कोविड-19

थाई महिला की मौत: भाजपा सांसद की छवि बिगाड़ने के आरोप में सपा नेता सहित तीन के ख़िलाफ़ केस

उत्तर प्रदेश में लखनऊ पुलिस एक थाई युवती की मौत की जांच कर रही है, जिसकी कोरोना संक्रमण से तीन मई को मौत हो गई. इसके बाद सपा नेता आईपी सिंह ने मामले की सीबीआई जांच की मांग करते हुए आरोप लगाया था कि महिला कॉलगर्ल थीं और उन्हें भाजपा सांसद संजय सेठ के बेटे ने लखनऊ बुलाया था.

संजय सेठ (बाएं) और आईपी सेठ. (फोटो साभार: फेसबुक)

संजय सेठ (बाएं) और आईपी सेठ. (फोटो साभार: फेसबुक)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की लखनऊ आयुक्तालय पुलिस ने थाईलैंड की महिला की कोरोना संक्रमण से हुई मौत की जांच के तीसरे दिन मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा सदस्य संजय सेठ के निजी सचिव की तहरीर पर गौतमपल्ली थाने में आईटी एक्ट और भारतीय दंड संहिता की धारा 500 (मानहानि) के तहत समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय प्रवक्ता आईपी सिंह और दो अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

पुलिस के अनुसार शिकायत में आरोप लगाया गया है कि कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाई जिससे सेठ के परिवार की छवि धूमिल हुई.

मंगलवार को दर्ज की गई प्राथमिकी के मुताबिक सेठ के निजी सहायक अनूप कुमार पांडेय की तहरीर में कहा गया है कि इंटरनेट मीडिया पर कुछ लोग गलत तरीके से अफवाह उड़ा रहे हैं और इससे (संजय) सेठ के परिवार की छवि धूमिल हुई है.

पांडेय की तहरीर के आधार पर गौतमपल्ली थाने में सपा के आईपी सिंह, रामदत्‍त तिवारी और महेंद्र कुडिया के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

पांडेय का आरोप है कि सपा नेता ने ट्वीट कर गलत जानकारी पोस्ट की थी और सपा नेता के अलावा दो अन्य लोगों ने भी इसे प्रसारित किया था.

उल्लेखनीय है कि अप्रैल माह में लखनऊ आई थाईलैंड की 41 वर्षीय पियाथिडा नामक महिला 30 अप्रैल को बीमार पड़ गई थी. कोरोना संक्रमित होने के बाद उसे राम मनोहर लोहिया अस्पताल के इमरजेंसी में भर्ती कराया गया था.

आधिकारिक जानकारी के अनुसार थाईलैंड की महिला की तीन मई को राम मनोहर लोहिया अस्पताल में मौत हो गई और इसके बाद थाईलैंड के दूतावास से आवश्यक औपचारिकता पूरी कर उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया.

इसके बाद सोशल मीडिया पर यह चर्चा तेज होने लगी कि महिला थाईलैंड की कॉल गर्ल थी, जिसे लखनऊ के एक बड़े कारोबारी के बेटे ने बुलाया था.

जानकारी के अनुसार, महिला के पास जो वीजा है वह 19 मार्च 2021 से नौ जून 2021 तक के लिए मान्य है. वह मार्च में ही भारत आ गई थी और एक एजेंट के जरिये अप्रैल में लखनऊ आई.

यह चर्चा भी तेज हो गई कि महिला को लखनऊ बुलाने वाले युवक के पिता राज्यसभा के सदस्य और बड़े कारोबारी हैं.

इसके बाद सपा नेता सिंह ने इस मामले की सीबीआई जांच की मांग करते हुए आरोप लगाया था कि महिला को भाजपा सांसद संजय सेठ के बेटे ने लखनऊ बुलाया था.

लखनऊ पुलिस ने मृतका के एक परिचित सलमान खान की निगरानी में उसका अंतिम संस्कार किया था.

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, विभूति खंड पुलिस स्टेशन के एसएचओ चंद्र शेखर सिंह ने कहा, थाईलैंड में मौजूद (महिला के) परिवार को उसका अंतिम संस्कार लाइव दिखाया गया.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि महिला को लाने में खान की संभावित भूमिका की जांच की जा रही है. उस होटल के सीसीटीवी फुटेज भी हैं, जिसमें वह रुकी थी.

अधिकारी ने बताया, ‘महिला यहां एक स्पा में काम करती थी और हम इस मामले की जांच कर रहे हैं.’

उल्लेखनीय है कि सेठ ने रविवार को लखनऊ के पुलिस आयुक्त को पत्र लिखकर थाई महिला के संबंध में जांच कराने की मांग की थी. उन्होंने कुछ महत्वपूर्ण बिंदु सुझाते हुए दावा किया कि इनकी जांच कराने से सच्चाई सामने आएगी.

लखनऊ के पुलिस आयुक्त डीके ठाकुर ने रविवार को बताया था कि थाईलैंड की महिला की लखनऊ में कोरोना संक्रमण से मृत्यु के प्रकरण की जांच के लिए पुलिस उपायुक्त (पूर्वी) संजीव सुमन के नेतृत्व में एक टीम गठित की गई है.

उन्होंने बताया कि पुलिस उपायुक्त की टीम ने जांच शुरू कर दी है और संबंधित लोगों से पूछताछ की जा रही है. ठाकुर ने कहा कि जांच से प्राप्त तथ्यों के आधार पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी.

इस संबंध में लखनऊ के पुलिस आयुक्त डीके ठाकुर ने पूछे जाने पर कहा कि उन्‍हें सेठ का पत्र मिला है जिसमें कुछ बिंदुओं पर जांच कराने की मांग की गई है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)