भारत

गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में आॅक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी का ​मालिक गिरफ़्तार

बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की मौत के मामले में अब सभी नौ अभियुक्त गिरफ़्तार किए जा चुके हैं.

(मनीष भंडारी, पुष्पा सेल्स के मालिक, फोटो: एएनआई/ ट्विटर)

(मनीष भंडारी, पुष्पा सेल्स के मालिक, फोटो: एएनआई/ट्विटर)

गोरखपुर: गोरखपुर स्थित बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में पिछले महीने कथित रूप से ऑक्सीजन की कमी से हुई बच्चों की मौत के मामले में नौवें अभियुक्त को भी रविवार को खोराबार इलाके से गिरफ्तार कर लिया गया.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनिरुद्ध सिद्धार्थ पंकज ने बताया कि पिछली 10-11 अगस्त को मेडिकल कॉलेज में हुई बच्चों की मौत के प्रकरण में वांछित नौवें अभियुक्त पुष्पा सेल्स के मालिक मनीष भंडारी को रविवार सुबह साढ़े आठ बजे खोराबार थाना इलाके के देवरिया बाई पास से गिरफ्तार कर लिया गया.

उन्होंने बताया कि इसके साथ ही इस मामले में अब सभी नौ अभियुक्त गिरफ्तार किए जा चुके हैं. पंकज ने बताया कि फिलहाल भंडारी का मेडिकल परीक्षण कराया जाएगा और पूछताछ के बाद उसे अदालत में पेश किया जाएगा. हालांकि भंडारी के वकील ने बीते शनिवार को अदालत में अर्जी देकर समर्पण की अनुमति मांगी थी.

पुलिस शुरू से ही भंडारी की सरगर्मी से तलाश कर रही थी. अदालत ने उसे फरार घोषित करते हुए उसके खिलाफ कुर्की की कार्यवाही के आदेश दिए थे.

मालूम हो कि गत 10-11 अगस्त को गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में संदिग्ध परिस्थितियों में 30 बच्चों की मौत हो गई थी. आरोप था कि वे मौतें ऑक्सीजन की कमी से हुई हैं, लेकिन सरकार ने इससे इंकार किया था.

मुख्य सचिव राजीव कुमार की अगुवाई में गठित एक उच्चस्तरीय समिति की जांच के बाद मेडिकल कॉलेज के निलम्बित प्राचार्य राजीव मिश्रा, उनकी पत्नी पूर्णिमा, इंसेफलाइटिस वार्ड के प्रभारी डॉक्टर कफील तथा पुष्पा सेल्स के मनीष भंडारी समेत नौ लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था. अब ये सभी गिरफ्तार किए जा चुके हैं.