राजनीति

तेलंगाना प्रदेश भाजपा अध्यक्ष न्यायिक हिरासत में, पार्टी ने ‘लोकतंत्र की हत्या’ बताया

तेलंगाना भाजपा अध्यक्ष बी. संजय कुमार को दो जनवरी की रात उस समय हिरासत में लिया गया, जब वह अन्य भाजपा नेताओं के साथ राज्य सरकार के एक आदेश के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे थे, जो नए बनाए गए ज़िलों में सरकारी कर्मचारियों के ट्रांसफर और पोस्टिंग के संबंध में था. भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा है कि मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव हताशा में यह कार्रवाई कर रहे हैं.

बी. संजय कुमार. (फोटो साभार: फेसबुक)

करीमनगर/हैदराबाद: कोविड-19 प्रतिबंधों का उल्लंघन के आरोप में गिरफ़्तार भारतीय जनता पार्टी की तेलंगाना इकाई के अध्यक्ष और करीमनगर से सांसद बी. संजय कुमार को बीते सोमवार (तीन जनवरी) को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया. पुलिस ने इसकी जानकारी दी.

हालांकि, पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व ने पुलिस की कार्रवाई को ‘लोकतंत्र की हत्या’ करार दिया है.

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव हताशा में यह कार्रवाई कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि पार्टी को दक्षिणी राज्य में न केवल लोकप्रियता मिल रही है, बल्कि हाल में उपचुनाव में जीत मिली है, इससे राव हताश हो गए हैं .

पुलिस ने बताया कि कुमार को विभिन्न आरोपों में गिरफ्तार किया गया था, जिनमें आपदा प्रबंधन अधिनियम के प्रावधान के अलावा लोक सेवक की ओर से जारी आदेश के उल्लंघन का आरोप है.

कुमार को भारतीय दंड संहिता की धारा 333 के तहत गिरफ्तार किया गया है, जो गैर-जमानती है और सत्र अदालत में विचाराधीन है. भाजपा नेता को सोमवार की दोपहर को मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया था.

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बी. संजय कुमार को दो जनवरी की रात उस समय हिरासत में लिया गया, जब वह अन्य भाजपा नेताओं के साथ राज्य सरकार के एक आदेश के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे, जो नए बनाए गए जिलों में सरकारी कर्मचारियों के स्थानांतरण और पोस्टिंग के संबंध में था.

कुमार ने आरोप लगाया था कि इस आदेश से शिक्षकों और अन्य लोगों के तबादलों से उनके हितों को ठेस पहुंची है. वहीं राज्य की टीआरएस सरकार ने कहा था कि 23 नए जिले बनने के बाद तबादलों की जरूरत थी.

करीमनगर के पुलिस कमिश्नर वी. सत्यनारायण ने जानकारी दी कि अधिकांश भाजपा कार्यकर्ताओं ने मास्क नहीं पहना हुआ था और वे कोविड-19 प्रोटोकॉल का उल्लंघन करते हुए जमा हुए थे.

तेलंगाना भाजपा अध्यक्ष की गिरफ्तारी पर प्रतिक्रिया देते हुए नड्डा ने कहा कि तेलंगाना सरकार ने कुमार और भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ ‘अमानवीय’ व्यवहार किया, पुलिस ने उन्हें हिरासत में लेने से पहले पीटा.

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, ‘यह लोकतंत्र की हत्या है. हम इसकी कड़ी निंदा करते हैं.’

नड्डा ने शिक्षकों की मांगों के लिए समर्थन व्यक्त करते हुए कहा कि तेलंगाना भाजपा प्रमुख कोविड-19 के सभी प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अपने कार्यालय में शांतिपूर्वक विरोध कर रहे थे.

इससे पहले दो जनवरी की रात करीमनगर में कुमार के कैंप कार्यालय में उस समय तनाव व्याप्त हो गया, जब भाजपा कार्यकर्ताओं के विरोध के खिलाफ पुलिस जबरन कार्यालय के दरवाजे तोड़कर अंदर घुस गई थी.

पुलिस ने कहा था कि विरोध प्रदर्शन की अनुमति के लिए कोई आधिकारिक अनुरोध नहीं किया गया था और पार्टी कार्यकर्ताओं का जमावड़ा केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा कोविड​​-19 के प्रसार की रोकथाम के लिए जारी दिशा-निर्देशों के खिलाफ था.

कुमार ने कहा कि यह शांतिपूर्ण विरोध था, जिसकी योजना कोविड-19 दिशानिर्देशों के अनुसार आयोजित करने की बनाई गई थी.

उन्होंने पूछा कि सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति के नेताओं के कार्यक्रमों में कोविड-19 प्रावधानों का पालन क्यों नहीं किया जाता है.

हैदराबाद में भाजपा की रैली को पुलिस ने नहीं दी इजाजत

इस बीच भारतीय जनता पार्टी की तेलंगाना इकाई के अध्यक्ष की गिरफ्तारी के विरोध में पार्टी द्वारा प्रस्तावित एक रैली की अनुमति देने से हैदराबाद पुलिस ने मंगलवार को इनकार कर दिया. इस रैली में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के शामिल होने की उम्मीद थी.

हैदराबाद पुलिस आयुक्त सीवी आनंद ने कहा कि सार्वजनिक सभाओं पर कोविड-19 प्रतिबंधों के मद्देनजर रैली की अनुमति नहीं दी गई.

पार्टी सूत्रों के अनुसार, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बी. संजय कुमार की गिरफ्तारी के बाद पार्टी ने आज (मंगलवार) सिकंदराबाद में ‘शांति रैली’ का आह्वान किया है और आज शाम यहां पहुंचने वाले जेपी नड्डा उसमें शामिल होंगे.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)