भारत

गुजरात: कथित तौर पर भूत भगाने के दौरान बुरी तरह पिटाई से महिला की मौत, पांच गिरफ़्तार

गुजरात के द्वारका ज़िले का मामला. पांच गिरफ़्तार लोगों में तीन पुजारी और एक मृतक महिला का रिश्तेदार है. आरोपियों ने कथित तौर पर भूत भगाने के लिए महिला की जलती लकड़ी और लोहे की गर्म से चेन से बारी-बारी से पिटाई की थी.

(फोटो साभार: विकिमीडिया कॉमन्स)

द्वारका: गुजरात के देवभूमि द्वारका जिले में जादू-टोना करने वाले एक व्यक्ति ने 25 वर्षीय एक महिला को ‘देवता के प्रकोप से मुक्त करने के लिए’ लोहे की गर्म चेन से उसकी कथित तौर पर पीट-पीटकर हत्या कर दी. महिला के कुछ रिश्तेदारों ने भी जादू-टोने के दौरान उसकी पिटाई की. यह जानकारी पुलिस ने दी.

पुलिस निरीक्षक पीबी गढ़वी ने कहा कि बुधवार (13 अक्टूबर) को हुई कथित घटना में संलिप्त पांचों आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

प्राथमिकी के अनुसार, मीठापुर तालुका के आरामभाडा गांव निवासी रमीला सोलंकी और उसका पति बाला सोलंकी नवरात्रि मनाने के लिए द्वारका शहर के नजदीक ओखामंडी गांव में आए थे.

अधिकारी ने बताया, ‘रमीला अचानक हिलने लगी और ऐसे व्यवहार करने लगी जैसे उस पर भूत आ गया है. झाड़-फूंक करने वाले रमेश सोलंकी ने अन्य लोगों से कहा कि उसे क्रोधित देवता के प्रभाव से मुक्त कराने के लिए पीटें. उसने चेतावनी दी कि अगर उन्होंने रमीला को नहीं पीटा तो वह हर किसी को मार देगी. आरोपियों ने जलती लकड़ी से उसकी पिटाई शुरू कर दी.’

उन्होंने कहा कि आरोपियों ने इसके बाद लोहे की गर्म से चेन से उसकी बारी-बारी से पिटाई की, जिससे उसकी मौत हो गई.

रमीला के पति की शिकायत पर पुलिस ने रमेश सोलंकी और महिला के रिश्तेदार अर्जुन सोलंकी, वेरसी सोलंकी, मनु सोलंकी और भावेश सोलंकी को हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, पांच आरोपियों में से तीन पुजारी और एक महिला का बहनोई है. प्राथमिकी में रमीला के पति के हवाले से कहा गया है कि जैसे ही वह (रमीला) कांपने लगी. तीन पुजारियों में से एक रमेश सोलंकी ने घोषणा की कि उसके अंदर बुरी आत्मा है.

देवभूमि द्वारका के पुलिस अधीक्षक सुनील जोशी ने कहा, ‘महिला ने कहा था कि वह किसी देवी के अधीन है, जिसके बाद आरोपियों ने आत्मा को भगाने के प्रयास में उसके बाल पकड़कर उसकी पिटाई शुरू कर दी थी.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)