राजनीति

यूपी विधानसभा चुनाव अपने दम पर लड़ेगी कांग्रेस, सभी सीटों पर उतारेगी प्रत्याशी: प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सत्तारूढ़ भाजपा पर तंज़ कसते हुए कहा कि स्वतंत्रता आंदोलन के लिए भाजपा को कोई सम्मान नहीं है, क्योंकि इसके नेताओं ने देश की आज़ादी के लिए ख़ून-पसीना नहीं बहाया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने न केवल विकास किया है, बल्कि भाईचारे और सद्भाव को भी बढ़ावा दिया है.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी. (फोटो साभार: ट्विटर/@priyankagandhi)

बुलंदशहर: कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने रविवार को कहा कि पार्टी 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में सभी 403 सीटों पर अपने दम पर चुनाव लड़ेगी. उन्होंने दावा किया कि पार्टी चुनाव में विजयी होगी.

प्रियंका गांधी ने किसी भी राजनीतिक दल के साथ गठबंधन से इनकार करते हुए कहा कि समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (सपा) के नेता 2017 के उन्नाव बलात्कार मामले और 2020 के हाथरस सामूहिक बलात्कार एवं हत्या मामले के दौरान कहीं नहीं दिखे थे, जिन मामलों ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था.

उन्होंने कहा कि केवल कांग्रेस ही लोगों के लिए लड़ रही थी.

कांग्रेस महासचिव ने बुलंदशहर जिले के अनूपशहर में ‘प्रतिज्ञा सम्मेलन-लक्ष्य 2022’ में पार्टी कार्यकर्ताओं एवं नेताओं को संबोधित करते हुए पार्टी के लिए उत्तर प्रदेश चुनावों के महत्व पर जोर दिया तथा इसे ‘करो या मरो’ की स्थिति बताया.

पश्चिमी यूपी में चल रहे कृषि आंदोलन को देखते हुए कांग्रेस ने पश्चिमी यूपी में मतदाताओं को लुभाने के उद्देश्य से बुलंदशहर और मुरादाबाद से प्रतिज्ञा सम्मेलन शुरू किया है.

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि बूथ स्तर पर पार्टी को मजबूत करके ही चुनावी मुकाबला जीता जा सकता है. उन्होंने बूथ समितियों को मजबूत करने के लिए कांग्रेस कार्यकर्ताओं का आह्वान किया.

प्रियंका गांधी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को सोशल मीडिया पर सक्रिय रहने और पार्टी संबंधित सभी गतिविधियों को विभिन्न सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म पर पोस्ट करने के लिए कहा.

उन्होंने सत्तारूढ़ भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि स्वतंत्रता आंदोलन के लिए भाजपा को कोई सम्मान नहीं है, क्योंकि इसके नेताओं ने देश की आजादी के लिए खून-पसीना नहीं बहाया.

उन्होंने कहा कि केवल महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू, सरदार वल्लभभाई पटेल और बीआर आंबेडकर जैसे नेताओं ने देश के लिए स्वतंत्रता की कल्पना की थी.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने न केवल विकास किया है, बल्कि भाईचारे और सद्भाव को भी बढ़ावा दिया है.

ईंधन की बढ़ती कीमतों को लेकर केंद्र की भाजपा नीत सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने 70 साल तक यह सुनिश्चित किया कि पेट्रोल-डीजल की कीमतें 70 रुपये प्रति लीटर से ऊपर न बढ़ें.

उन्होंने कहा कि हालांकि, पिछले सात वर्षों में भाजपा सरकार ने इनकी कीमतें 100 रुपये प्रति लीटर से ऊपर जाने दीं.

इंडिया टुडे के मुताबिक, आगरा, अलीगढ़, हाथरस और बुलंदशहर सहित 14 जिलों के कांग्रेस पदाधिकारियों के साथ आंतरिक मामलों पर चर्चा के लिए आयोजित बैठक में कई पदाधिकारियों ने प्रियंका गांधी से किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करने का अनुरोध किया था.

गठबंधन की अटकलें तब शुरू हुई थीं, जब भूपेश बघेल ने संकेत दिया था कि कांग्रेस स्थानीय दलों के साथ गठबंधन के लिए तैयार है.

प्रियंका गांधी ने कहा, ‘हम यूपी की सभी विधानसभा सीटों के लिए केवल कांग्रेस कार्यकर्ताओं को नामित करेंगे. अगर कांग्रेस को जीतना है, तो वह अपने दम पर जीतेगी.’

प्रियंका गांधी ने अगले साल होने वाले यूपी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत सुनिश्चित करने के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए रणनीति भी तैयार की है.

403 सदस्यीय विधानसभा में 300 से अधिक सीटें जीतने का लक्ष्य रखने वाली भाजपा पर तंज कसते हुए प्रियंका गांधी ने कहा, ‘सभी स्वतंत्रता सेनानियों को स्वतंत्रता का महत्व पता था. वे उस स्वतंत्रता की कीमत जानते थे, जिसका मतलब संवैधानिक स्वतंत्रता, वित्तीय स्वतंत्रता और लोकतंत्र की व्यापकता है,  लेकिन जब मैं यूपी आई, तो मुझे एहसास हुआ कि भाजपा स्वतंत्रता के इस अर्थ को नहीं समझती है.’

प्रियंका गांधी ने पार्टी कार्यकर्ताओं से राष्ट्रीय स्तर पर उत्तर प्रदेश कांग्रेस इकाई की सोशल मीडिया पहुंच को मजबूत करने का आग्रह किया.

उन्होंने कहा, ‘उत्तर प्रदेश कांग्रेस की सोशल मीडिया पहुंच राष्ट्रीय स्तर पर मजबूत होनी चाहिए. हमारा सोशल मीडिया आउटरीच अन्य दलों की तुलना में तीसरे स्थान पर है. मैं चाहती हूं कि आप सभी इसे शीर्ष पर ले जाएं. हमारे सोशल मीडिया से प्रतिदिन पांच लोगों को जोड़ा जाना चाहिए. इससे हमारी पहुंच बढ़ाने में मदद मिलेगी.’

उत्तर प्रदेश में पार्टी का खोया जनाधार वापस हासिल करने की जद्दोजहद कर रहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने बीते अक्टूबर माह में घोषणा की थी कि उनकी पार्टी राज्य के आगामी विधानसभा चुनाव में 40 प्रतिशत सीटों पर महिला उम्मीदवार उतारेगी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)