भारत

एमपी: विवादास्पद धार्मिक पुस्तकें बांटने पर हिंदुत्ववादी संगठनों की आपत्ति, आठ लोग हिरासत में

मध्य प्रदेश के दतिया शहर का मामला. कथित रूप से धर्मांतरण के लिए विवादास्पद पुस्तकों का वितरण करने के मामले में पुलिस ने पांच महिलाओं सहित 10 लोगों के ख़िलाफ़ कोतवाली पुलिस थाने में प्रकरण दर्ज किया है.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

दतिया: मध्य प्रदेश के दतिया शहर में कथित रूप से धर्मांतरण के लिए विवादास्पद पुस्तकों का वितरण करने के मामले में हिंदुत्ववादी संगठनों द्वारा आपत्ति उठाए जाने के बाद आठ लोगों को हिरासत में लिया गया है. यह जानकारी पुलिस ने सोमवार को दी है.

एक अधिकारी ने कहा कि पांच महिलाओं सहित 10 लोगों का एक समूह रविवार (10 अक्टूबर) को धार्मिक पुस्तकों का वितरण कर रहा था, जिस पर कुछ लोगों ने आपत्ति जताई और पुलिस को सूचना दी.

कोतवाली पुलिस थाना प्रभारी रविंद्र शर्मा ने सोमवार को बताया कि किसी व्यक्ति की सूचना के बाद बजरंग दल एवं विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर विवादास्पद धार्मिक पुस्तकें बांट रहे महिलाओं व पुरुषों को स्थानीय होली क्रॉस स्कूल के समीप पकड़ा. उसके बाद वे इन लोगों को कोतवाली थाने लेकर आ गए.

उन्होंने कहा कि जब हिंदुत्ववादी संगठनों के कार्यकर्ताओं ने इन पुस्तकों का वितरण करने वाले महिला-पुरुषों से उनके परिचय पत्र वगैरह मांगें, तो उन्होंने परिचय पत्र नहीं दिखाए.

उनके मुताबिक, इसके बाद विश्व हिंदू परिषद एवं बजरंग दल के कार्यकर्ताओं और इन कथित धर्मांतरण कराने वाले लोगों के बीच में विवाद हो गया.

शर्मा ने बताया, ‘पुलिस ने इस मामले में पुस्तक वितरण करने वाली पांच महिलाओं सहित 10 लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 505 (2) के तहत कोतवाली पुलिस थाने में प्रकरण दर्ज किया है. इनमें से आठ लोगों को हिरासत में लिया गया है और उनसे पूछताछ जारी है.’

वहीं, बजरंग दल के सह जिला मंत्री अजय राज ने बताया कि एक धर्म विशेष के कुछ लोग इस प्रकार का कृत्य कर रहे हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि इसमें एक स्थानीय मिशनरी स्कूल की भूमिका भी संदिग्ध है.

नई दुनिया के मुताबिक, पुलिस के अनुसार दीपक सारस, अभिषेक सारस, खुशीराम दास, राम सिंह, ज्योति सारस, इंदिरा सारस, रोशनी जाटव व मनीष गर्ग तथा दो अज्ञात लोगों के खिलाफ धारा 505 (2) के तहत मामला दर्ज किया गया है.

हिंदुत्ववादी संगठनों द्वारा धर्मांतरण की कथित किताबों को लेकर थाने में आपत्ति जताई गई और वे इन लोगों पर मामला दर्ज करने की मांग कर रहे थे. थाना परिसर पर भी विवाद की स्थिति पैदा हो गई थी.

हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं ने इन लोगों के साथ मारपीट का प्रयास किया, जिसे पुलिस ने रोक लिया.

हिंदू जागरण मंच के रवि शर्मा तथा बजरंग दल के अजय राज सिंह ने बताया कि ईसाई समाज के कुछ लोग इस प्रकार का काम कर रहे हैं.

उन्होंने कहा, ‘इसमें एक स्थानीय मिशनरी स्कूल की भूमिका भी संदिग्ध है. हम उस स्कूल की तालाबंदी करेंगे.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)