भारत

उत्तर प्रदेश: महिला सहकर्मी से छेड़छाड़ के मामले में सरकारी कर्मचारी गिरफ़्तार

उत्तर प्रदेश सचिवालय के बापू भवन में अल्पसंख्यक कल्याण विभाग में तैनात अनुसचिव के ख़िलाफ़ उनकी सहकर्मी ने 29 अक्टूबर को ही शिकायत दर्ज कराई थी, लेकिन सोशल मीडिया पर घटना का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने कार्रवाई की है.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश सचिवालय के बापू भवन में संविदा पर काम करने वाली एक महिला से छेड़छाड़ का वीडियो इंटरनेट पर वायरल होने के बाद पुलिस ने आरोपी अनुसचिव (अवर सचिव) को गिरफ्तार कर लिया है.

लखनऊ के पुलिस आयुक्त डीके ठाकुर ने बताया कि महिला ने हुसैनगंज पुलिस थाने में मामला दर्ज कराया था. इस मामले में उत्तर प्रदेश सचिवालय के बापू भवन में अल्पसंख्यक कल्याण विभाग में तैनात अनुसचिव इच्छाराम यादव को गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि अनुसचिव यादव ने बीते दिनों संविदाकर्मी महिला से लगातार छेड़छाड़ एवं अभद्रता की. इससे परेशान होकर महिला ने यादव की अश्लील हरकतों का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर साझा कर दिया.

इसके बाद महिला ने साक्ष्य के तौर पर तमाम वीडियो के साथ लखनऊ के हुसैनगंज थाने में तहरीर दी, जिसके बाद मामला दर्ज कर लिया गया. पुलिस आयुक्त ने बताया कि मामले की जानकारी मिलते ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

इसे लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर सरकार को घेरा है.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘सचिवालय हो, सड़क हो या कोई और स्थान, उत्तर प्रदेश में महिलाएं असुरक्षित हैं. सरकार के ‘महिला सुरक्षा’ के दावे की असलियत यही है. प्रदेश की एक बहन को यौन शौषण की शिकायत पर कार्रवाई न होने के चलते अपने साथ घटी घटना का वीडियो साझा करना पड़ा. कितना धैर्य और लड़ने की शक्ति होगी उसमें.’

प्रियंका गांधी के ट्वीट का जवाब देते हुए लखनऊ पुलिस ने लिखा, ‘थाना हुसैनगंज पुलिस द्वारा सुसंगत धराओं में अभियोग पंजीकृत किया गया है, आरोपी अभियुक्त को गिरफ्तार कर आवश्यक वैधानिक कार्यवाही की जा रही है.’

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पीड़िता ने 29 अक्टूबर को ही इस मामले में शिकायत दर्ज कराई थी, लेकिन यादव को गिरफ्तार नहीं किया गया. इसके कारण पीड़िता को घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कराना पड़ा, जिसके बाद पुलिस हरकत में आई और आरोपी को गिरफ्तार किया.

यादव ने कथित तौर पर पीड़िता की सरकारी नौकरी लगवाने का वादा किया था और इस आधार पर वह पीड़िता का उत्पीड़न करता था, इनकार करने पर उसने नौकरी से निकालने और यहां तक कि हत्या करने की भी धमकी दी थी.

कई सालों तक ये प्रताड़ना झेलने के बाद पीड़िता ने आरोपी का वीडियो बनाने और उसके खिलाफ शिकायत दर्ज कराने का फैसला किया. पीड़िता बापू भवन में साल 2013 से काम कर रही थीं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)