कोविड-19

हिल स्टेशनों पर उमड़ी पर्यटकों की भीड़, सरकार ने कोविड प्रोटोकाल पालन करने को कहा

कोविड-19 महामारी के मद्देनज़र लगाए गए प्रतिबंधों में ढील देने के बाद हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के प्रसिद्ध हिल स्टेशनों पर पर्यटकों की भीड़ में वृद्धि हो रही है. सरकार ने कहा कि कोविड-19 से बचाव के नियमों का अनुपालन किए बग़ैर हिल स्टेशनों और बाज़ारों में लोगों का घूमना महामारी से निपटने में अब तक मिली क़ामयाबी पर पानी फेर देगा.

कोविड-19 कर्फ्यू में ढील के बाद हिमाचल प्रदेश के पर्यटक स्थल मनाली के माल रोड पर उमड़ी भीड़. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: सरकार ने मंगलवार को आगाह किया कि कोविड-19 से बचाव के नियमों का अनुपालन किए बगैर हिल स्टेशनों और बाजारों में लोगों का घूमना महामारी से निपटने में अब तक मिली कामयाबी पर पानी फेर देगा.

एक अधिकारी ने महामारी के अभी तक खत्म नहीं होने का जिक्र करते हुए हिल स्टेशनों पर बड़ी संख्या में लोगों के उमड़ने की तस्वीरों को डराने वाली बताया.

सरकार ने कहा कि कोविड प्रोटेकॉल का उल्लंघन करने वाले लोग संक्रमण को और अधिक बढ़ाएंगे.

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि हिल स्टेशनों की यात्रा करने वाले लोग कोविड-उपयुक्त व्यवहार का पालन नहीं कर रहे हैं. यदि प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया गया तो हम प्रतिबंधों में ढील को फिर से रद्द कर सकते हैं.

सरकार ने कहा कि कोविड-19 की दूसरी लहर ज्यादातर राज्यों में मंद पड़ गई है. हालांकि, कुछ राज्य अब भी दूसरी लहर के बीच में हैं और जिन इलाकों में कोविड-19 की जांच में 10 प्रतिशत नमूनों में संक्रमण की पुष्टि हो रही है, वहां पाबंदियां लगानी होगी.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने महामारी की और टीकाकरण की स्थिति पर संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि 17 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में करीब 73 जिलों में 29 जून से पांच जुलाई तक के सप्ताह में संक्रमण की पुष्टि की दर 10 प्रतिशत से अधिक दर्ज की गई है.

उन्होंने कहा कि देश में कुल 91 जिलों में चार जुलाई को समाप्त हुए सप्ताह में प्रतिदिन 100 से अधिक नए मामले सामने आए.

अधिकारी ने कहा कि भारत में कोविड के 80 प्रतिशत मामले 14 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के 90 जिलों में सामने आए हैं, जिससे यह संकेत मिलता है कि इन इलाकों में कहीं अधिक ध्यान देने की जरूरत है.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक, कोविड-19 महामारी के मद्देनजर लगाए गए प्रतिबंधों में ढील देने के बाद हिमाचल प्रदेश और उतराखंड में पर्यटकों की भीड़ में वृद्धि हो रही है.

उत्तराखंड सरकार ने वायरस संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए राज्य में लगाए गए प्रतिबंधों में ढील दी है. राज्य सरकार ने भी जिम और कोचिंग सेंटरों को 50 प्रतिशत क्षमता पर काम करने और रविवार को छोड़कर हर दिन बाजारों को खुला रखने की अनुमति दी है.

हालांकि, पिछले सप्ताह जून में जारी एक संशोधित आदेश के अनुसार, मसूरी और नैनीताल में रविवार को बाजार खुले रहेंगे और मंगलवार को बंद रहेंगे.

राज्य में प्रवेश करने के लिए निगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट ले जाने की सीमा के बावजूद, पर्यटक उत्तराखंड के लोकप्रिय हिल स्टेशनों मसूरी और नैनीताल में उमड़ रहे हैं.

समाचार एजेंसी एएनआई द्वारा जारी तस्वीरों में पर्यटकों को हिल स्टेशन के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में के आसपास घूमते देखा जा सकता है. तस्वीरों में अधिकांश पर्यटक कोविड-19 के उपयुक्त दिशानिर्देशों की धज्जियां उड़ाते हुए दिखाई दे रहे हैं. उन्हें बिना मास्क के देखा जा सकता है.

एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, हिमाचल प्रदेश ने जून से एक महीने से भी कम समय में राज्य में लगभग 6-7 लाख पर्यटकों का यातायात दर्ज किया है. शिमला, मनाली, धर्मशाला, डलहौजी, नारकंडा जैसे राज्य के लोकप्रिय स्थलों में पर्यटकों की भीड़ की सूचना मिली है.

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा, ‘राज्य में पर्यटकों की आमद बढ़ने से हम भी थोड़े चिंतित हैं. हम पर्यटकों का स्वागत करते हैं, लेकिन मैं उनसे कोविड मानदंडों का पालन करने का आग्रह करता हूं. उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना चाहिए और मास्क पहनना चाहिए. हमने होटलों को भी मानक संचालन प्रक्रिया का सख्ती से पालन करने का निर्देश दिया है.’

हिमाचल प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव अनिल कुमार खाची ने कहा कि हमने सभी जिला कलेक्टरों को पहले ही सलाह दी है कि वे सभी सेवा प्रदाताओं और हितधारकों को विश्वास में लेते हुए कोविड उपयुक्त व्यवहार और दिशानिर्देशों को सख्ती से लागू करें.

इस बीच हिल स्टेशनों में कोविड-19 प्रोटोकॉल के उल्लंघन पर प्रकाश डालते हुए आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने मंगलवार को कहा कि तस्वीरें (हिल स्टेशनों से) ‘भयावह’ हैं. लोगों को कोविड के उचित दिशा-निर्देशों का पालन करना चाहिए.

वहीं, महामारी की उपस्थिति पर जोर देते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि प्रोटोकॉल का उल्लंघन अब तक मिली कामयाबी पर पानी फेर सकता है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, भारत में एक दिन में कोविड-19 के 43,733 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमण के कुल मामलों की संख्या बुधवार को बढ़कर 30,663,665 हो गई.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सुबह आठ बजे जारी किए गए अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, देश में बीते एक दिन में 930 और लोगों की संक्रमण से मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 404,211 हो गई.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)