नॉर्थ ईस्ट

नॉर्थ ईस्ट डायरी: भाजपा ने कहा मेघालय में नहीं लगेगा गोमांस पर प्रतिबंध

इस हफ़्ते नॉर्थ ईस्ट डायरी में असम, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम के प्रमुख समाचार.

COW_PTI_3x2

फोटो: पीटीआई

शिलांग: भाजपा ने कहा कि मेघालय में गोमांस पर प्रतिबंध नहीं होगा. साथ ही उसने यह आरोप भी लगाया कि कांग्रेस अगले वर्ष होने वाले चुनाव से पहले राजनीतिक लाभ हासिल करने के लिए इस मुद्दे पर लोगों को गुमराह कर रही है.

20 अक्टूबर को राज्य भाजपा के अध्यक्ष शिबुन लिंगदोह ने कहा कि केंद्र ने मेघालय में गोमांस पर प्रतिबंध नहीं लगाया है.

उन्होंने यह भी कहा कि 23 मई की अधिसूचना में पशु बाजारों को नियमित किए जाने की बात है जिसमें पशु बाजारों के कामकाज और व्यापार के लिए लाए जाने वाले पशुओं के साथ व्यवहार की बात है.

भाजपा प्रवक्ता जेए लिंगदोह ने बयान जारी कर कहा कि पार्टी ने स्पष्ट कर दिया है कि पूर्वोत्तर राज्यों में इसे (बीफ बैन) लागू नहीं किया जाएगा. पशुधन राज्य का मामला है. इस पर राज्यों को निर्णय करना है. उन्होंने कहा कि राज्य में गोमांस प्रतिबंध लागू नहीं होगा.

उन्होंने यह भी स्पष्ट कहा कि गोमांस पर प्रतिबंध लगाना न तो अच्छी आर्थिक पहल है न ही संविधान सम्मत है.

असम: मुख्यमंत्री सोनोवाल ने गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की ज़रूरत पर ज़ोर दिया

Sarbanand Sonowal Facebook

सर्वानंद सोनोवाल (फोटो साभार: फेसबुक)

गुवाहाटी: असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की ज़रूरत पर जोर देते हुए कहा कि इससे एक व्यक्ति को सक्षम एवं कुशल बनने और मजबूत समाज बनाने में मदद मिलती है.

सोनोवाल ने कहा कि शिक्षा समाज के लिए मार्गदर्शक बल है और राज्य सरकार ने गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए गुणोत्सव शुरू किया जिसमें सरकारी प्रतिनिधि और सरकारी अधिकारी गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का आकलन करते हैं.

21 अक्टूबर को उन्होंने डिब्रूगढ़ में चाय बागान और अन्य इलाकों के 100 छात्रों को छात्रवृत्ति देने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, ‘शिक्षा ऐसा माध्यम है जिसके जरिए गरीबी रेखा से नीचे के लोग आवश्यक कौशल हासिल कर सफलता पा सकते हैं और असम सरकार सभी को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मुहैया कराने के लिए प्रतिबद्ध है.’

सोनोवाल ने शिक्षक समुदाय से स्वच्छता की ओर छात्रों के व्यवहार को बदलने में मदद करने का आग्रह किया ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किया गया स्वच्छ भारत अभियान सफल हो.

त्रिपुरा: मोदी और शाह पार्टी के लिए करेंगे प्रचार

amit shah tripura bjp dot org

मई 2017 में अगरतला में स्थानीय कार्यकर्ताओं के साथ अमित शाह (फोटो साभार: bjp.org)

अगरतला:  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह त्रिपुरा में पार्टी के लिए चुनाव प्रचार करेंगे. ज्ञात हो कि अगले साल फरवरी में त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव होना है .

त्रिपुरा भाजपा के उपाध्यक्ष सुबल भौमिक ने बताया कि शाह यहां 15 दिसंबर को आएंगे और मोदी चुनावी कार्यक्रम की घोषणा के बाद राज्य का दौरा करेंगे. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री दो चरणों में भाजपा के लिए प्रचार करेंगे लेकिन कार्यक्रम अभी तय नहीं हुआ है.

16 अक्टूबर को राज्य की कोर कमेटी में सघन प्रचार अभियान चलाने का फैसला हुआ. इसमें पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव, केंद्रीय पर्यवेक्षक सुनील देवधर और प्रदेश पार्टी अध्यक्ष बिप्लव देव मौजूद थे.

उन्होंने कहा कि भाजपा निर्वाचन क्षेत्रों और राज्य स्तर पर रैलियों और पदयात्राओं के जरिए एक नवंबर से राज्य में अपना चुनाव प्रचार शुरू करेगी.

अरुणाचल प्रदेश: रिजीजू ने कहा स्थानीय लोगों के अधिकारों की रक्षा की जाएगी

Rijiju and Sonowal at Apsu photo by twitter sonowal

आपसू के स्वर्ण जयंती समारोह में रिजीजू और सर्वानंद सोनोवाल (फोटो: Sarbananda Sonowal/twitter)

ईटानगर:  केंद्रीय मंत्री किरण रिजीजू ने कहा कि अरुणाचल  प्रदेश के मूल लोगों के अधिकारों की रक्षा की जाएगी और उन्हें चकमा एवं हाजोंग शरणार्थियों की वजह से निराश  नहीं होने दिया जाएगा.

ज्ञात हो कि उच्चतम न्यायालय ने 2015 में केंद्र सरकार को चकमा और हाजोंग शरणार्थियों को नागरिकता देने का आदेश दिया था. इनमें से ज्यादातर अरुणाचल प्रदेश में रहते हैं. ये लोग पांच दशक पहले पूर्वी पाकिस्तान (अब बांग्लादेश) से आए थे.

यह भी देखें: कौन हैं चकमा और हाजोंग और क्यों हो रहा है इन्हें भारतीय नागरिकता देने पर विवाद

गृह राज्यमंत्री ने राज्य सरकार और ऑल अरुणाचल प्रदेश स्टूडेंट्स यूनियन (आपसू) समेत सभी पक्षों से इस लंबित मुद्दे के समाधान के लिए समन्वित प्रयास करने का आवान किया.

15 अक्टूबर को रिजीजू ने आपसू के स्वर्ण जयंती समारोह में कहा, ‘वैसे हम विभिन्न क्षेत्रों में काम कर रहे हैं लेकिन राज्य के हित में हमारी संवेदनाएं समान हैं. हमें इस शरणार्थी मुद्दे का हल करने के लिए एक-दूसरे से संवाद करने और मिलकर कठिन प्रयास करने की जरूरत है.

इस मौके पर असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने पूर्वोत्तर के राज्यों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस क्षेत्र को देदीप्यमान बनाने के सपने को पूरा करने के लिए मिलकर काम करने का आह्वान किया.

स्टार्टअप के नए केंद्र के रूप में उभर रहा है पूर्वोत्तर: जितेंद्र सिंह

The Minister of State for Development of North Eastern Region (I/C), Prime Minister’s Office, Personnel, Public Grievances & Pensions, Atomic Energy and Space, Dr. Jitendra Singh addressing the two-day National Convention on “Transforming Northeast India”, in New Delhi on October 15, 2017.

केंद्रीय पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्री जितेंद्र सिंह फोटो साभार: पीआईबी

नयी दिल्ली: केंद्रीय पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा है कि पूर्वोत्तर क्षेत्र पूरे देश के युवाओं के लिए स्टार्ट अप की नयी मंजिल के रूप में तेजी से उभर रहा है.

सिंह ने 14-15 अक्टूबर को पूर्वोत्तर में बदलाव पर हुए दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन में कहा, ‘गत दो वर्षों में संपर्क और परिवहन सुविधाओं में सुधार और प्रशासनिक स्तर पर ध्यान केंद्रित करने के कारण अधिक से अधिक युवा पूर्वोत्तर राज्यों में उद्यमशीलता के लिए जोखिम उठा रहे हैं और क्षेत्र की क्षमताओं का लाभ उठा रहे हैं.’

सिंह ने अरुणाचल प्रदेश की मिसाल देते हुए कहा, ‘अरूणाचल प्रदेश सहित पूर्वोत्तर के कुछ क्षेत्रों में पर्याप्त भंडारण और परिवहन सुविधा न होने के कारण 40 प्रतिशत फल नष्ट हो जाते हैं, जबकि इनका इस्तेमाल किफायती दरों पर ताजा और शुद्ध फलों का रस बनाने के लिए किया जा सकता है.’

उन्होंने पूर्वोत्तर में विकास कार्यों का ब्योरा देते हुए कहा, ‘सिक्किम के पकयोंग,अरूणाचल प्रदेश के इटानगर और मेघालय के शिलांग में नए हवाई अड्डों के साथ बड़ी रेलवे लाइन की समयबद्ध योजना से व्यापार में सुविधा मिलेगी. पूर्वोत्तर क्षेत्र में औषधि और स्वास्थ्य क्षेत्र भी उद्यमियों को नए अवसर प्रदान कर सकता है. वर्षों तक रोगियों को क्षेत्र से बाहर कोलकाता या वेल्लूर भेजने का दौर रहा है, लेकिन निजी कॉर्पोरेट क्षेत्र को मिले प्रोत्साहन से क्षेत्र में नए अस्पताल खुले हैं और युवा उद्यमी अवसरों का लाभ उठा रहे हैं.

उन्होंने इस संदर्भ में पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्रालय द्वारा कुछ प्रमुख कॉर्पोरेट के साथ सार्वजनिक-निजी भागीदारी को प्रोत्साहन देने संबंधी कार्यक्रमों के बारे में भी जानकारी दी.

सिंह ने स्वयं सहायता समूहों को  घर में उद्यमिता  के लिए प्रोत्साहन हेतु कार्यक्रमों की जानकारी देते हुए कहा,  ‘इस संबंध मे युवा उद्यमी आगे आए हैं और उन्होंने हथकरघा और वस्त्र क्षेत्र में काम करने का निर्णय लिया है.’

वस्त्र मंत्रालय ने पूर्वोत्तर राज्यों के लिए विशेष योजनाओं की शुरूआत की है. सिंह ने युवाओं से सरकार की पूर्वोत्तर औद्योगिक विकास नीति और अधिक बजट सहयोग का ज्यादा से ज्यादा लाभ उठाने का आह्वान किया. सम्मेलन को संसद सदस्य विनय सहस्त्रबुद्धे ने भी संबोधित किया.

सिक्किम: राम माधव ने चामलिंग की पार्टी को सिक्किम तानाशाही फ्रंट करार दिया

Ram-Madhav-PTI

फोटो: पीटीआई

गंगटोक: भाजपा महासचिव राममाधव ने आज पवन कुमार चामलिंग की पार्टी एसडीएफ को सिक्किम तानाशाही फ्रंट करार देते हुए उनका मजाक उड़ाया.

उन्होंने कहा कि भाजपा और क्षेत्रीय दल 2019 के विधानसभा चुनाव के बाद मजबूत विकल्प प्रदान करेंगे.

15 अक्टूबर को राम माधव ने गंगटोक से करीब 30 किलोमीटर दूर सिंगटम बाजार में प्रदेश भाजपा मुख्यालय में संवाददाताओं से बात करते हुए कहा, ‘सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट बिल्कुल लोकतांत्रिक नहीं है, यह बस नाम के लिए लोकतांत्रिक है. एसडीएफ असल में सिक्किम डिक्टेटोरियल (तानाशाही) फ्रंट  है.

राम माधव ने इस दल पर राज्य में विपक्ष को आतंकित करने और उसे अपनी सरकार का मजबूत विकल्प बनाने से रोकने का आरोप लगाया.

उन्होंने कहा, ‘हमने सिक्किम में सुशासन गायब पाया है… बहुत अधिक भ्रष्टाचार फैला हुआ है और विकास भी गायब है.

राममाधव ने कहा कि भाजपा चाहती है कि सिक्किम में सत्तारूढ़ एसडीएफ का विकल्प देने के लिए लोकतांत्रिक दल साथ आएं.

बांग्लादेश, म्यामांर में पूर्वोत्तर के उत्पादों का निर्यात बढ़ाने के प्रयास  करेगा अपेडा

गुवाहाटी: कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (अपेडा) ने देश के पूर्वोत्तरी राज्यों के कृषि एवं प्रसंस्कृत कृषि उत्पादों का पड़ोसी बांग्लादेश और म्यामांर में निर्यात प्रोत्साहित करने के लिए कुछ कार्यक्रम आयोजित करने के प्रस्ताव रखे हैं.

ज्ञात हो कि अपेडा केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के अंतर्गत एक शीर्ष संगठन है. 21 अक्टूबर को इसने एक आधिकारिक बयान में कहा है कि बांग्लादेश में  ढाका स्थित भारतीय उच्चायोग तथा म्यामांर में यांगून स्थित भारतीय दूतावास के सहयोग से ये कार्यक्रम आयोजित करने का प्रस्ताव है.

म्यामांर में यह कार्यक्रम नवंबर तथा बांग्लादेश के ढाका और सिलहट में दिसंबर के पहले सप्ताह में आयोजित करने के प्रस्ताव रखे गए हैं.

वित्त वर्ष 2016-17 के दौरान बांग्लादेश को अपेडा द्वारा सूचीबद्ध उत्पादों का निर्यात 39.64 करोड़ डॉलर तथा म्यामांर को ऐसे उत्पादों का निर्यात 2.41 करोड़ डॉलर का रहा था.

बांग्लादेश को मुख्यत: चावल, सब्जियां, फल, गेहूं, मक्का, डेयरी उत्पाद और दालों तथा म्यामांर को चावल, मक्का, अन्न से तैयार उत्पाद, फल और सब्जियों के बीजों का निर्यात किया गया.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के आधार पर)

 

Categories: नॉर्थ ईस्ट, भारत, राजनीति

Tagged as: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,