भारत

भाजपा नेता बोले, गौरी लंकेश आरएसएस के ख़िलाफ़ न लिखतीं तो ज़िंदा होतीं

भाजपा विधायक डीएन जीवराज ने कहा कि गौरी लंकेश जिस तरह लिखती थीं, वो बर्दाश्त के बाहर था. गौरी मेरी बहन जैसी हैं लेकिन जिस तरह उन्होंने लिखा, वो स्वीकार नहीं किया जा सकता.’

Gauri-Lankesh Facebook

वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश. (फोटो साभार: फेसबुक)

हिंदुत्ववादी राजनीति के खिलाफ मोर्चा खोलने वाली पत्रकार की हत्या के बाद एक भाजपा नेता ने चौंकाने वाला बयान दिया है. कर्नाटक के चिकमंगलुरु में एक कार्यक्रम में भाजपा विधायक डीएन जीवराज ने कहा कि गौरी लंकेश ने अगर आरएसएस के ख़िलाफ़ नहीं लिखा होता तो आज वह ज़िंदा होतीं.

वरिष्ठ पत्रकार और गौरी लंकेश पत्रिके की संपादक गौरी लंकेश की बीते मंगलवार को बेंगलुरु में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. द हिंदू अखबार ने लिखा है कि भाजपा विधायक के इस बयान पर चारों तरफ से तीखी प्रतिक्रियाएं आई हैं.

एनडीटीवी के मुताबिक, ‘कर्नाटक के श्रृंगेरी से बीजेपी के एक विधायक और पूर्व मंत्री डीएन जीवराज ने कहा कि गौरी लंकेश ने अगर आरएसएस के ख़िलाफ़ नहीं लिखा होता तो आज वह ज़िंदा होतीं. बीजेपी विधायक ने कहा कि गौरी लंकेश जिस तरह लिखती थीं, वो बर्दाश्त के बाहर था.’

जीवराज ने कहा, हमने देखा है कि कांग्रेस की सरकार के कार्यकाल में कई आरएसएस कार्यकर्ताओं ने जान गंवाई है. अगर गौरी लंकेश ने आरएसएस के खिलाफ नहीं लिखा होता तो वह ज़िंदा होतीं. गौरी मेरी बहन जैसी हैं लेकिन जिस तरह उन्होंने हमारे खिलाफ़ लिखा, वो स्वीकार नहीं किया जा सकता है.’

बीबीसी की खबर के मुताबिक, ‘बीजेपी नेता ने कहा कि अगर गौरी लंकेश हिंदुत्व विरोधी लेख नहीं लिखतीं तो उनकी हत्या नहीं होती. अगर उन्होंने चड्डीवालों की मौत के जश्न की बात नहीं लिखी होती तो वो आज ज़िंदा होतीं.’

618xNx632023_thump.jpg.pagespeed.ic.NbiPsd9IYP

भाजपा विधायक डीएन जीवराज. फोटो साभार: डेक्कन हेराल्ड

डीएन जीवराज कर्नाटक में 2008-13 के बीच बीजेपी की सरकार में मंत्री रह चुके हैं. जीवराज ने चिकमंगलूर में बीजेपी कार्यकर्ताओं की एक रैली को संबोधित करते हुए यह बयान दिया.

जीवराज के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने सवाल खड़े किए. उन्होंने कहा, ‘इसका क्या मतलब है? इससे क्या अनुमान लगाया जाए? क्या इसका मतलब ये नहीं है कि वो लोग इसके पीछे हैं?’

इंडियन एक्सप्रेस ने खबर दी है कि उक्त बयान देने वाले जीवराज के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है. भाजपा विधायक का बयान मीडिया में आने के बाद कुछ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने शिकायत दर्ज कराई. हालांकि, बाद में जीवराज ने कहा कि उनका बयान गलत तरीके से पेश किया गया है.

हालांकि, बाद में द हिंदू अखबार से जीवराज ने कहा कि मेरे बयान की मीडिया द्वारा गलत व्याख्या की गई है. मैंने कहा था कि अगर गौरी लंकेश ने राजनीतिक हत्याओं की आलोचना की होती, अगर सिद्धारमैया ने कड़ी कार्रवाई की होती तो आज उनको मारने की हिम्मत कोई नहीं कर पाता.