राजनीति

निर्वाचन आयोग ने एकत्रित होकर जीत का जश्न मनाने पर केस दर्ज करने का निर्देश दिया

निर्वाचन आयोग ने रविवार को कहा कि उसने कई जगहों पर जीत का जश्न मनाने के लिए लोगों के जमा होने को लेकर कड़ा रुख़ अपनाया है और संबंधित राज्यों के मुख्य सचिवों से कहा कि ऐसी स्थिति में प्राथमिकी दर्ज की जाए तथा थाना प्रभारी को निलंबित किया जाए.

चेन्नई स्थित पार्टी मुख्यालय पर जश्न मनाते डीएमके कार्यकर्ता. फोटो: एएनआई)

चेन्नई स्थित पार्टी मुख्यालय पर जश्न मनाते डीएमके कार्यकर्ता. (फोटो: एएनआई)

नई दिल्ली: निर्वाचन आयोग ने रविवार को कहा कि उसने कई जगहों पर जीत का जश्न मनाने के लिए लोगों के जमा होने को लेकर कड़ा रुख अपनाया है और संबंधित राज्यों के मुख्य सचिवों से कहा कि ऐसी स्थिति में प्राथमिकी दर्ज की जाए तथा थाना प्रभारी को निलंबित किया जाए.

कई जगहों पर जीत का जश्न मनाए जाने की खबरों के बारे में पूछे जाने पर आयोग के एक प्रवक्ता कहा कि निर्वाचन आयोग ने लोगों के जमा होने और जश्न मनाने संबंधी कुछ खबरों का संज्ञान लिया है.

उन्होंने कहा, ‘निर्वाचन आयोग ने पांचों राज्यों के मुख्य सचिवों को निर्देश दिया है कि वे ऐसे मामलों में प्राथमिकी दर्ज कराएं और संबंधित थानों के प्रभारियों को निलंबित करें तथा ऐसी घटनाओं के बारे में तत्काल कार्रवाई के बारे में रिपोर्ट करें.’

चुनाव आयोग ने कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर भीड़ जमाकर जीत का जश्न बनाने और विजय जुलूस निकालने पर पाबंदी लगाई है.

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल, असम, केरल, तमिलनाडु और पुदुचेरी में विधानसभा चुनावों की मतगणना चल रही है.

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के अब तक के परिणामों के अनुसार, विपक्षी डीएमके गठबंधन भारी बहुमत के साथ तेजी से जीत की ओर आगे बढ़ रहा है.

परिणामों को देखते हुए डीएमके कार्यकर्ता और समर्थक पार्टी के चेन्नई स्थित मुख्यालय के बाहर जश्न मनाने के लिए इकट्ठा हो गए थे.

इस पर डीएमके नेता टीकेएस एलागवन ने कहा कि कैडर केवल उत्साहित हो गए थे. हमारे नेताओं ने उन्हें घर पर ही जश्न मनाने की सलाह दी है, क्योंकि आयोग ने किसी भी उल्लंघन को गंभीरता से लिया है. हम एक जिम्मेदार राजनीतिक दल हैं.

वहीं, पश्चिम बंगाल के आसनसोल में टीएमसी कार्यकर्ताओं को जश्न मनाते देखा गया, जिस पर पुलिस अधिकारियों ने उन्हें रोकने का निर्देश दिया.

बता दें कि, निर्वाचन आयोग ने जिन राज्यों में विधानसभा चुनाव हुए हैं, वहां पर मतगणना के दौरान या उसके बाद में सभी विजयी जुलूसों पर पिछले सप्ताह प्रतिबंध लगा दिया था.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)