कोविड-19

कोविड संकट: जब सोशल मीडिया पर लोग मदद मांग रहे थे, तब केंद्रीय मंत्री सरकार के गुणगान में लगे थे

दैनिक भास्कर ने नरेंद्र मोदी सरकार के कैबिनेट के दस मंत्रियों के ग्यारह सौ से अधिक ट्वीट्स का विश्लेषण किया है, जिसके अनुसार कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान इन मंत्रियों ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल के ज़रिये एक भी कोविड पीड़ित को ऑक्सीजन सिलेंडर या अस्पताल बेड दिलाने में मदद नहीं की.

केंद्रीय मंत्री अमित शाह, राजनाथ सिंह, निर्मला सीतारमण, डॉ. हर्षवर्धन और प्रकाश जावड़ेकर. (फोटो: ट्विटर/पीटीआई/रायटर्स)

केंद्रीय मंत्री अमित शाह, राजनाथ सिंह, निर्मला सीतारमण, डॉ. हर्षवर्धन और प्रकाश जावड़ेकर. (फोटो: ट्विटर/पीटीआई/रॉयटर्स)

नई दिल्ली: मई के पहले दो हफ्तों के दौरान जब सोशल मीडिया ऑक्सीजन’ और वेंटिलेटर बेड के लिए ‘एसओएस’ (मुश्किल समय में मदद की गुहार) संदेशों से भरा हुआ था, देश के महत्वपूर्ण मंत्रालयों के अधिकतर केंद्रीय मंत्री ट्विटर पर सक्रिय तो थे, लेकिन वे महामारी के प्रबंधन में प्रधानमंत्री और केंद्र के प्रयासों की प्रशंसा लगे हुए थे.

दैनिक भास्कर ने अपनी एक रिपोर्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट के 10 मंत्रियों के 1,110 ट्वीट्स का विश्लेषण किया जो कोविड-19 संक्रमण की दूसरी और तेज लहर के दौरान 1 मई से 14 मई तक किए गए थे.

रिपोर्ट से पता चला कि किसी भी मंत्री ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल के माध्यम से एक भी कोविड-19 पीड़ित को ऑक्सीजन सिलेंडर या अस्पताल का बिस्तर खोजने में मदद नहीं की, जबकि लोग ऑक्सीजन और वेंटिलेटर बेड पाने के लिए बेहद परेशान हो रहे थे.

रिपोर्ट में सामने आया है कि गृह मंत्री अमित शाह ने 1 मई से 14 मई के बीच कोरोना वायरस से निपटने की तैयारियों से जुड़ा सिर्फ एक ट्वीट किया. शाह की ट्विटर टाइमलाइन में चुनाव, जन्मदिन और पुण्यतिथि और शोक से संबंधित अधिक पोस्ट पाए गए और इसे देखकर ऐसा लगता ही नहीं है कि भारत महामारी की दूसरी लहर के दौर से गुजर रहा था.

वहीं, इस दौरान जब महामारी से निपटने को लेकर देश से विदेश तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा था तब एक भाजपा नेता द्वारा उनके बचाव में लिखे गए एक लेख को साझा करने के लिए कई मंत्री सामने आए और उस लेख को साझा किया.

इसी अवधि के दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कोविड-19 की तैयारियों से संबंधित केवल पांच ट्वीट किए, जिसमें सेना के प्रयास और उनकी लखनऊ यात्रा शामिल से जुड़े ट्वीट शामिल हैं. उन्होंने मोदी के कुछ ट्वीट्स को रीट्वीट भी किया है.

दैनिक भास्कर के अनुसार, विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने 1-14 मई के बीच कोविड-19 की तैयारी से संबंधित 37 ट्वीट किए. इनमें से अधिकांश ट्वीट्स ने भारत को कोविड-19 संबंधित चिकित्सा आपूर्ति की आपूर्ति के लिए अन्य देशों के प्रतिनिधियों को धन्यवाद दिया और इसमें जी-7 शिखर सम्मेलन के अपडेट शामिल थे.

जी-7 शिखर सम्मेलन में कुछ भारतीय प्रतिनिधियों के पॉजिटिव पाए जाने के बाद जयशंकर ने वर्चुअल बैठकें आयोजित करने के बारे में ट्वीट किया. कोविड-19 पॉजिटिव पाए जाने वाले कुछ लोगों के संपर्क में आने के कुछ दिनों बाद 8 मई को उन्होंने ट्वीट किया कि उन्हें कोविड-19 नहीं है.

इस बीच, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कुल 48 ट्वीट किए, जिनमें से 22 कोविड-19 से संबंधित थे. उनका एक ट्वीट टीकों पर जीएसटी से जुड़ा था. अन्य ट्वीट में पीएम-किसान, आवास योजनाओं आदि की बात की गई. उन्होंने भी प्रधानमंत्री मोदी के कई ट्वीट्स को रीट्वीट किया.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने इस दौरान 247 बार ट्वीट किया. उनके अधिकांश ट्वीट कोविड-19 से संबंधित थे, जिनमें मामलों के आंकड़े, टीकों के बारे में जानकारी और उनके द्वारा किए गए अस्पताल के दौरे और सरकार के प्रयास शामिल थे.

कई ट्वीट्स में उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी और केंद्र सरकार का बचाव किया क्योंकि उन्हें कुप्रबंधन के सवालों का सामना करना पड़ा था.

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ज्यादातर ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ को लेकर ट्वीट किया.

उनके कुछ ट्वीट्स ने देश में वायरस के प्रसार को रोकने के लिए केंद्र सरकार के प्रयासों का भी बचाव किया.

1 से 14 मई तक केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर की ट्विटर टाइमलाइन में टीकों पर अपडेट और सरकार के प्रयासों की प्रशंसा की गई है. उन्होंने मोदी, भाजपा और पीआईबी के ट्विटर हैंडल के कई ट्वीट्स को रीट्वीट भी किया है.

इसी दौरान शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने 285 ट्वीट किए. इनमें से 83 ट्वीट्स कोविड-19 से संबंधित थे, जिनमें टीकों पर संदेश और वायरस के प्रति जागरूकता शामिल है. रिपोर्ट के मुताबिक कम से कम 24 ट्वीट में प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की गई.

केंद्रीय सड़क और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के 32 ट्वीट कोविड-19 से संबंधित थे, जिनमें आधिकारिक बैठकों के अपडेट, नागपुर में टीकाकरण अभियान और रेमेडिसविर के उत्पादन की निगरानी के लिए वर्धा में जेनेटिक लाइफ साइंसेज की यात्रा करना शामिल है.

उनके ट्वीट में जन्मदिन की बधाई, पुण्यतिथि और शोक संवेदनाएं भी शामिल हैं. उन्होंने ज्यादातर अपने ऑफिस के ट्विटर हैंडल के पोस्ट को रीट्वीट किया है. अपने कई सहयोगियों के विपरीत, उन्होंने अपने किसी भी ट्वीट में प्रधानमंत्री मोदी का उल्लेख नहीं किया है.

अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कुल 47 ट्वीट किए, जिनमें से 13 कोविड-19 से संबंधित थे.

(इस रिपोर्ट को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)