दुनिया

भारत की हरनाज़ संधू बनीं मिस यूनिवर्स, 21 साल बाद देश को मिला ख़िताब

चंडीगढ़ की मॉडल हरनाज़ संधू एमए की पढ़ाई कर रही हैं. इज़रायल में आयोजित प्रतियोगिता में पराग्वे की नादिया फेरेरा दूसरे स्थान पर रहीं, जबकि दक्षिण अफ्रीका की लालेला मसवाने तीसरे स्थान पर रहीं. इज़रायल द्वारा फ़िलीस्तीन के साथ किए जा रहे व्यवहार को लेकर इसके सहयोगी दक्षिण अफ्रीका ने अपने देश की प्रतिभागी का समर्थन नहीं किया था.

हरनाज़ संधू. (फोटो: रॉयटर्स)

यरुशलम: अभिनेत्री-मॉडल हरनाज़ संधू ने सोमवार को मिस यूनिवर्स 2021 का खिताब अपने नाम कर इतिहास रच दिया. इस प्रतियोगिता में 80 देशों की प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया था और भारत को 21 साल बाद इस प्रतियोगिता में जीत हासिल हुई है.

संधू से पहले सिर्फ दो भारतीय महिलाओं ने मिस यूनिवर्स का खिताब जीता है. अभिनेत्री सुष्मिता सेन को 1994 में और लारा दत्ता को साल 2000 में यह ताज पहनाया गया था.

अंतरराष्ट्रीय सौंदर्य प्रतियोगिता के इस 70वें संस्करण का आयोजन इजरायल के ईलात में किया गया, जिसमें 21 वर्षीय संधू को सफलता मिली.

हरनाज़ संधू को रविवार को 70वीं मिस यूनिवर्स का ताज पहनाया गया, जो राजनीति और महामारी से प्रभावित प्रतियोगिता में लगभग 80 प्रतियोगियों के क्षेत्र में शीर्ष पर रहीं.

प्रतियोगिता में राष्ट्रीय वेशभूषा, इवनिंग गाउन और स्विमवीयर के पारंपरिक प्रदर्शन के साथ-साथ प्रतियोगियों के सार्वजनिक बोलने के कौशल का परीक्षण करने के लिए सवालों की एक शृंखला शामिल थी.

चंडीगढ़ की मॉडल संधू लोक प्रशासन विषय से स्नातकोत्तर (एमए) की पढ़ाई कर रही हैं. उन्हें यह ताज इस प्रतियोगिता की 2020 की विजेता मेक्सिको की एंड्रिया मेज़ा ने पहनाया. पराग्वे की 22 वर्षीय नादिया फेरेरा दूसरे स्थान पर रहीं, जबकि दक्षिण अफ्रीका की 24 वर्षीय लालेला मसवाने तीसरे स्थान पर रहीं.

खिताब जीतने के बाद हरनाज़ संधू ने कहा, ‘मैं ईश्वर, माता-पिता और मिस इंडिया ऑर्गनाइजेशन का आभार प्रकट करती हूं, जिन्होंने इस पूरी यात्रा में मेरा मार्गदर्शन किया और मेरी सहायता की.’

संधू ने कहा, ‘मेरी जीत की कामना और प्रार्थना करने वाले सभी लोगों को ढेर सारा प्यार. 21 साल बाद इस गौरवशाली ताज को भारत लाना गर्व का क्षण है.’

इस प्रतियोगिता में अंतिम सवाल-जवाब चरण में संधू से पूछा गया था कि वर्तमान समय में युवा महिलाएं जो दबाव महसूस कर रही हैं, उससे निपटने के लिए वह उन्हें क्या सलाह देंगी?

इस पर उनका जवाब था, ‘वर्तमान समय में युवा जिस बड़े दबाव का सामना कर रहे हैं, वह है खुद पर विश्वास करना. यह जानना कि आप अद्वितीय हैं और यही आपको सुंदर बनाता है. दूसरों के साथ खुद की तुलना करना बंद करें और दुनिया भर में हो रही महत्वपूर्ण चीजों के बारे में बात करें. यही आपको समझने की जरूरत है.’

उन्होंने आगे कहा था, ‘बाहर आएं और खुद के लिए बात करें, क्योंकि आप ही अपनी जिंदगी के नेतृत्वकर्ता हैं, आप ही खुद की आवाज हैं. मैंने खुद पर भरोसा किया, इसलिए आज मैं यहां खड़ी हूं.’

उनके इस जवाब पर तालियां बजीं. संधू ने सौंदर्य क्षेत्र में अपनी यात्रा की शुरुआत 2017 में की थी, जब उन्होंने टाइम्स फ्रेश फेस का अवॉर्ड जीता था. वह 17 साल की उम्र में चंडीगढ़ का प्रतिनिधित्व कर रही थीं. बाद में उन्होंने लीवा मिस दीवा यूनिवर्स 2021 का खिताब जीता.

संधू ‘यारा दियां पू बरन’ और ‘बाई जी कुट्टंगे’ जैसी कुछ पंजाबी फिल्मों में काम कर चुकी हैं.

समारोह की मेजबानी स्टीव हार्वी कर रहे थे और अमेरिकी गायिका जो जो ने इस दौरान प्रस्तुति दी. चयन समिति में अभिनेत्री व मिस यूनिवर्स इंडिया 2015 की विजेता उर्वशी रौतेला, अदामारी लोपेज, एडरियाना लीमा, चेस्ली क्रिस्ट, आयरिश मिटेनाएरा, लोरी हार्वी, मरियन रिवेरा और रेना सॉफर शामिल थीं.

समाचार एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस (एपी) की रिपोर्ट के अनुसार, हाल के हफ्तों में इस प्रतियोगिता ने कुछ अन्य कारणों से भी अपनी ओर ध्यान आकर्षित किया.

प्रतियोगिता का आयोजन इजरायल में किया गया था और फिलिस्तीनियों के साथ इजरायल के व्यवहार का विरोध करने के लिए प्रतियोगियों से इस कार्यक्रम को छोड़ने का आग्रह किया गया था.

बताया जा रहा है कि इसकी वजह से मुस्लिम देश मलेशिया, जिसका फिलिस्तीनियों के साथ घनिष्ठ संबंध है, ने वैश्विक कोविड-19 महामारी की स्थिति का हवाला देते हुए अपनी प्रतिनिधि को नहीं भेजा.

इसी तरह दक्षिण अफ्रीकी सरकार, जो फिलिस्तीनियों का पुरजोर समर्थन करती है, ने अपनी भागीदारी से समर्थन वापस ले लिया था.

फिलिस्तीन के साथ एकजुटता दिखाने के लिए इस आयोजन का बहिष्कार करने के लिए दक्षिण अफ्रीकियों से व्यापक आह्वान किया गया था.

हालांकि प्रतियोगिता में दूसरी रनन अप रहीं दक्षिण अफ्रीकी लालेला मसवाने अपनी सरकार के समर्थन के बिना इस अंतरराष्ट्रीय मंच पर दक्षिण अफ्रीका का प्रतिनिधित्व करने के लिए इजरायल गईं.

दक्षिण अफ्रीका के कला, संस्कृति और खेल विभाग ने इस बात की पुष्टि की थी कि वह इस तथ्य कि यह प्रतियोगिता इजरायल में आयोजित की गई, के कारण लालेला मसवाने का समर्थन नहीं करेगा.

इस बीच संयुक्त अरब अमीरात, जिसने साल 2020 में इजरायल के साथ संबंधों को भी सामान्य कर दिया था, ने ईलात (इजरायल) में हुई इस वैश्विक सौंदर्य प्रतियोगिता में पहली बार शामिल होने की योजना बनाई थी. लेकिन बाद में देश ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर एक बयान जारी कर कहा था, ‘समय की पाबंदी और कोविड-19 चिंताओं के कारण अंतिम समय में उसने राष्ट्रीय ब्यूटी क्वीन घोषित करने की अपनी प्रतियोगिता रद्द कर दी.’

पिछले महीने एपी से एक साक्षात्कार में साल 2020 की मिस यूनिवर्स रहीं एंड्रिया मेज़ा ने प्रतियोगियों से राजनीति से बाहर निकलने का आग्रह करते हुए कहा था कि यह प्रतियोगिता विभिन्न पृष्ठभूमि की महिलाओं को एक साथ लाने के लिए है. जब आप वहां होते हैं तो आप राजनीति के बारे में, अपने धर्म के बारे में भूल जाते हैं.

इजरायली पर्यटन मंत्रालय की एक अधिकारी सारा सालांस्की ने कहा कि इस साल की शुरुआत में इजरायल के सफल कोरोना वायरस टीकाकरण कार्यक्रम के कारण इस प्रतियोगिता की मेजबानी के लिए उसे चुना गया था.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)