कोविड-19

कोविड-19 महामारीः भारत में अब तक 4,48,573 लोगों की मौत, अमेरिका में मृतक संख्या सात लाख के पार

भारत में कोविड वायरस संक्रमण के बीते एक दिन में 24,354 नए मामले सामने आने से कुल मामलों की संख्या बढ़कर 3,37,91,061 पर पहुंच गई है. देश में बीते 24 घंटे के दौरान 234 लोगों की मौत हुई है. विश्व में संक्रमण के 23.42 करोड़ ज़्यादा मामले सामने आए हैं और अब तक 47.91 लाख से अधिक लोगों की जान जा चुकी है.

(फोटो: रॉयटर्स)

नई दिल्ली: भारत में कोविड-19 के 24,354 नए मामले सामने आने से संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 3,37,91,061 पर पहुंच गई, जबकि उपचाराधीन मरीजों यानी सक्रिय मामलों की संख्या कम होकर 2,73,889 हो गई है, जो 197 दिनों में सबसे कम है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के शनिवार को अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में 234 और मरीजों के जान गंवाने से मृतकों की संख्या 4,48,573 पर पहुंच गई है.

अमेरिका की जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, इस बीच पूरी दुनिया में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 23,42,95,412 हो गए हैं और अब तक 47,91,995 लोगों की जान जा चुकी है.

इस बीच इस महामारी से सर्वाधिक प्रभावित देश अमेरिका में मरने वालों का आंकड़ा सात लाख के पार हो गया है. इस देश में अब तक 7,00,320 लोगों की मौत हो चुकी है और संक्रमण के कुल 4,36,19,754 मामले दर्ज किए गए हैं.

अमेरिका में डेल्टा स्वरूप के कारण मृतकों की संख्या 6,00,000 से 7,00,000 पहुंचने में महज साढ़े तीन महीने का वक्त लगा.

इधर, भारत में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि उपचाराधीन मरीजों की संख्या संक्रमण के कुल मामलों का 0.81 प्रतिशत है, जो मार्च 2020 के बाद से सबसे कम है, जबकि कोविड-19 से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर 97.86 प्रतिशत है, जो मार्च 2020 के बाद से सबसे अधिक है.

आंकड़ों के मुताबिक, देश में उपचाराधीन मरीजों की कुल संख्या 2,73,889 है, जो 197 दिनों में सबसे कम है. पिछले 24 घंटे में उपचाराधीन मरीजों की कुल संख्या में 1,335 की गिरावट दर्ज की गई है.

मंत्रालय ने बताया कि शुक्रवार को कोविड-19 का पता लगाने के लिए कुल 14,29,258 नमूनों की जांच की गई, जिससे देश में अभी तक जांच किए गए नमूनों की संख्या 57,19,94,990 हो गई है.

संक्रमण की दैनिक दर 1.70 प्रतिशत दर्ज की गई. यह पिछले 33 दिनां से तीन प्रतिशत से कम है. साप्ताहिक संक्रमण दर 1.68 फीसदी दर्ज की गई, जो पिछले 99 दिनों से तीन प्रतिशत से कम पर बनी हुई है.

आंकड़ों के अनुसार, इस बीमारी से उबरने वाले मरीजों की संख्या बढ़कर 3,30,68,599 हो गई है, जबकि मृत्यु दर 1.33 प्रतिशत है.

देशव्यापी कोविड-19 टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक टीकों की 89.74 करोड़ खुराक दी जा चुकी है.

पिछले 24 घंटे में देश में जिन 234 और मरीजों ने जान गंवाई है, उनमें से 95 की मौत केरल में और 50 की महाराष्ट्र में हुई.

देश में अभी तक इस महामारी से 4,48,573 लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें से 1,39,117 लोगों की मौत महाराष्ट्र में, 37,807 की कर्नाटक, 35,603 की तमिलनाडु, 25,182 की केरल, 28,087 की दिल्ली, 22,892 की उत्तर प्रदेश और 18,807 लोगों की मौत पश्चिम बंगाल में हुई.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि अभी तक जिन लोगों की संक्रमण से मौत हुई है, उनमें से 70 प्रतिशत से ज्यादा मरीजों को अन्य बीमारियां भी थीं.

आंकड़ों के मुताबिक, देश में 110 दिन में कोविड-19 के मामले एक लाख हुए थे और 59 दिनों में वह 10 लाख के पार चले गए थे.

भारत में कोविड-19 संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 10 लाख से 20 लाख (7 अगस्त 2020 को) तक पहुंचने में 21 दिनों का समय लगा था, जबकि 20 से 30 लाख (23 अगस्त 2020) की संख्या होने में 16 और दिन लगे. हालांकि 30 लाख से 40 लाख (5 सितंबर 2020) तक पहुंचने में मात्र 13 दिनों का समय लगा है.

वहीं, 40 लाख के बाद 50 लाख (16 सितंबर 2020) की संख्या को पार करने में केवल 11 दिन लगे. मामलों की संख्या 50 लाख से 60 लाख (28 सितंबर 2020 को) होने में 12 दिन लगे थे. इसे 60 से 70 लाख (11 अक्टूबर 2020) होने में 13 दिन लगे. 70 से 80 लाख (29 अक्टूबर को 2020) होने में 19 दिन लगे और 80 से 90 लाख (20 नवंबर 2020 को) होने में 13 दिन लगे. 90 लाख से एक करोड़ (19 दिसंबर 2020 को) होने में 29 दिन लगे थे.

इसके 107 दिन बाद यानी पांच अप्रैल को मामले सवा करोड़ से अधिक हो गए, लेकिन संक्रमण के मामले डेढ़ करोड़ से अधिक होने में महज 15 दिन (19 अप्रैल को) का वक्त लगा और फिर सिर्फ 15 दिनों बाद चार मई को गंभीर स्थिति में पहुंचते हुए आंकड़ा 1.5 करोड़ से दो करोड़ के पार चला गया. चार मई के बाद करीब 50 दिनों में 23 जून को संक्रमण के मामले तीन करोड़ से पार चले गए थे.

मई रहा अब तक का सबसे घातक महीना

भारत में अकेले मई में कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान कोरोना वायरस के 92,87,158 से अधिक मामले सामने आए थे, जो एक महीने में दर्ज किए गए संक्रमण के सर्वाधिक मामले हैं. इस तरह यह महीना इस महामारी के दौरान सबसे खराब और घातक महीना रहा था.

मई में इस बीमारी के चलते 1,20,833 लोगों की जान भी गई थी.

सात मई को 24 घंटे में अब तक कोविड-19 के सर्वाधिक 4,14,188 मामले सामने आए थे और 19 मई को सबसे अधिक 4,529 मरीजों ने अपनी जान गंवाई थी.

रोजाना नए मामले 17 मई से 24 मई तक तीन लाख से नीचे रहे और फिर 25 मई से 31 मई तक दो लाख से नीचे रहे थे. देश में 10 मई को सर्वाधिक 3,745,237 मरीज उपचाररत थे.

वायरस के मामले और मौतें

बीते 24 घंटे के दौरान एक अक्टूबर 26,727 नए मामले आए थे और 277 लोगों की मौत हुई है.

सितंबर महीने में बीते एक दिन या 24 घंटे के दौरान संक्रमण के सर्वाधिक 47,092 मामले दो सितंबर को सामने आए, जबकि दो सितंबर को ही सर्वाधिक 509 लोगों की जान गई थी.

अगस्त महीने में बीते 24 घंटे के दौरान संक्रमण के सर्वाधिक 46,759 मामले 28 अगस्त को दर्ज किए गए और इस अवधि में सर्वाधिक 648 लोगों की मौत 25 अगस्त को दर्ज की गई थी.

अमेरिका में मृतकों की संख्या 7,00,000 के आंकड़े पर पहुंची

मिनियापोलिस: अमेरिका में कोरोना वायरस से जान गंवाने वाले लोगों की संख्या शुक्रवार को 7,00,000 के आंकड़े पर पहुंच गई. वहीं, अत्यधिक संक्रामक डेल्टा स्वरूप के मामलों में कमी आनी शुरू हो गई और अस्पतालों में मरीजों की भीड़ कुछ कम हुई है.

अमेरिका में डेल्टा स्वरूप के कारण मृतकों की संख्या 6,00,000 से 7,00,000 पहुंचने में महज साढ़े तीन महीने का वक्त लगा.

डेल्टा स्वरूप का संक्रमण उन लोगों में ज्यादा फैला, जिन्होंने कोविड-19 रोधी टीके की खुराक नहीं ले रखी थी. मृतकों की संख्या बोस्टन की आबादी से कहीं ज्यादा है.

मृतकों का यह आंकड़ा स्वास्थ्य नेताओं और चिकित्सकों के लिए परेशान करने वाला है, क्योंकि टीके सभी अमेरिकियों को लगभग छह महीने से उपलब्ध हैं और टीके की खुराक उन्हें अस्पताल में भर्ती होने तथा मरने से बचा सकती है. ऐसा अनुमान है कि सात करोड़ योग्य अमेरिकियों ने अभी टीके की खुराक नहीं ली है.

बहरहाल, मृतकों की बढ़ती संख्या के बावजूद सुधार के कुछ संकेत हैं.

देशभर में कोविड-19 से संक्रमित मरीजों के अस्पताल में भर्ती होने की संख्या करीब 75,000 है, जबकि सितंबर की शुरुआत में यह संख्या 93,000 थी. संक्रमण के नए मामलों में कमी आ रही है.

मृतकों की संख्या भी कम होती दिखाई दे रही है. संक्रमण और मृतकों की संख्या कम होने की वजह अधिक लोगों के मास्क पहनने और टीका लगवाना है.

वहीं, दवा कंपनी मर्क ने शुक्रवार को कहा कि उसकी कोविड-19 से संक्रमित लोगों के लिए प्रायोगिक गोली ने अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों और मृतकों की संख्या आधी कर दी. अगर इसे दवा नियामकों से मंजूरी मिल जाती है जो यह कोरोना वायरस का इलाज करने में कारगर पहली दवा होगी.

सरकार के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. एंथनी फाउची ने शुक्रवार को आगाह किया कि कुछ लोग टीका न लगवाने की वजह के तौर पर कुछ उत्साहजनक प्रवृत्तियों को देख सकते हैं. उन्होंने कहा, ‘यह अच्छी खबर है कि संक्रमण के मामले कम हो रहे हैं. यह टीके की खुराक लेने की आवश्यकता के मुद्दे से बचने का बहाना नहीं है.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)