राजनीति

कांग्रेस द्वारा यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने के बीच गोवा के मंत्री मिलिंद नाइक का इस्तीफ़ा

कांग्रेस की गोवा इकाई के अध्यक्ष गिरीश चोडणकर ने मंत्री मिलिंद नाइक पर पद का दुरुपयोग कर एक महिला का यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया था. प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष संकल्प अमोनकर ने नाइक के ख़िलाफ़ पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई थी और पीड़ित महिला तथा विधायक के बीच कथित बातचीत का ऑडियो भी जारी किया था.

गोवा के शहरी विकास मंत्री मिलिंद नाइक. (फोटो साभार: फेसबुक/@BJP4Mormugao)

पणजी: कांग्रेस द्वारा लगाए गए यौन उत्पीड़न के आरोप के बीच गोवा के शहरी विकास मंत्री मिलिंद नाइक ने मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया. वहीं, मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा है कि भाजपा विधायक पर लगे यौन शोषण के आरोपों की जांच होगी.

मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) की ओर से बुधवार (बीते 15 दिसंबर) देर रात जारी बयान में बताया गया कि नाइक ने ‘स्वतंत्र एवं निष्पक्ष जांच’ सुनिश्चित करने के मद्देनजर इस्तीफा दे दिया.

सीएमओ ने ट्वीट किया कि नाइक ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है, जिसे स्वीकार करने के बाद राज्यपाल के पास भेजा गया है.

इससे पहले दिन में कांग्रेस की गोवा इकाई के अध्यक्ष गिरीश चोडणकर ने नाइक पर मंत्री पद का दुरुपयोग कर एक महिला का यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया था.

चोडणकर ने करीब एक पखवाड़े पहले एक मंत्री द्वारा महिला का यौन उत्पीड़न किए जाने का आरोप लगाया था. हालांकि, उस समय उन्होंने मंत्री का नाम सार्वजनिक नहीं किया था.

चोडणकर ने कहा था कि महिला बिहार की रहने वाली हैं और उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से नाइक के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने का विश्वास दिलाने का आग्रह किया है.

उन्होंने कहा था, ‘मैं बिहार के सीएम नीतीश कुमार से आग्रह करता हूं. आप महिला सशक्तिकरण की बात करते हैं लेकिन गोवा के एक मंत्री ने बिहार की एक बेटी का शोषण किया है. क्या आप अपनी बेटी के साथ खड़े होंगे या उस मंत्री के साथ, जिसने उनका शोषण किया है. बिहार के मुख्यमंत्री कृपया उन्हें ताकत दें ताकि वह बिना किसी डर के आगे आ सकें.’

प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष संकल्प अमोनकर ने नाइक के खिलाफ पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई थी और पीड़ित महिला तथा विधायक के बीच कथित बातचीत का ऑडियो भी जारी किया था.

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा है कि राज्य सरकार यौन शोषण मामले में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक मिलिंद नाइक के कथित तौर पर शामिल होने के कांग्रेस पार्टी के आरोपों की जांच करेगी.

भाजपा विधायक से बुधवार देर रात मुलाकात करने के बाद मुख्यमंत्री सावंत ने संवाददाताओं से कहा कि नाइक ने मामले की स्वतंत्र और निष्पक्ष जांच के लिए इस्तीफा दे दिया है.

मुख्यमंत्री सावंत ने कहा, ‘मैंने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया है और इसे राज्यपाल को भी भेज दिया है. कांग्रेस ने जो भी सबूत पेश किए हैं, उसकी हम जांच करेंगे.’

रिपोर्ट के मुताबिक, मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि नाइक ने उनसे कहा कि वह व्यक्तिगत स्तर पर केस लड़ेंगे.

उन्होंने आगे कहा, ‘उनके खिलाफ लगाए गए आरोप व्यक्तिगत हैं और वह इसके बारे में क्या करेंगे, यह उनके व्यक्तिगत निर्णय का विषय होगा.’

उन्होंने कहा कि कैबिनेट का पद खाली रहेगा और कोई नई नियुक्ति नहीं होगी. सावंत ने कहा, ‘मैं उनके सभी विभागों को संभालूंगा.’

राज्य विधानसभा चुनाव फरवरी 2022 में होने हैं. चोडणकर ने मांग की है कि पुलिस नाइक के खिलाफ आरोपों की जांच शुरू करे.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, 10 दिसंबर को बिहार में एक महिला ने प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष संकल्प अमोनकर और अन्य कांग्रेस नेताओं के खिलाफ रंगदारी, यौन उत्पीड़न और आपराधिक साजिश का मामला दर्ज कराया था. बीते 14 दिसंबर को मामला गोवा पुलिस को सौंप दिया गया था.

दक्षिण गोवा के पुलिस अधीक्षक अभिषेक धनिया ने कहा, ‘हमें शिकायत मिली और मोरमुगाओ पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज की गई है. यह जबरन वसूली, पीछा करने, आपराधिक साजिश और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धाराओं की शिकायत है.’

इस बीच अमोनकर और अन्य कांग्रेस नेताओं ने बीते 15 दिसंबर को पणजी के महिला थाने में नाइक के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई.

उन्होंने दावा किया कि उनके पास सेल फोन रिकॉर्ड और अन्य सबूत हैं, जो साबित करते हैं कि मंत्री ने महिला का यौन उत्पीड़न किया और उसे गर्भपात के लिए मजबूर किया.

अमोनकर ने कहा, ‘हमने नाइक के खिलाफ महिला के मूल फोन सहित सभी सबूत जमा कर दिए हैं. पीड़िता पलट गई और उन्हें हमारे खिलाफ शिकायत दर्ज कराने के लिए मजबूर किया गया. मैं पुलिस के साथ सहयोग करने के लिए तैयार हूं.’

कांग्रेस नेता ने कहा कि महिला ने पहली बार नवंबर 2019 में उनसे संपर्क किया था.

अमोनकर ने कहा, ‘उन्होंने हमें वॉट्सऐप चैट, वीडियो और ऑडियो दिखाया और जब मैंने पहली बार इसे देखा तो मैं बहुत गुस्से में था. उन्होंने कहा कि उनका इस्तेमाल किया गया, उनका शोषण किया गया, रोजगार का वादा किया गया और धमकी दी गई.’

उन्होंने कहा कि उन्होंने अपने फोन पर एक बयान दर्ज किया था और अपने फोन पर वॉट्सऐप चैट, वीडियो और ऑडियो के साथ अपना मूल मोबाइल उसे सौंप दिया था और उसे अपनी ओर से शिकायत दर्ज करने के लिए कहा था.

कांग्रेस नेता ने कहा कि हालांकि पांच महीने पहले महिला ने यह कहते हुए अपना बयान वापस ले लिया कि वह अपने और अपने बच्चे के लिए डरी हुई है. उन्होंने कहा कि महिला और नाइक के बीच बातचीत 2015-16 में हुई थी.

प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष संकल्प अमोनकर ने 2017 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस से मोरमुगाओ निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़े थे, लेकिन मिलिंद नाइक से 140 मतों के मामूली अंतर से उन्हें हार का सामना कर पड़ा था.

गौरतलब है कि गोवा में फरवरी 2022 में विधानसभा चुनाव होने हैं, जिसके मद्देनजर भाजपा के लिए इस मामले को राजनीतिक रूप से एक बड़ा झटका माना जा रहा है.

58 वर्षीय भाजपा नेता मिलिंद नाइक तीन बार के विधायक हैं और उन्होंने 2012 में बिजली और आवास मंत्री के रूप में भी काम किया था. वह दक्षिण गोवा में मोरमुगाओ विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)