भारत

हिंदू संस्कृति बचाने के लिए पुर्तगालियों द्वारा तोड़े गए मंदिर फिर बनाए जाएंगे: गोवा के मुख्यमंत्री

पोंडा के मंगेशी मंदिर में एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा कि गोवा की मुक्ति के साठवें बरस में पुर्तगाली शासनकाल में तोड़े गए मंदिरों को दोबारा बनाए जाने की ज़रूरत है. मैं फिर हिंदू संस्कृति और मंदिर संस्कृति को बचाने का आग्रह करता हूं. हमें इन मंदिरों का पुनर्निर्माण करने की ताक़त दीजिए.

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत. (फोटोसाभार: फेसबुक/@DrPramodPSawant)

पणजी: राज्य के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा कि गोवा की मुक्ति के साठवें बरस में पुर्तगाली शासनकाल में तोड़े गए मंदिरों को दोबारा बनाए जाने की जरूरत है.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, मंगलवार को पोंडा के मंगेशी मंदिर में एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने यह बात कही. मंगेशी मंदिर राज्य का एक प्रमुख तीर्थस्थल है, जहां बड़ी संख्या में टूरिस्ट आते हैं.

सावंत ने यहां कहा, ‘पुर्तगाली शासन के दौरान नष्ट किए गए कुछ मंदिरों का हमारे पूर्वजों ने पुनर्निर्माण किया था और अब सरकार ने इनमें से कुछ मंदिरों के सौंदर्यीकरण में भी मदद की है- जैसे वर्ना में म्हालसा मंदिर. यह देश के उन मंदिरों में से एक है, जिसे नष्ट कर दिया गया और उसे फिर से बनाया गया. यह गोवावासियों के लिए गर्व की बात है.’

उन्होंने आगे कहा, ‘अभी और भी ऐसे कई मंदिर हैं जिनका पुनर्निर्माण होना बाकी है. गोवा की मुक्ति के 60वें वर्ष में हम उन मंदिरों का पुनर्निर्माण शुरू करना चाहते हैं जिन्हें पुर्तगालियों ने नष्ट कर दिया था.’

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘मैं आपसे फिर हिंदू संस्कृति और मंदिर संस्कृति को बचाने का आग्रह करता हूं. हमें इन मंदिरों का पुनर्निर्माण करने की ताकत दीजिए.’

गोवा में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं और मंगलवार को यहां सत्तारूढ़ भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने दो सार्वजनिक सभाएं की थीं.