दुनिया

ट्रंप ने बड़े मीडिया नेटवर्कों के लाइसेंस रद्द करने की धमकी दी

एनबीसी न्यूज़ ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा था कि ट्रंप अपने परमाणु हथियारों में दस गुना बढ़ोत्तरी चाहते हैं. ट्रंप ने इस ख़बर को फ़र्ज़ी बताया.

donald-trump-reuters

फोटो: रॉयटर्स

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उनकी परमाणु नीति पर दिखाए गए एक समाचार को लेकर धमकी दी है कि वह सभी बड़े अमेरिकी समाचार नेटवर्कों के प्रसारण अधिकार रद्द कर देंगे.

ट्रंप ने उन सभी पर फर्जी समाचार का प्रचार-प्रसार करने में शामिल होने का आरोप लगाया है. ट्रंप और उनके सहयोगियों ने मीडिया की इन संवेदनशील रिपोर्टों को गलत बताने के लिए बार-बार फर्जी खबरें शब्द का इस्तेमाल किया है लेकिन इन्हें गलत बताने के लिए कोई सबूत उपलब्ध नहीं कराए हैं.

अमेरिकी राष्ट्रपति, एनबीसी न्यूज की उस रिपोर्ट से नाराज थे जिसमें कहा गया था कि ट्रंप अपने परमाणु हथियारों में दस गुना बढ़ोत्तरी चाहते हैं. ट्रंप ने इस समाचार को बनावटी बताया.

उन्होंने कहा, एनबीसी और अन्य माध्यमों से आ रही सभी फर्जी खबरों को देखते हुए क्या उनके लाइसेंस को चुनौती देना उचित रहेगा? यह देश के लिए बुरा है.

ट्रंप ने बुधवार रात एक ट्वीट कर कहा, समाचार नेटवर्क इतने पक्षपातपूर्ण, विकृत और फर्जी हो गए हैं कि उनके लाइसेंसों को चुनौती देनी होगी और उचित लगने पर रद्द भी करना होगा. उन्होंने कहा कि यह खबर असत्य है कि वह परमाणु हथियारों में वृद्धि चाहते हैं.

गौरतलब है कि डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने से पहले ही उनके और मीडिया के बीच तनातनी के हालात हैं. वह मीडिया पर जब तक हमला बोलते रहते हैं. ट्रंप और उनके समर्थकों की शिकायत है कि मीडिया उन्हें लेकर पक्षपातपूर्ण अपनाता है और झूठी, प्रायोजित और भ्रमित करने वाली खबरें दिखाता है.

चुनाव के दौरान एक रैली में ट्रंप ने कहा था कि ‘मैं चालाक हिलेरी क्लिंटन के खिलाफ नहीं, धूर्त मीडिया के खिलाफ लड़ रहा हूं.’ कई अखबारों ने खुले तौर पर ट्रंप के राष्ट्रपति चुने जाने का विरोध किया था. ट्रंप के निशाने पर न्यूयॉर्क टाइम्स, बज़फीड, पॉलिटीको और वॉशिंगटन पोस्ट जैसे अखबार हैं, जिनपर वे अक्सर हमला बोलते हैं.