कैंपस

कर्नाटक: धारवाड़ मेडिकल कॉलेज में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 281 हुई

कर्नाटक में धारवाड़ के एसडीएम मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में पाए गए अधिकतर संक्रमितों में लक्षण नहीं दिखे हैं, जबकि कुछ को हल्के लक्षण दिखाई दिए हैं. उन्हें क्वारंटीन में रखा गया है. ज़िला प्रशासन ने एहतियात के तौर पर मेडिकल कॉलेज के 500 मीटर के दायरे में स्कूलों और कॉलेजों के लिए अवकाश घोषित कर दिया है. वहीं ओपीडी सेवाएं भी तीन दिनों के लिए बंद कर दी गई हैं.

(फोटो: पीटीआई)

बंगलुरु: कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने धारवाड़ के एक मेडिकल कॉलेज में कोविड-19 रोगियों की संख्या 281 तक पहुंचने तथा कोरोना वायरस के नए स्वरूप ‘ओमीक्रॉन’ के खतरे को देखते हुए शनिवार को कुछ एहतियाती कदम उठाने के संकेत दिए.

राज्य सरकार ने पहले से ही कुछ देशों से आने वाले यात्रियों के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं, जहां इस स्वरूप के मामले सामने आए हैं. इसका उद्देश्य वायरस के प्रसार को रोकना है.

बोम्मई ने कहा, ‘हमने धारवाड़, बंगलुरु और बंगलुरु ग्रामीण क्षेत्रों में स्कूलों, कॉलेजों और छात्रावासों में कोविड का प्रसार तथा पड़ोसी राज्य केरल में मामलों में वृद्धि देखी है. हमें इसे नियंत्रित करने के लिए तुरंत एहतियाती कदम उठाने होंगे. इसलिए मैंने स्वास्थ्य, आपदा प्रबंधन अधिकारियों, कोविड सलाहकारों और विशेषज्ञों की बैठक बुलाई है. हम नए स्वरूप के बारे में भी चर्चा करेंगे.’

उन्होंने पत्रकारों से कहा, ‘केवल चिकित्सीय सावधानियां ही नहीं, बल्कि जो महत्वपूर्ण सार्वजनिक कदम उठाने की आवश्यकता होगी, उन्हें तुरंत उठाया जाएगा.’

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि धारवाड़ के एसडीएम मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में संक्रमितों की संख्या 281 हो गई.

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, अधिकतर संक्रमितों में लक्षण नहीं दिखे हैं, जबकि कुछ को हल्के लक्षण दिखाई दिए हैं और उन्हें क्वारंटीन में रखा गया है.

धारवाड़ जिला प्रशासन ने एहतियात के तौर पर मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के 500 मीटर के दायरे में स्कूलों और कॉलेजों के लिए अवकाश घोषित कर दिया है; वहीं ओपीडी सेवाएं भी तीन दिनों के लिए बंद कर दी गई हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, स्वास्थ्य मंत्री के. सुधाकर ने कहा कि धारवाड़ के एसडीएम मेडिकल कॉलेज में परीक्षण करने वाले छात्रों के नमूने जीनोमिक अनुक्रमण के लिए भेजे गए हैं.

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, ‘अब तक 281 लोगों का कोविड-19 टेस्ट पॉजीटिव आया है. कुछ नमूने जीनोमिक अनुक्रमण के लिए भेजे गए हैं, ताकि हमें वेरिएंट के बारे में पता चल सके. रिपोर्ट दिसंबर के पहले सप्ताह तक आ जाने की उम्मीद है.’

इस बीच, बंगलुरु के बाहरी इलाके अनेकल में एक नर्सिंग कॉलेज में 12 केरल के छात्रों का कोविड टेस्ट पॉजीटिव
आया. इसके अलावा एक निजी गैर-सहायता प्राप्त (बोर्डिंग) स्कूल के 33 छात्र और एक स्टाफ सदस्य ने गुरुवार को कोविड-9 संक्रमित पाए गए थे.

अधिकारियों ने कहा कि इन दोनों संस्थानों में सभी एहतियाती कदम उठाए गए हैं.

यह देखते हुए कि पिछले एक सप्ताह से बोत्सवाना, दक्षिण अफ्रीका, हांगकांग और इजराइल जैसे चार से पांच देशों में नया वैरिएंट पाया गया है स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, ‘पिछले नौ महीनों से डेल्टा स्वरूप दुनिया भर में फैल रहा है और हम जिस टीके का दो खुराक लगा कर रहे हैं, उसमें इसके प्रसार को रोकने की शक्ति है, लेकिन जानकारी यह है कि यह नया वैरिएंट ‘ बी.1.1.529’ या ‘ओमीक्रॉन’ बहुत तेजी से फैल रहा है.’

उन्होंने कहा, ‘इसके (नए वैरिएंट) के बारे में कुछ चिंता है, लेकिन मैं लोगों को बताना चाहता हूं कि अभी चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है. हमने पहले ही एक बैठक की है और हवाई अड्डों के लिए दिशानिर्देश दिए हैं.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)