भारत

पाटीदार आंदोलन से असहज भाजपा आयोजित करेगी ओबीसी सम्मेलन

भाजपा गुजरात में जातिगत समीकरण साधने के लिए अन्य पिछड़ा वर्ग और ओबीसी पर ध्यान केंद्रित करेगी.

Kozhikode: Prime Minister Narendra Modi with BJP President Amit Shah during BJP's National Council Meeting at Kozhikode on Sunday. PTI Photo (PTI9_25_2016_000140B) *** Local Caption ***

भाजप अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. (फाइल फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: गुजरात में आसन्न विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा ने जातिगत समीकरण साधने की पहल करते हुए अपना ध्यान अन्य पिछड़ा वर्ग ओबीसी पर केंद्रित किया है. पार्टी राज्य में 18 सितंबर को खेड़ा जिले के फगवेल में ओबीसी सम्मेलन का आयोजन कर रही है जिसमें अमित शाह समेत अनेक वरिष्ठ नेता मौजूद होंगे.

पिछले काफी समय से भाजपा हार्दिक पटेल के नेतृत्व वाले पाटीदार आंदोलन के कारण असहज है और परंपरागत रूप से भाजपा को वोट देने वाले इस समुदाय में नाराजगी देखी जा रही है.

भाजपा गुजरात में ओबीसी वोटरों तक पहुंचने के लिए दो यात्राओं की योजना की रूपरेखा बना रही है. इसमें पहली यात्रा एक अक्टूबर को सरदार पटेल के जन्मस्थान करसमद से शुरू होगी जबकि दूसरी यात्रा 2 अक्तूबर को महात्मा गांधी की जन्मभूमि पोरबंदर से शुरू होगी.

प्रदेश की विजय रूपाणी के नेतृत्व वाली सरकार ने 12 दिनों के राज्यव्यापी नर्मदा महोत्सव यात्रा का आयोजन किया है ताकि अपनी योजनाओं के बारे में लोगों तक जानकारी पहुंचा सके. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 17 सिंतबर को अपने जन्मदिन पर गुजरात में होंगे और इस दिन नर्मदा नदी पर बांध के नवनिर्मित गेट का उद्घाटन करेंगे.

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि भाजपा गुजरात के फगवेल में एक सम्मेलन आयोजित कर रही है. इसमें पार्टी अध्यक्ष अमित शाह एवं कई अन्य वरिष्ठ नेता शामिल होंगे.

पार्टी अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों के समक्ष यह स्पष्ट करेगी कि कांग्रेस अन्य पिछड़ा वर्ग विरोधी है. वह ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा देने के मार्ग में बाधक रही है. कांग्रेस ने राज्यसभा में मूल विधेयक को पारित होने में बाधा डालने का काम किया.

उन्होंने बताया कि इन्हीं विषयों पर 18 सितंबर को सम्मेलन में हम भाजपा के रुख, दृष्टि और कार्यक्रम को रखेंगे. पार्टी का कहना है कि राज्य में अन्य पिछड़ा वर्ग समुदाय की संख्या अच्छी खासी है और चुनाव में इनकी महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी.

भाजपा ओबीसी वोट बैंक में पैंठ बनाने के लिए एक रैली और यात्राओं की रूपरेखा को अंतिम रूप देने में जुटी है. गौरतलब है कि गुजरात में पाटीदार मतदाता करीब 20 फीसदी हैं. पाटीदार समाज भाजपा का परंपरागत वोटर रहा है, लेकिन पटेल आरक्षण की मांग को लेकर फिलहाल नाराज बताया जा रहा है.

भाजपा के खिलाफ माहौल बनाने के लिए पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने संकल्प यात्रा निकाली है. पार्टी नेताओं का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी ओबीसी समाज से आते हैं, ऐसे में पार्टी मोदी के जरिए ओबीसी समाज के बीच जगह बनाने और ओबीसी मतदाताओं के बीच बेहतर तालमेल बैठाने की पहल कर रही है.

कडवा पटेल समुदाय से आने वाले राज्य के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल एक रैली का नेतृत्व करेंगे और दूसरे का नेतृत्व भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष जीतू वाघानी करेंगे जो पटेल समुदाय से आते हैं. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी दोनों यात्राओं में भाग लेंगे.