राजनीति

मुकुल रॉय ने किया तृणमूल कांग्रेस से इस्तीफे का ऐलान, पार्टी ने किया निलंबित

तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य और पूर्व रेल मंत्री मुकुल रॉय को पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते पार्टी से छह साल के लिए निलंबित कर दिया गया.

mukul pti

(फोटो: पीटीआई)

कोलकाता: तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय ने पार्टी से अपने इस्तीफे की घोषणा की. राय ने कहा कि वह सोमवार को पार्टी की कार्यसमिति से इस्तीफा दे देंगे. उन्होंने यह भी कहा कि दुर्गा पूजा के बाद वह राज्यसभा के सांसद पद से और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से भी इस्तीफा दे देंगे.

वहीं, दूसरी ओर तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य और पूर्व रेल मंत्री मुकुल रॉय को पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते पार्टी से छह साल के लिए निलंबित कर दिया गया. यह जानकारी पार्टी महासचिव पार्थ चटर्जी ने दी. उन्होंने कहा, वह (रॉय) कुछ समय से पार्टी को कमजोर करने की कोशिश करते रहे हैं. पार्टी की अनुशासन समिति ने इस मुद्दे पर चर्चा की और उन्हें सजा देने के लिए पार्टी प्रमुख ममता बनर्जी से सिफारिश की.

इससे पहले रॉय ने कहा, ‘जब पार्टी की स्थापना हुई थी तब उसके लिए हस्ताक्षर करने वालों में एक मैं भी था. आज भारी मन से मैं घोषणा कर रहा हूं कि मैं पार्टी की कार्यसमिति से इस्तीफा दे दूंगा.’

उन्होंने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘दुर्गा पूजा पर्व संपन्न होने के बाद मैं राज्यसभा से और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से भी इस्तीफे दे दूंगा.’ रॉय ने कहा कि वह दुर्गा पूजा के बाद स्पष्टीकरण देंगे कि क्यों वह पार्टी छोड़ रहे हैं और क्यों वह ऐसा करने के लिए बाध्य हुए.

पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने पिछले सप्ताह भाजपा नेताओं से नजदीकी बढ़ाए जाने की खबरों के बीच उन्हें फटकार लगाई थी और कहा कथा कि वह उन पर गहरी नजर रख रही है.

यह पूछे जाने पर कि क्या वह भाजपा में जाएंगे, रॉय ने कहा, ‘ जो भी मुझे कहना है वह मैं दुर्गा पूजा के बाद कहूंगा. लेकिन मैं यह उल्लेख करना चाहूंगा कि बंगाल के लोग दुर्गा पूजा के दौरान राजनीतिक विवाद पसंद नहीं करते.’

तृणमूल कांग्रेस में कभी मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बाद दूसरे नंबर की हैसियत रखने वाले मुकुल रॉय 19 सितंबर को तृणमूल कांग्रेस के मुखपत्र ‘जागो बांग्ला’ के दुर्गा पूजा संस्करण का विमोचन करने के लिए आयोजित समारोह में नहीं पहुंचे थे. समारोह में ममता बनर्जी तथा तृणमूल कांग्रेस के सभी नेता एवं पदाधिकारी मौजूद थे.

हाल ही में तृणमूल कांग्रेस ने अपनी समिति के पुनर्गठन का निर्णय किया था जिसके बाद रॉय को पार्टी के उपाध्यक्ष पद से हटा दिया गया था. इससे पहले रॉय को त्रिपुरा में पार्टी मामलों के प्रभारी के पद से हटा दिया गया था. वहां तृणमूल कांग्रेस अपनी जड़ें मजबूत करने का प्रयास कर रही थी लेकिन इस साल के शुरू में उसके कई सदस्य भाजपा में चले गए.