भारत

आॅनलाइन गुंडागर्दी: ‘संघ पर लेख लिखने के बाद मुझे सैकड़ों धमकी भरे फोन आए’

ट्रोलिंग पर विशेष सीरीज़: पहली कड़ी में वरिष्ठ पत्रकार विद्या सुब्रमण्यम बता रही हैं कि कैसे साल 2013 में द हिंदू अख़बार में आरएसएस पर उनके एक लेख की वजह से उन्हें विभिन्न तरह की प्रताड़ना झेलनी पड़ी थी.

यह भी पढ़ें: क्या मोदी प्रधानमंत्री की जगह ट्रोल्स के सरदार बनते जा रहे हैं?