी का केंद्र बनाना चाहती है और स्टार्टअप पहलों को मजबूत करना चाहती है. प्रसाद ने कहा कि सत्ता में आने पर पार्टी की हर उप-मंडल में कॉल सेंटर स्थापित करने की योजना है.

निर्वाचन आयोग से अनुरोध है कि मतदान के बाकी चरण एक या दो बार में कराएं: ममता

चकुलिया: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को निर्वाचन आयोग से दोबारा अनुरोध किया कि वह राज्य में पूर्ववत कार्यक्रम के अनुसार चुनाव संपन्न कराने के अपने फैसले पर पुनर्विचार करे.

ममता बनर्जी. (फोटो: पीटीआई)

ममता बनर्जी. (फोटो: पीटीआई)

बनर्जी ने जोर देते हुए कहा कि राज्य में आखिरी तीन चरणों का मतदान एक बार में या दो दिन में कराने से कोविड-19 का प्रकोप एक हद तक कम हो जाएगा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि निर्वाचन आयोग ने बाकी चरणों के चुनाव एक बार में नहीं कराने का फैसला भाजपा के कहने पर किया होगा.

उन्होंने उत्तरी दिनाजपुर के चकुलिया में एक रैली में कहा कि आयोग को सार्वजनिक स्वास्थ्य को तरजीह देनी चाहिए.

तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘मैं हाथ जोड़कर निर्वाचन आयोग से अनुरोध करती हूं कि अगले तीन चरणों का मतदान एक दिन में कराएं. अगर एक दिन में नहीं हो सकता तो दो दिन में करा लें और एक दिन बचा लें.’

उन्होंने कहा, ‘आप भाजपा के कहने पर अपना फैसला मत लीजिए. कृपया चुनाव का कार्यक्रम कम करके जनता के स्वास्थ्य को बचाइए. भले एक ही दिन बच जाए.’

मुख्यमंत्री ने कहा कि वह और उनकी पार्टी का कोई नेता भीड-भाड़ वाले इलाकों में कोई रैली नहीं करेंगे.

बनर्जी ने नरेंद्र मोदी नीत केंद्र सरकार पर पिछले छह महीने में पर्याप्त कदम नहीं उठाने का आरोप भी लगाया.

भाजपा को ‘दंगाइयों और जंग भड़काने वालों’ की पार्टी बताते हुए बनर्जी ने रैली में उपस्थित लोगों से कहा, ‘उन्हें (भाजपा नेताओं को) बंगाल को गुजरात नहीं बनाने दें.’

कूच बिहार में गोलीबारी की घटना का जिक्र करते हुए बनर्जी ने कहा, ‘वे मतदाताओं पर गोली चलाकर लोगों को मरवाने की साजिश रचते हैं. आपका वोट उनकी गोली का जवाब देगा.’

कूच बिहार के सीतलकूची में 10 अप्रैल को केंद्रीय बलों द्वारा कथित रूप से स्थानीय लोगों के हमले के मद्देनजर आत्मरक्षा में गोली चलाने से चार लोगों की मौत हो गई थी.

तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष पहले भी कई बार आरोप लगा चुकी हैं कि राज्य विधानसभा चुनाव के दौरान केंद्रीय बल ‘अमित शाह द्वारा संचालित गृह मंत्रालय’ के निर्देशों पर काम कर रहे हैं.

मालूम हो कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर आने के बाद से पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के एक विधायक समेत चुनाव मैदान में उतरे दो प्रत्याशियों की मौत इसके संक्रमण के कारण हो चुकी है.

बीते 17 अप्रैल को पांचवें चरण के चुनाव के दौरान बीरभूम जिले के मुरारई सीट से टीएमसी के निर्वतमान विधायक अब्दुर रहमान की कोरोना वायरस की वजह से मौत हो गई.

अब्दुर रहमान से पहले रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी (आरएसपी) की ओर से मुर्शिदाबाद जिले के जंगीपुरा सीट से चुनाव मैदान में उतरे प्रदीप कुमार नंदी की मौत भी बीते 16 अप्रैल को कोरोना संक्रमण की वजह से हो गई थी. उनसे पहले 15 अप्रैल को मुर्शिदाबाद जिले की शमशेरगंज सीट से उम्मीदवार रेजाउल हक की भी संक्रमण से मौत हो चुकी है.

निर्वाचन आयोग ने शमशेरगंज और जंगीपुरा विधानसभा सीट पर मतदान स्थगित कर दिया है.

पिछले हफ्ते में तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग से बचे हुए चरणों के चुनाव एक साथ कराने का अनुरोध किया था. बीते 16 अप्रैल को राज्य के चुनाव आयोग के साथ हुई सर्वदलीय बैठक में भी यह मांग उठाई गई थी, लेकिन आयोग ने इसे ठुकरा दिया. हालांकि बैठक में एक साथ चुनाव कराने के प्रस्ताव का भाजपा ने विरोध किया था.

इस महीने के पहले 15 दिनों में पश्चिम बंगाल में संक्रमण के 49,970 नए मामले आए हैं, जबकि महामारी से 151 लोगों की मौत हुई है.

कोविड के मामलों में वृद्धि के मद्देनज़र छोटी-छोटी चुनावी सभाएं करेगी टीएमसी

कोलकाता: पश्चिम बंगाल में कोविड-19 के मामलों में वृद्धि के मद्देनजर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार को कहा कि उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस कोलकाता में छोटी-छोटी चुनावी सभाएं आयोजित करेगी और वह उन जिलों में आयोजित रैलियों में छोटे-छोटे भाषण देंगी, जिनमें शेष तीन चरणों में मतदान होना है.

बनर्जी ने एक टीवी चैनल से कहा कि वह राज्य के विभिन्न भागों में आम तौर पर दिए जाने वाले 50 मिनट से एक घंटे के भाषण में 20 मिनट या उससे अधिक समय की कटौती करेंगी, ताकि लोगों को सभा में लंबे समय तक न रहना पड़े.

उन्होंने कहा, ‘हां, हमने अगले तीन चरणों में शहर में गली-कूचों में छोटी-छोटी सभाएं करने का निर्णय है. हम अब बड़ी-बड़ी सभाएं नहीं करेंगे. साथ ही मेरे भाषण भी काफी छोटे होंगे.’

तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य डेरेक ओ’ब्रायन ने ट्वीट किया, ‘ममता बनर्जी अब कोलकाता में प्रचार नहीं करेंगी. शहर में 26 अप्रैल को मतदान के अंतिम दिन केवल सांकेतिक सभा होगी. उन्होंने सभी जिलों में अपनी सभी चुनावी रैलियों के समय में कटौती की है. उनके भाषण केवल 30 मिनट के होंगे.’

पश्चिम बंगाल में आठ चरण में हो रहा विधानसभा चुनाव अभी जारी है.

राज्य में रविवार को एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के 8,419 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 6,59,927 हो गई है.

बंगाल की जनता के धन की चोरी करने में शामिल लोगों को जेल में डाला जाएगा: शाह

पंडाबेश्वर: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को कहा कि पश्चिम बंगाल की जनता के धन की चोरी करने में शामिल लोगों को जेल में डाला जाएगा. उन्होंने दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस के युवा नेता विनय मिश्रा से सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय की पूछताछ पर पार्टी अलग-अलग स्वर में बोल रही है.

अमित शाह. (फोटो: पीटीआई)

अमित शाह. (फोटो: पीटीआई)

दोनों केंद्रीय एजेंसियां पशु तस्करी और अवैध कोयला खनन से जुड़े मामलों में मिश्रा से पूछताछ कर रही हैं.

शाह ने पश्चिम बर्द्धमान जिले के पंडाबेश्वर में एक जनसभा में कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार कोयला चोरी करने वालों को पकड़ रही है.

उन्होंने दावा किया कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हाल ही में एक समाचार चैनल से कहा था कि तृणमूल कांग्रेस का मिश्रा से कोई लेना-देना नहीं है, वहीं पार्टी सांसद अभिषेक बनर्जी ने एक अन्य मीडिया संस्थान से उसी समय कहा कि मिश्रा को फंसाया जा रहा है.

मिश्रा तृणमूल युवक कांग्रेस के महासचिव हैं, जिसके अध्यक्ष अभिषेक बनर्जी हैं.

शाह ने कहा कि पश्चिम बर्द्धमान जिले को कोयले की चोरी के लिए जाना जाता है और मिश्रा नाम के एक व्यक्ति को हाल ही में गिरफ्तार किया गया था.

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने विनय मिश्रा के भाई विकास को कोयले के अवैध खनन के सिलसिले में एक धनशोधन मामले में गिरफ्तार किया है.

वरिष्ठ भाजपा नेता ने यह आरोप भी लगाया कि तृणमूल कांग्रेस के गुंडों ने राज्य में क्रमश: 2019 और 2020 में आए बुलबुल तथा अम्फान तूफानों से प्रभावित लोगों के लिए नियत राहत राशि का दुरुपयोग किया.

उन्होंने कहा कि इन आपराधिक कृत्यों में शामिल लोग यदि सोचते हैं कि उन्हें कुछ नहीं होगा तो दो मई के बाद राज्य में भाजपा की सरकार बनी तो उन सभी को सलाखों के पीछे डाला जाएगा.

बंगाल की जनता को सफेद दाढ़ी चाहिए, सफेद साड़ी नहीं: दिलीप घोष

वर्धमान: पश्चिम बंगाल भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष ने रविवार को राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा कि जनता को सफेद दाढ़ी चाहिए, सफेद साड़ी नहीं.

घोष का इशारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सफेद दाढ़ी की ओर था. वहीं, दूसरी ओर तृणमूल कांग्रेस प्रमुख बनर्जी सफेद साड़ी और हवाई चप्पलें पहनने के लिए जानी जाती हैं.

घोष ने पूर्वी वर्धमान जिले के भातार विधानसभा क्षेत्र में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘सफेद साड़ी और हवाई चप्पलें वर्षों तक पश्चिम बंगाल की जनता को मूर्ख बनाती रहीं. इस बार ऐसा नहीं होगा. उन्हें अब सफेद साड़ी नहीं चाहिए, अब उन्हें सफेद दाढ़ी चाहिए, जो सोनार बांग्ला बनाएगी.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)