नॉर्थ ईस्ट

असम में बकरी चुराने के संदेह में व्यक्ति की पीट-पीटकर हत्या, दो लोग हिरासत में

असम के गोलाघाट जिले के ज़िले के ममरानी गांव का मामला. पुलिस ने बताया कि एक जनवरी की रात में पीड़ित पर हमला किया गया और रविवार सुबह उनकी इलाज के दौरान मौत हो गई. आरोपियों में से एक व्यक्ति की बकरी गायब हो गई थी और दास पर चोरी करने का संदेह था, जिसके बाद बकरी के मालिक ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर दास की पिटाई की.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

गोलाघाट: असम के गोलाघाट जिले के एक सुदूरवर्ती गांव में तीन लोगों ने बकरी चुराने के संदेह में 45 वर्षीय व्यक्ति की पीट-पीट कर हत्या कर दी. पुलिस के एक अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी.

डेरगांव थाना क्षेत्र के ममरानी गांव में शनिवार (एक जनवरी) रात स्थानीय लोगों की मौजूदगी में हुई इस घटना के सिलसिले में दो लोगों को हिरासत में लिया गया है.

डेरगांव पुलिस थाने के प्रभारी अधिकारी प्रदीप चौधरी ने कहा कि हमले के पहले 12 घंटों में कोई शिकायत दर्ज नहीं की गई थी. चौधरी ने बताया, ‘पीड़ित की पहचान संजय दास के रूप में हुई है. उनके परिवार के सदस्य कुछ समय पहले ही थाने आए थे. इन्होंने शिकायत दर्ज कराई है, जिसके बाद हमने अभी मामला दर्ज कर लिया है.’

पुलिस के मुताबिक, दास पर तीन लोगों ने हमला किया था, जो उसी गांव के निवासी हैं. हमले के बाद दास को पहले डेरगांव सिविल अस्पताल ले जाया गया, लेकिन वहां के डॉक्टरों ने उसे जोरहाट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (जेएमसीएच) स्थानांतरित कर दिया. दास की रविवार तड़के मौत हो गई.

पुलिस ने जिन दो आरोपियों को हिरासत में लिया है, उनसे मामले की विस्तृत जानकारी हासिल करने के लिए पूछताछ की जा रही है.

चौधरी ने बताया, ‘हमारी जानकारी के अनुसार आरोपियों में से एक व्यक्ति की बकरी गायब हो गई थी और दास पर चोरी करने का संदेह था. बकरी के मालिक ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर दास की पिटाई की, जिससे उसकी मौत हो गई.’

असम विधानसभा के हाल में संपन्न शीतकालीन सत्र के दौरान सरकार ने कहा था कि वह कुछ अन्य राज्यों के समान पीट-पीटकर हत्या के मामलों के खिलाफ एक विधेयक लाने पर चर्चा करेगी.

इससे पहले जोरहाट शहर में 29 नवंबर 2021 को एक दुर्घटना को लेकर तीखी बहस के बाद भीड़ ने ऑल असम स्टूडेंट यूनियन (आसू) नेता अनिमेष भुइयां की पीट-पीट कर हत्या कर दी थी.

इस मामले में मुख्य आरोपी नीरज दास की गिरफ्तारी के कुछ घंटों बाद ही मौत हो गई थी.

जोरहाट पुलिस का कहना है था कि दास ने 30 नवंबर 2021 की आधी रात को पुलिस की हिरासत से आरोपी भागने की कोशिश की, जिस दौरान दुर्घटना में उसकी मौत हो गई. पुलिस का कहना था कि रात लगभग 1.30 बजे पुलिस वाहन से कूदकर भागने के दौरान एक तेज रफ्तार पुलिस वाहन ने उसे टक्कर मार दी थी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)