भारत

गुड़गांवः खुले में नमाज़ के विरोध में लगातार छठे हफ़्ते प्रदर्शन, तीस हिरासत में

हरियाणा के गुड़गांव के सेक्टर-12 में मुस्लिम समुदाय द्वारा खुले में पढ़ी जा रही जुमे की नमाज़ के विरोध में भारी पुलिसबल की मौजूदगी के बीच प्रदर्शनकारियों, जिनमें अधिकतर हिंदुत्ववादी संगठनों के सदस्य थे, ने जय श्रीराम और भारत माता की जय के नारे लगाए. प्रदर्शनकारियों ने शहर में निर्धारित स्थानों पर खुले में नमाज़ की अनुमति देने पर प्रशासन के ख़िलाफ़ भी नारेबाज़ी की.

(साभारः ट्विटर स्क्रीनग्रैब)

गुड़गांवः हरियाणा के गुड़गांव के सेक्टर-12 में मुस्लिम समुदाय द्वारा शुक्रवार को पढ़ी जा रही जुमे की नमाज को बाधित करने के आरोप में करीब 30 लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है.

भारी पुलिसबल की मौजूदगी के बीच प्रदर्शनकारियों जिनमें अधिकतर हिंदुत्ववादी संगठनों के सदस्य थे ने जय श्रीराम और भारत माता की जय के नारे लगाए.

प्रदर्शनकारियों के हाथों में तख्तियां थी और उन्होंने शहर में निर्धारित स्थानों पर खुले में नमाज अदा करने की अनुमति देने पर प्रशासन के खिलाफ भी नारेबाजी की.

हालांकि, माहौल तनावपूर्ण होने के बावजूद वहां शांति बनी रही. पुलिस अधिकारी ने बताया कि एहतियातन करीब 30 प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया है.

पत्रकारों से बातचीत करते हुए गुरुग्राम की सब डिविजनल मजिस्ट्रेट अंकिता चौधरी ने कहा, ‘इस स्थान पर बीते दो साल से लोग नमाज पढ़ रहे हैं. दूसरे समूह के कुछ लोग हैं जो उन्हें रोकने का प्रयास कर रहे हैं इसलिए हमने उनसे अफरातफरी का माहौल और कानून-व्यवस्था की समस्या उत्पन्न नहीं करने को कहा. जब वे नहीं माने तो प्रशासन और पुलिस ने कानून व्यवस्था कायम रखने के लिए उन्हें हिरासत में ले लिया.’

https://twitter.com/pub_neat/status/1453995927442657281?ref_src=twsrc%5Etfw%7Ctwcamp%5Etweetembed%7Ctwterm%5E1453995927442657281%7Ctwgr%5E%7Ctwcon%5Es1_&ref_url=https%3A%2F%2Fthewire.in%2Fcommunalism%2Fgurugram-police-namaz-protest

चौधरी ने बताया कि लोगों को केवल एहतियातन हिरासत में लिया गया है. जब उनसे पूछा गया कि हिरासत में लिए गए लोग कौन हैं, तो उन्होंने कहा कि इस संबंध में जांच की जा रही है.

इससे पहले खुले में नमाज को बाधित करने की धमकी हिंदुत्ववादी संगठनों की ओर से दिए जाने के चलते मौके पर पुलिस बल की तैनाती की गई थी.

बता दें कि तीन साल पहले हिंदुत्ववादी संगठनों द्वारा विरोध के बाद जिला प्रशासन ने शहर में 37 स्थानों को चिह्नित किया था जहां पर मुस्लिमों को जुमे की नमाज पढ़ने की अनुमति दी गई थी. यह लगातार छठा हफ्ता है, जब गुड़गांव में इस तरह के प्रदर्शन हो रहे हैं.

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, गुड़गांव के सेक्टर 12ए के अलावा सेक्टर 47 में भी इस महीने की शुरुआत में इसी तरह के प्रदर्शन हुए थे.

प्रदर्शनकारियों के हाथों में प्लेकार्ड थे, जिन पर लिखा था ‘गुड़गांव प्रशासन, नींद से जागो.’ शुक्रवार को सेक्टर 12ए में भारी सुरक्षाबलों की तैनाती की गई.

साल 2018 में कुछ लोगों ने खुले स्थानों पर नमाज पढ़ रहे मुस्लिमों पर हमला किया था और उनसे जबरन जय श्रीराम का नारा लगाने को कहा था.

इसी तरह के हमले कई बार हुए और यति नरसिंहानंद जैसे हिंदुत्ववादी नेताओं ने मुस्लिमों पर भूमि जिहाद के आरोप भी लगाए.

द वायर  ने इससे पहले अपनी एक रिपोर्ट में बताया था कि हिंदुत्ववादी समूह भारत माता वाहिनी के नेता दिनेश भारती इन विरोध प्रदर्शनों के केंद्र में हैं. उन्हें जुमे की नमाज को बाधित करने के लिए इससे पहले गिरफ्तार भी किया गया था.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)